शिक्षकों की परीक्षा और परिणाम के बाद पदस्थापना का इंतजार

शिक्षकों की परीक्षा और परिणाम के बाद पदस्थापना का इंतजार

Sunil Vandewar | Publish: Aug, 11 2018 12:30:01 PM (IST) Seoni, Madhya Pradesh, India

सिवनी में ४०, बरघाट में २८, केवलारी उत्कृष्ट में २१ पदों पर होगी पदस्थापना

सिवनी. स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय एवं मॉडल स्कूलों में गत वर्ष की परीक्षा के दर्ज संख्या के आधार पर युक्तियुक्त करण की कार्रवाई की जाना है। इसके लिए जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय से कार्रवाई प्रचलन में है, वहीं कलेक्टर के निर्देशन में पदस्थापना आदेश जारी किया जाना है। डीइओ के अनुसार उक्त आदेश १५ अगस्त तक जारी किए जा सकते हैं।
गौरतलब है कि शिक्षकों के द्वारा नियम अनुसार उत्कृष्ट, मॉडल स्कूल में पदस्थापना के लिए परीक्षा दी गई थी। जिसके परिणाम उपरांत काउंसलिंग करते हुए शिक्षकों की पदस्थापना मेरिट के आधार पर विद्यालयों में की जाना है। अब पदस्थापना के आदेश कलेक्टर गोपालचंद्र डाड के द्वारा जारी किया जाना है, जिसका शिक्षकों को इंतजार है।
लोक शिक्षण आयुक्त जयश्री कियावत ने आदेश पत्र में कलेक्टर को स्पष्ट निर्देशित किया है कि स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा २०१३ में जारी पद संरचना के आधार पर वर्ष २०१४ में सभी हाइस्कूल एवं हायर सेकेण्डरी स्कूलों के लिए शिक्षकों की पूर्व से स्वीकृत पदों का स्कूलों की दर्ज संख्या के आधार पर युक्तियुक्तकरण किया गया था। बीते दिनों भोपाल में हुई बैठक में कई जिलों के द्वारा उत्कृष्ट विद्यालयों में दर्ज संख्या में वृद्धि हो जाने से पदों की संख्या बढ़ाने का प्रस्ताव दिया गया था। प्रस्ताव पर संज्ञान लेने के उपरांत वर्ष २०१७-१८ में वार्षिक परीक्षा में सम्मिलित विद्यार्थियों की संख्या के आधार पर संशोधित पदों की संख्या अनुसार पदस्थापना की स्वीकृति दी गई है। इसके साथ ही कहा गया है कि यदि पदों की संख्या के सम्बंध में कोई आपत्ति हो तो औचित्यपूर्ण प्रस्ताव प्रस्तुत किए जा सकते हैं। इसके साथ ही स्पष्ट किया गया है कि वर्ष २०१८-१९ की दर्ज संख्या के आधार पर पदों की स्वीकृति का कोई प्रावधान नहीं है।
संशोधित पदों की संख्या के विषय मान से २०१३ में जारी पदसंरचना के अनुसार शाला में संचालित विषयों के आधार पर भरा जा सकेगा। विज्ञान, कला एवं वाणिज्य संकाय होने पर ४४० विद्यार्थी तक (१० वर्ग तक) गणित, हिन्दी, अंग्रेजी, जीव विज्ञान, इतिहास, संस्कृत, भौतिक, रसायन, राजनीति शास्त्र, भूगोल अथवा अर्थशास्त्र जो भी विषय संचालित हो, वाणिज्य, कृषि अंग्रेजी, हिन्दी के लिए एक-एक पद निर्धारित किया गया है। यदि किसी स्कूल में वाणिज्य संकाय नहीं है तो इन दो पदों पर पदस्थापना नहीं की जाएगी। ये पद रिक्त रहेंगे। यदि किसी स्कूल में कृषि संकाय है तो उसके लिए दो पद होंगे।
जिन स्कूलों में अंग्रेजी के सेक्शन संचालित है, उन स्कूलों में काउंसलिंग से शिक्षक पदस्थापना के लिए अंग्रेजी में पढ़ाने की क्षमता का भी ध्यान रखा जाना है। यह भी स्पष्ट कहा गया है कि प्रत्येक शिक्षक को न्यूनतम ६ पीरीयड पढ़ाना अनिवार्य है। इसके अलावा प्राचार्यों को २ पीरीयड पढ़ाने के निर्देश पूर्व से जारी हैं। पदों का विषयमान से वितरण के लिए जिस संकाय में अधिक विद्यार्थी होंगे उस संकाय के लिए प्रति ५० से ६० विद्यार्थी तक एक शिक्षा रखा जा सकेगा, किंतु किसी भी स्थिति में निर्धारित दर्शित पदों से अधिक पदों पर पदस्थापना नहीं की जा सकेगी। साथ ही ऐसे किसी भी पद को नहीं भरा जाएगा, जिसमें विद्यार्थी अध्ययनरत नहीं हैं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned