उत्कृष्ट विद्यालय मामले में अब जांच कमेटी २७ को करेगी जवाब-तलब

उत्कृष्ट विद्यालय मामले में अब जांच कमेटी २७ को करेगी जवाब-तलब

Sunil Vandewar | Publish: Apr, 17 2018 11:46:02 AM (IST) Seoni, Madhya Pradesh, India

उत्कृष्ट विद्यालय केवलारी में हुई वित्तीय अनियमितता का मामला

सिवनी. शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय केवलारी में वित्तीय अनियमितता के मामले में जांच के लिए सोमवार को कमेटी मौके पर पहुंची और दोनों पक्षों को तलब किया। मौके पर निलंबित प्राचार्य शीतल प्रसाद सरेयाम, वरिष्ठ अध्यापक पीडी नाग सहित अन्य की मौजूदगी रही।

जांच अधिकारी शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय ढुटेरा के प्राचार्य केएल झारिया एवं सरेखा विद्यालय के प्राचार्य मरावी जांच के लिए शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय केवलारी पहुंचे थे। उन्होंने बताया कि निलंबित प्राचार्य द्वारा वित्तीय अनियमितता के मामले में संस्था के वरिष्ठ अध्यापक पर आरोप लगाए गए हंै, इससे जांच में उनका पक्ष लिया जाना था। किंतु वरिष्ठ अध्यापक ने जांच कमेटी के समक्ष उपस्थित होकर कहा कि उन्हें विभागीय कार्यालय से जांच के बिंदुओं का लिखित सूचना पत्र प्राप्त नहीं हुआ है। ऐसे में उन्हें अपने पक्ष में आवश्यक दस्तावेज एकत्रित करने के लिए समय दिया जाना चाहिए। तब जांच कमेटी ने डीईओ कार्यालय को अवगत कराकर इस प्रकरण की जांच के लिए २७ अपै्रल का दिन तय किया है। इस दिन दोनों पक्षों से उपस्थित होने को कहा गया है।
वरिष्ठ अध्यापक ने जांच के बिंदुओं की पूर्ण जानकारी नहीं होने की बात कहकर अतिरिक्त समय मांगा। इस पर कमेटी ने अगली तारीख में जांच के लिए उपस्थित होने को कहा है।

जांच कमेटी से प्राचार्य कुमरे को किया अलग
शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय केवलारी में हुई वित्तीय अनियमितता और प्राचार्य के निलंबन के मामले में सोमवार को जांच कमेटी को मौके पर पहुंचना था। लेकिन इससे ठीक पहले डीईओ कार्यालय से जारी हुए एक आदेश ने सबको चौंका दिया है। जांच के लिए नियुक्त शासकीय हायर सेकेण्डरी स्कूल पाण्डियाछपारा के प्राचार्य एसएस कुमरे को जांच कमेटी से अलग कर दिया गया है। इस मामले में प्राचार्य कुमरे ने भी कई सवाल उठाए हैं।
जांच कमेटी से हटाने पर खड़े हुए सवाल -
शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय केवलारी के निलंबित प्राचार्य शीतल प्रसाद सरेयाम द्वारा डीईओ एसपी लाल को पूर्व में आवेदन देकर विद्यालय के वरिष्ठ अध्यापक एवं कार्य प्रबंधन प्रभारी को दोषी ठहराया था। पत्रिका द्वारा इस मामले को उठाए जाने के बाद डीईओ ने जांच के लिए दो प्राचार्यों की कमेटी गठित कर एक सप्ताह में जांच रिपोर्ट मांगी थी। इसमें हायर सेकेण्डरी स्कूल पांडियाछपारा के प्राचार्य एवं शासकीय हायर सेकेण्डरी स्कूल सरेखा के प्राचार्य शामिल थे। उन्हें इस प्रकरण की जांच के सम्बंध में १६ अपै्रल को केवलारी पहुंचना था, वहीं सभी सम्बंधितों को सूचित कर पहुंचने को कहा गया था। लेकिन ठीक इससे पहले जांच में नियुक्त अधिकारी एसएस कुमरे को जांच से अलग किए जाने की सूचना देकर शासकीय हायर सेकेण्डरी स्कूल ढुटेरा के प्राचार्य केएल झारिया को जांच अधिकारी नियुक्त कर दिया गया।
इस मामले में डीईओ आफिस से जानकारी लेने पर बताया गया कि प्राचार्य द्वारा जिस वरिष्ठ अध्यापक के विरूद्ध आरोप लगाए गए हैं, उन्होंने डीईओ के समक्ष उपस्थित होकर जांच में नियुक्त अधिकारी एसएस कुमरे को हटाकर अन्य प्राचार्य को नियुक्त किए जाने का पत्र सौंपा था। इस पर डीईओ के निर्देश पर ११ अपै्रल को इ-मेल के माध्यम से प्राचार्य एसएस कुमरे को जांच कमेटी से अलग किए जाने की मेल पर सूचना दी गइ थी। इसके बाद लिपिकों की हड़ताल के दौरान डीईओ कार्यालय के बाबू ने मोबाइल पर प्राचार्य कुमरे को बताया था कि इनके स्थान पर ढुटेरा स्कूल के प्राचार्य केएल झारिया जांच करेंगे।
बिना उचित कारण बताए जांच से किया अलग -
शासकीय हायर सेकेण्डरी स्कूल पांडियाछपारा प्राचार्य एसएस कुमरे ने कहा कि मैंने जांच के लिए प्रकरण को कई दिनों तक सूक्ष्मता से समझकर दोनों पक्षों को जांच के लिए सोमवार को उपस्थित होने को कहा था। लेकिन इससे पहले ही मुझे जांच कमेटी से अलग कर दिया गया। इस तरह बिना उचित कारण बताए अचानक जांच कमेटी से अलग किया जाना अजीब बात है।
निष्पक्ष और शीघ्र जांच के निर्देश-
डीईओ एसपी लाल ने कहा है कि उत्कृष्ट विद्यालय केवलारी के प्रकरण में नियुक्त जांच कमेटी को निष्पक्ष और शीघ्रता से जांच प्रतिवेदन देने को कहा गया है। जांच प्रतिवेदन के आधार पर आगे की कार्रवाई तय की जाएगी।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned