डिफाल्टर किसानों को भी इस तरह मिलेगा ऋण

पैक्स के किसान सदस्य लेंगे मुख्यमंत्री ऋण समाधान योजना का लाभ

By: sunil vanderwar

Published: 02 Jun 2018, 12:59 PM IST

सिवनी. प्राथमिक कृषि सहकारी साख समितियों (पैक्स) के डिफाल्टर कृषक सदस्यों के बकाया कालातीत ऋ णों के निपटारे के लिए मुख्यमंत्री ऋ ण समाधान योजना लागू की गई है। किसान 15 जून 2018 तक अपने बकाया ऋ ण के मूलधन की 50 प्रतिशत राशि जमा कर इस योजना का लाभ ले सकेंगे।
योजना का लाभ लेने के लिए कृषक द्वारा बकाया मूलधन की 50 प्रतिशत राशि को 15 जून 2018 तक एक मुश्त अथवा किश्तों में जमा कराना होगा। इसके बाद निर्धारित प्रपत्र में आवेदन करना होगा। कृषक द्वारा जिस दिनांक को शेष आधे मूलधन की राशि चुकाई जाएगी। उसी दिन कृषक को इस राशि के बराबर का शून्य प्रतिशत ब्याज का नवीन नगद ऋ ण स्वीकृत कर दिया जायेगा। साथ ही, उस दिनांक को खाते में शेष बकाया ब्याज की पूरी राशि माफ कर दी जाएगी। कृषक को नवीन ऋ ण मान के अन्तर्गत उपलब्ध शेष साख सीमा का अतिरिक्त ऋण शून्य प्रतिशत ब्याज पर वस्तु ऋ ण के रूप में उपलब्ध होगा।
योजना में सम्मिलित होने वाले कृषकों को खरीफ 2018 सीजन में नगद ऋ ण की मात्रा आधे मूलधन राशि से अधिक नहीं होगी। ऋ ण का शेष भाग वस्तु ऋ ण के रूप में होगा। आगामी रबी सीजन 2018-19 और इसके बाद आने वाले कृषि मौसमों में यह बंधन लागू नहीं रहेगा और नगद एवं वस्तु ऋ ण का अनुपात नियमित श्रेणी के कृषकों की भांति रहेगा।
योजना की परिधि में गबन, धोखाधड़ी से संबंधित ऋ ण प्रकरण शामिल नहीं होंगे। जिला स्तर पर योजना का समयावधि में क्रियान्वयन कराने का उत्तरदायित्व जिले के उप-सहायक आयुक्त, सहकारिता और मुख्य कार्यपालन अधिकारी, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक का होगा। योजना में अपलेखित ब्याज की राशि का दायित्व भार 80 प्रतिशत राज्य शासन और 20 प्रतिशत संबंधित पैक्स संस्था द्वारा वहन किया जाएगा।

बोल्टेज कम, जल आपूर्ति प्रभावित
ग्राम पंचायत स्तर पर सबसे महत्वपूर्ण कार्यों में से एक पेयजल आपूर्ति को लेकर शासन-प्रशासन गंभीर है। सिवनी विकासखण्ड की उपतहसील एवं ग्राम पंचायत कान्हीवाड़ा में जनता को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।
कान्हीवाडा में पेयजल आपूर्ति करने वाले पूर्व नल चालक के काम छोड़ देने के बाद पेयजल व्यवस्था पटरी पर लौट नहीं पाई है। ग्राम पंचायत के नए नलचालकों को ग्राम की सप्लाई को विधिवत चलाने में समस्या आ रही है। इसके अलावा एक अन्य समस्या कम वोल्टेज की है। इसके कारण पेयजल आपूिर्त में समस्या हो रही है। बताया जा रहा है कि पिछले एक सप्ताह में दो मोटर जल चुकी हैं तथा पानी की टंकियों में भी जलभराव पूर्ण रूप से नहीं हो पा रहा है। इससे जल समस्या गहरा रही है।
ग्राम पंचायत कान्हीवाडा के प्रतिनिधियों ने इसके लिए विद्युत वितरण केन्द्र के जेई पर ध्यान न देने का आरोप लगाया है। इस सम्बंध में जेई सरफराज कुरैशी का कहना है कि उनके द्वारा लगातार पंचायत प्रतिनिधियों से वोल्टेज के संबंध में पूछा गया कि कितना कम आ रहा है आप मुझे बताए मैं तभी सुधार कर पाउंगा क्यूंकि मोटर जलने के और भी कारण हो सकते हैं। नागरिकों का कहना है कि कारण चाहे जो हों, समस्या दूर होनी चाहिए। इसलिए जनप्रतिनिधि व अधिकारी समस्या से कार्य कर व्यवस्था पर पटरी पर लाएं तो बेहतर होगा।

Show More
sunil vanderwar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned