एक शाला एक परिसर पर कैसे लगाएं शाला

एक शाला एक परिसर पर कैसे लगाएं शाला

Mantosh Kumar Singh | Publish: Jul, 10 2019 11:31:17 AM (IST) Seoni, Seoni, Madhya Pradesh, India

कम पड़ रहे हैं विद्यार्थियों के लिए कमरे

सिवनी/छपारा. शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय बीटीआई भवन पर विगत कई वर्षों से संचालित हो रहा है। जिसमें विद्यार्थियों की दर्ज संख्या के मुताबिक कमरे कम पड़ रहे हैं। जिनमें आज भी बुनियादी सुविधाओं का अभाव है। जिसकी मांग विद्यालय के प्राचार्य के द्वारा समय-समय पर की जाती रही हैं। लेकिन उक्त मांगों को अब तक दर्ज संख्या के अनुरूप मांग पूरी नहीं की गई है। स्थिति यह है कि उत्कृष्ट विद्यालय मिडिल, हाई स्कूल और हायर सेकण्डरी की दर्ज संख्या स्कूल प्रबंधन के मुताबिक 14 सौ से अधिक बताई जा रही है। उनके बैठने के लिए विद्यालय परिसर में पर्याप्त कमरे नहीं है। अब जबकि एक शाला एक परिसर के आदेश स्कूल को संचालित करने के मिल चुके हैं। क्योंकि छपारा नगर का उत्कृष्ट विद्यालय जिले का एकमात्र स्कूल था जो दो शिफ्टों में संचलित होता था। लेकिन इस आदेश के बाद से स्कूल प्रबंधन असमंजस में पड़ा हुआ है आखिर किस तरह से कक्षाओ संचालन किया जाएगा। क्योंकि प्रबंधन ने जानकारी दी कि उत्कृष्ट विद्यालय के क्लास रूमो में एक क्लास रूम में अधिकतम 40 विद्यार्थियों की बैठने की क्षमता है। जबकि इन क्लास रूमो में 60 से ऊपर विद्यार्थी बैठाने की दर्ज संख्या निकल कर आ रही है।
उत्कृष्ट विद्यालय पुरानी बिल्डिंग पर ही कई वर्षों से संचालित हो रहा है। जो कवेलू वाला है। इस पर ही प्राचार्य का ऑफिस भी है। इसी भवन पर कई क्लासरूम भी संचालित होते हैं। जिनसे बारिश के दिनों में कवेलू वाले क्लास रूम में पानी भी टपकता है। बावजूद इसके इन्हीं पर क्लास संचालित हो रही हैं। हर साल बढ़ रही विद्यार्थियों की दर्ज संख्या को लेकर नई बिल्डिंग बनाए जाने की मांग उठ रही है। लेकिन इसको लेकर अब तक प्रशासनिक स्तर से कोई कदम नहीं उठाए गए हैं।
नए भवन बनाने से समस्याओं का हो सकता है समाधान-
उत्कृष्ट विद्यालय में विद्यार्थियों की बढ़ती दर संख्या को देखते हुए नए भवन बनाएं जाने की मांग उठ रही है। जिससे एक ही क्लास रूम में क्षमता से अधिक बैठने वाले विद्यार्थियों को हो रही परेशानी से निजात मिल सकती है। विद्यालय में संचालन के लिए व्यावसायिक विषय और कृषि संकाय को शुरू करने की मांग उत्कृष्ट विधालय में पूर्व से संचालित विषयो में कला संकाय, गणित, विज्ञान संकाय के अलावा पुराना व्यवसायिक विषय पढ़ाया जाता था। वह भी इस वर्ष से शासन के आदेश से बंद कर दिया गया हैं। जिससे दसवी पास विद्यार्थियों के पास विज्ञान के आलावा सिर्फ कला संकाय ही बचता है। जिसको लेकर भी उत्कृष्ट विद्यालय के प्राचार्य द्वारा पत्राचार करके विद्यालय में न्यू व्यावसायिक विषय और कृषि संकाय विषय जो कभी इस विद्यालय में संचालित होता था इसको पुन: प्रारंभ करने की मांग अपने उच्चाधिकारियों से की है। जिससे इस विद्यालय में पढऩे वाले विद्यार्थियों को नए विषयो की सुविधा मिले न कि मजबूरी में आट्र्स विषय पढऩा पढ़े।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned