निर्मल भाव से पहुंचे सुदामा को भगवान का मिला सानिध्य

निर्मल भाव से पहुंचे सुदामा को भगवान का मिला सानिध्य

Santosh Dubey | Publish: May, 16 2019 01:16:46 PM (IST) Seoni, Seoni, Madhya Pradesh, India

मेहारबोड़ी में जारी श्रीमद्भागवत कथा

 

सिवनी. ग्राम मेहराबोडी में चल रही कथा अमृत मंथन के अंतर्गत श्रीमद्भागवत कथा में बुधवार को आवाहित देवी देवताओं का पूर्ण पूजन और व्यास पूजा के बाद अपने प्रवचनों में आचार्य महेंद्र मिश्र ने प्रद्दुम्न का जन्म और उसके हरण की कथा के साथ, भगवान श्रीकृष्ण को मणि की चोरी का मिथ्या कलंक का वृतांत बताया।
उन्होंने आगे कहा कि भगवान कृष्ण ने कालिंदी आदि आठ कन्याओं से विवाह और भौमासुर का वध कर उसके कैद से मुक्त कराईÓ सोलह हजार एक सौ कन्याओं से विवाह किया। राजा नृग की कथा के बाद नारद को ग्रहस्थ लीला का भिन्न-भिन्न रूप दिखाया।
सुदामा चरित्र का वर्णन करते हुए बताया शुकदेवजी ने सुदामा का चरित्र सुनाया, भागवत की कथा करते हुए शुकदेवजी दोबारा समाधिस्थ हो गए थे। उस समय अन्य ऋषियों ने वेद मन्त्रों के द्वारा उनको सचेत किया था ।
सुदामाजी की कथा व्याख्या के दौरान, सचित्र जीवंत बाल कलाकारों की भूमिकाओं के साथ एक नवीन चित्रण कथा मंच पर प्रस्तूति भी किया गया। जिसे देखकर लोग आनन्द से विभोर हो गए।
पहली समाधी शुकदेवजी की तब लगी जब श्री कृष्ण ने गोप बालक, गाय, बछड़ों आदि का रूप लेकर ब्रम्हा को अपनी माया का दर्शन कराया था और दूसरी बार सुदामा चरित्र के समय बताया। सुदामा महाज्ञानी कृष्ण के मित्र हैं, वे सारे दिन प्रभु सेवा में विताते थे। सुदामा जब निर्मल भाव में आए तो भगवान की सानिध्य प्राप्त हुई। कथा में उदासी अखाड़ा के सन्त बालक दास भी उपस्थित थे।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned