जिला मुख्यालय के शासकीय कार्यालयों में नहीं हो रही कर्मचारियों की सौ फीसदी उपस्थिति

नपा, जनपद पंचायत, कृषि विभाग, डीइओ कार्यालय, पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के मुखिया नहीं मिले दफ्तर में

By: akhilesh thakur

Published: 16 Sep 2021, 10:53 AM IST

सिवनी. कोविड-19 की दूसरी लहर समाप्त हो चुकी है। तीसरी लहर आनी संभावित है। इन सबके बीच कोविड-१९ के गाइड लाइन का पालन करते हुए कार्यालयों में सौ फीसदी कर्मचारियों और अधिकारियों की उपस्थित के निर्देश शासन ने जारी कर दिए हैं। लेकिन धरातल पर ऐसा नजर नहीं आ रहा है। अब भी अधिकांश कार्यालयों में उसके मुखिया सहित कर्मचारी दफ्तर निर्धारित समय पर पहुंचने से परहेज कर रहे हैं। यह नजारा बुधवार को 'पत्रिका टीम ने कैमरे में कैद किया है। किसान कल्याण एवं कृषि विकास विभाग के उप संचाकल, जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय के डीइओ, जनपद पंचायत सीइओ, पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के सहायक संचालक, नगर पालिका के सीएमओ, मत्स्य विभाग के उप संचालक, शहरी एवं ग्रामीण परियोजना क्रमांक-दो की परियोजना अधिकारी कार्यालय में नहीं पहुंची थी। वहां मिले कर्मचारियों ने उनके नहीं आने का कोई संतोषजनक उत्तर नहीं दिया। कलेक्टर डॉ. राहुल हरिदास फटिंग ने शासन का निर्देश आते ही जिले के सभी विभाग प्रमुखों को सख्ती से सौ फीसदी कर्मचारियों की उपस्थिति के साथ कार्यालय लगाने के आदेश जारी किए थे। अब देखना यह है कि अनुपस्थित रहने वाले के खिलाफ क्या कार्रवाई की जाती है।


नगर पालिका
नगर पालिका कार्यालय से शहरी क्षेत्र के आमजनों का सीधा संपर्क है। सड़क, सफाई, पानी जैसी जरूरतों और समस्याओं के लिए नागरिक यहां पहुंचते हैं। ऐसे में कर्मचारियों का समय पर पहुंचना जरूरी है, लेकिन बुधवार को ऐसा नजारा नपा कार्यालय में नहीं दिखा। कार्यालय में ज्यादातर कुर्सियां खाली थीं। कुछ कक्ष में पंखा व लाइट चालू थे, लेकिन कर्मचारी नहीं पहुंचे थे। नपा सीएमओ भी कार्यालय में नजर नहीं आए। वहां मौजूद कर्मचारियों ने बताया कि सभी एक-एक कर आएंगे।


मत्स्योद्योग उपसंचालक कार्यालय
कलेक्ट्रेट कार्यालय के निकट उपसंचालक मत्स्योद्योग कार्यालय में उपसंचालक और कर्मचारियों की अधिकांश कुर्सियां खाली नजर आईं। वहां मौजूद कर्मचारी ने बताया कि अभी साहब और कर्मचारी आते ही होंगे।


बाल विकास परियोजना कार्यालय
शहर में बस स्टैण्ड के समीप महिला बाल विकास विभाग के शहरी एवं ग्रामीण परियोजना क्रमांक दो का कार्यालय स्थित है। यहां 11.20 बजे तक न तो परियोजना अधिकारी पहुंचे थे और न ही पूरे कर्मचारी। कई कक्षों में ताला लटका नजर आया। मौजूद भृत्य ने बताया कि अधिकारी अब तक नहीं आए हैं। कब तक आएंगे कुछ मालूम नहीं हैं।


किसान कल्याण एवं कृषि विभाग
कृषि विभाग कार्यालय में संचालक सुबह ११.२८ बजे तक नहीं पहुंचे थे। कार्यालय के कुछ टेबल खाली थे। अन्य पर मौजूद कर्मचारियों ने बताया कि कुछ कर्मचारियों की तैनाती नहीं है, जो हैं वे सभी लोग कार्यालय आते हैं। स्थापना शाखा की प्रभारी ने बताया कि सारे कर्मचारी आ रहे हैं, अभी जो नहीं आए हैं, वे कार्यालय पहुंच जाएंगे।

आदिम जाति कल्याण विभाग
आदिम जाति कल्याण विभाग के सहायक आयुक्त एसएस मरकाम कार्यालय में मिले। उनसे मिलने के लिए बाहर कुछ लोग इंतजार कर रहे थे। उन्होंने बताया कि कार्यालय में सभी कर्मचारी आ रहे हैं।

डीइओ कार्यालय
डीइओ कार्यालय में डीइओ कक्ष खुला था, लेकिन वे नहीं थे। अन्य कार्यालय में कर्मचारी नजर आए, जो अपने-अपने कार्यों में मशगुल दिखाई दिए। सहायक संचालक का कक्ष खुला था, लेकिन वे कक्ष में नहीं थे। उनका पंखा और लाइट जल रहा था।

जनपद पंचायत सीइओ कार्यालय
जनपद पंचायत सीइओ कार्यालय में सीइओ के कक्ष में कुंडी लगी थी। कार्यालय की अधिकांश कुर्सियां खाली थी। कार्यालय में मिली एक महिला ब्लॉक समन्वयक ने बताया कि सीइओ नहीं आए हैं। क्यों नहीं आए और कब तक आएंगे? किसी को नहीं मालूम है।

तहसीलदार कार्यालय
तहसीलदार कार्यालय के बाहर नोटिस मिलने के बाद दर्जनभर से अधिक महिलाएं पेशी पर पहुंची थी, लेकिन तहसीलदार के नहीं होने से उनको बाहर इंतजार करना पड़ा। तहसीलदार की कुर्सी खाली थी। वहां मिले कर्मचारी ने बताया कि तहसीलदार एसडीएम के यहां चल रही मीटिंग में शामिल होने गए हैं।

akhilesh thakur Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned