तोतापरी आम के पौध रोपण को प्रोत्साहित करने हो रहे प्रयास

तोतापरी आम के पौध रोपण को प्रोत्साहित करने हो रहे प्रयास
इसमें विटामिन-ए, सी, के व ई, फॉलेट, कैल्शियम, फॉस्फोरस, ओमेगा-3 व मैग्नीशियम व फाइबर होता है। कैरी के पत्ते, गुठली आदि सभी उपयोगी हैं।

Sunil Vandewar | Updated: 11 Oct 2019, 12:10:11 PM (IST) Seoni, Seoni, Madhya Pradesh, India

चयनित किसानों को पौध रोपण के लिए मिलेगा अनुदान

सिवनी. खाद्य प्र-संस्करण को बढ़ावा देने के लिए आम की तोतापरी किस्म के पौध-रोपण को प्रोत्साहित करने का प्रदेश स्तर पर निर्णय लिया गया है। उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण विभाग द्वारा कलेक्टर और जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी को राज्य पोषित सघन पौध-रोपण योजना के अंतर्गत तोतापरी आम का अति उच्च सघन पौध-रोपण कराए जाने के बारे में निर्देश जारी किए गए हैं।
जानकारी के मुताबिक योजना के प्रथम चरण में होशंगाबाद, हरदा और बैतूल जिले को शामिल किया गया है। इन जिलों में आम की तोतापरी किस्म को अति उच्च सघनता पद्धति से रोपण करने वाले किसानों को पहले साल 43200 रुपये प्रति एकड़ अनुदान राशि प्रदान की जाएगी। पौध-रोपण के लिए ड्रिप पद्धति के माध्यम से सिंचाई की व्यवस्था करना अनिवार्य रहेगा। किसान निर्धारित दरों पर पौधे खरीदने के लिये स्वतंत्र होंगे। अगर कोई किसान पौधों की व्यवस्था करने में असमर्थ रहेगा, तो उद्यानिकी विभाग एमपी एग्रो के माध्यम से पौधे खरीदकर उसे उपलब्ध कराएगा। पौधे के मूल्य को भौतिक सत्यापन के बाद अनुदान राशि में समाहित किया जायेगा। इस योजना में किसानों का चयन क्लस्टर बनाकर किया जाएगा। चयनित किसानों को कम से कम एक एकड़ और अधिकतम 5 एकड़ की सीमा तक एक बार अथवा टुकड़ों में योजना का लाभ लेने की पात्रता होगी।
प्रथम चरण में अति उच्च सघन पौधरोपण
योजना के प्रथम चरण में वर्ष 2019-20 में होशंगाबाद, हरदा और बैतूल जिलों में कुल एक हजार एकड़ में आम की तोतापरी किस्म का पौध-रोपण करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इसके लिए चयनित किसानों को पहले साल में कुल 4 करोड़ 32 लाख रुपये अनुदान दिया जायेगा। दूसरे और तीसरे साल में अनुरक्षण की राशि योजना के प्रावधान अनुसार देय होगी। शेष जिलों के लिए प्रदेश स्तर से इस दिशा में रूपरेखा बनाई जाएगी।
किसानों को कराना होगा ऑनलाइन पंजीयन
राज्य पोषित सघन पौध रोपण योजना में आम की तोतापरी किस्म का वर्ष 2019-20 में अतिउच्च सघन पौध-रोपण कराने के लिये संबंधित कलेक्टर क्लस्टर का चयन करेंगे। क्लस्टर के अंतर्गत शामिल ग्रामों की सूची ऑनलाइन प्रदर्शित की जाएगी। किसानों का पंजीयन ऑनलाइन होगा। यदि कुछ किसान ऑनलाइन पंजीयन नहीं करा सकते हैं, तो उनके आवेदन ऑफलाइन प्राप्त कर वरिष्ठता के आधार पर उनका ऑनलाइन पंजीयन कराया जाएगा। उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव प्रति सोमवार योजना की समीक्षा करेंगे। कलेक्टर से क्लस्टर ग्रामों की सूची विभागीय पोर्टल पर अपलोड कराने को कहा गया है।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned