साहब कब तक जर्जर दीवार, टपकती छत के नीचे लगेगा दफ्तर

पूर्व डीइओ ने किए थे प्रयास, कर्मी बता रहे परेशानी

By: sunil vanderwar

Published: 07 Jun 2018, 01:45 PM IST

सिवनी. करीब चार दशक पुराने हो चुके भवन में संचालित जिला शिक्षा अधिकारी (डीइओ) कार्यालय में छत और दीवारें गुजरते समय के साथ अधिकारी-कर्मचारियों के लिए समस्या का सबब बन रही हैं।

इस कार्यालय में कक्ष की कमी साफ नजर आती है। कर्मचारी छोटे-छोटे कक्षों में सरकारी दस्तावेजों को सम्भालने के हरसंभव प्रयास कर रहे हैं। परीक्षा कक्ष से लेकर सतर्कता, स्थापना, क्रीड़ा कक्ष व अन्य में स्थिति ऐसी है कि दीवारों से ईंटें नजर आने लगी हैं। छत से कबेलू हट गए हैं और अधिक बारिश होने पर पानी अंदर तक आ रहा है।
यहां कार्यालय में स्थानाभाव के कारण परिसर में ही शौचालय का उपयोग किया जा रहा है। इससे पूरा परिसर बदबू से भरा रहता है। यहां के कर्मी और बाहर से आए लोग परेशानी बयान कर रहे हैं। लेकिन हालात में सुधार नहीं हो रहा है।
पूर्व डीइओ ने लिखा था पत्र -
पुराने और जर्जर हो चुके भवन में कार्यालय संचालित करने से हो रही समस्याओं को देखते हुए पूर्व जिला शिक्षा अधिकारी निर्मला पटले के द्वारा शिक्षा विभाग के संभागीय कार्यालय जबलपुर से लेकर भोपाल तक प्रयास किए थे। जिस पर उन्हें सहयोग का आश्वासन भी मिला था। किंतु उनके तबादले के बाद इस ओर ध्यान नहीं दिए जाने से कार्रवाई आगे नहीं बढ़ पाई।
कबेलू के ऊपर लगाते हैं पॉलिथिन -
बारिश के दौरान डीइओ कार्यालय में कक्ष तक पानी जमा होने लगता है। ऐसे में पूरे छत के कबेलू के ऊपर पॉलिथिन या तिरपाल डालना पड़ता है। कई बार अधिक आंधी के कारण ये भी उड़ जाते हैं। इससे सरकारी कागजात की सुरक्षा को लेकर अधिकारी-कर्मचारी ङ्क्षचतित रहते हैं।

निजी स्कूलों की पहली कक्षा में नि:शुल्क प्रवेश
प्रदेश में शिक्षा का अधिकार कानून में प्राइवेट स्कूल की प्रथम कक्षा में नि:शुल्क प्रवेश के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया 8 जून से शुरू की जा रही है। ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि 23 जून 2018 निर्धारित की गई है।
आवेदन पत्र 8 जून से संबंधित जनशिक्षा केन्द्र, बीआरसी, बीओ कार्यालय, जिला शिक्षा अधिकारी और जिला शिक्षा केन्द्र कार्यालय से नि:शुल्क प्राप्त किए जा सकते हैं। ऑनलाइन आवेदन का प्रारूप आरटीइ पोर्टल पर उपलब्ध है।
नि:शुल्क प्रवेश के लिए आवेदकों का चयन ऑनलाइन लॉटरी द्वारा 30 जून को किया जाएगा। इस संबंध में विस्तृत निर्देश आरटीइ पोर्टल पर उपलब्ध हैं। ऑनलाइन प्रक्रिया में आवेदक स्वयं पोर्टल पर जाकर निर्धारित फार्म में पंजीयन करवा सकते हैं। फार्म के साथ पात्रता संबंधी कोई भी एक दस्तावेज अपलोड किया जाएगा। आवेदक द्वारा पोर्टल से जनरेट प्रति को अपने पास सुरक्षित रखा जाएगा। आवेदन में कोई समस्या अथवा कठिनाई होने की स्थिति में संबंधित विकासखण्ड के बीआरसी कार्यालय में हेल्प डेस्क से मदद ली जा सकती है। आवेदकों को स्कूल आवंटन की जानकारी बीआरसीसी कार्यालय के सूचना-बोर्ड पर उपलब्ध रहेगी। रेण्डम प्रक्रिया से आवंटन के पश्चात बच्चों को प्रवेश के लिए दस्तावेजों के साथ 3 जुलाई से 10 जुलाई तक विकासखण्ड के बीआरसी कार्यालय में जाना होगा।

Show More
sunil vanderwar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned