डूंडासिवनी में मिला डेंगू मरीज

मलेरिया विभाग ने किया लार्वा सर्वे

By: santosh dubey

Published: 10 Nov 2017, 12:36 PM IST

सिवनी. नगर के कबीर वार्ड डूंडासिवनी क्षेत्र में डेंगू पॉजीटिव मरीज मिलने से स्वास्थ्य महकमें में खलबली मच गई है। मलेरिया विभाग के स्वास्थ्य अधिकारी, कर्मचारियों ने गुरुवार को सेंट्रल स्कूल के पीछे क्षेत्र स्थित 35 घरों में लार्वा सर्वे भी किया।
सहायक मलेरिया अधिकारी सुशीला मर्सकोले ने बताया कि डूंडासिवनी सेंट्रल स्कूल के पास किराए के मकान में रहने वाले शैलेन्द्र उईके (27) को डेंगू पॉजीटिव होने की रिपोर्ट मेडिकल कॉलेज जबलपुर से मिली है। मलेरिया अधिकारी ने बताया कि शैलेन्द्र जबलपुर में ट्रेनिंग में थे, दीपावली में दो दिन के लिए सिवनी घर आए थे फिर पुन: जबलपुर चले गए। एक सप्ताह बाद जबलपुर में बुखार आया जहां उन्होंने जबलपुर में ही जांच कराया। जांच के बाद डेंगू पॉजीटिव होने की पुष्टि हुई जिसका मेल स्वास्थ्य विभाग ने सिवनी मलेरिया विभाग को किया।
अब तक छह मरीज
मलेरिया विभाग से मिली जानकारी के अनुसार अब तक डेंगू का यह छटवां केश सामने आया है। एक ओर जहां मलेरिया विभाग, नगर पालिका विभाग मच्छरों की रोकथाम के लिए किए गए कार्यों का बखान करने से पीछे नहीं रहती वहीं जिले भर में डेंगू, मलेरिया, स्वाइन फ्लू के मरीजों के मिलने से स्वास्थ्य महकमें की कार्यप्रणाली पर प्रश्न चिन्ह लग रहा है। गुरुवार को क्षेत्र के जिन 35 घरों में लार्वा सर्वे किया गया वहां टीम को एक भी लार्वा नहीं मिला है। सर्वे टीम में सुपरवाइजर प्रभुदयाल यादव, फील्ड वर्कर खलिल मोहम्मद, रामसोनवाने आदि शामिल थे।
संवेदनशील क्षेत्रों में भी नहीं हो रहा काम
जिले के बरघाट, कुरई व लखनादौन क्षेत्र समेत कुछ अन्य ग्राम क्षेत्र मलेरिया, डेंगू बीमारी के लिए संवेदनशील गांव की श्रेणी में आने के बावजूद भी स्वास्थ्य विभाग द्वारा यहां दवा का छिड़काव, फागिंग आदि कार्य किए जाने में गंभीरता नहीं बरते जाने का आरोप ग्रामवासियों, जनप्रतिनिधियों द्वारा लगाए जा रहे हैं। ग्रामीणों का कहना है कि मलेरिया विभाग का अधिकांश काम काज महज कागजों पर ही चल रहा है।

santosh dubey Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned