जानिए ऐसा क्या हुआ कि वन विभाग के अधिकारी ने हत्या कर जला दिया शव

तीन आरोपी गिरफ्तार एक फरार

By:

Published: 07 Jun 2018, 01:02 PM IST

सिवनी. जंगल से लकड़ी बीनकर अपने परिवार का भरपोषण करने वाले ग्राम गंगपुर बरघाट निवासी ग्रामीण को डिप्टी रेंजर और तीन अन्य चौकीदारों ने निर्ममतापूर्वक पिटाई कर उसे मौत के घाट उतार दिया तथा शव को सिवनी-बालाघाट सीमा के घने जंगल क्षेत्र में जला दिया। परिजनों की पूछताछ से घबड़ाए डिप्टी रेंजर बुधवार को जब बरघाट थाना आत्मसर्पण करने पहुंचे और हत्या किए जाने की बात बताई तो पुलिस भी यह सुन हतप्रभ रह गई। पुलिस ने डिप्टी रेंजर समेत दो चौकीदारों को गिरफ्तार कर लिया है एक चौकीदार फरार बताया जा रहा है।
ग्राम गंगपुर निवासी रूपचंद सोनवाने मंगलवार की सुबह जब गांव के समीपस्थ जंगल लकड़ी लेने गया था तभी वहां डिप्टी रेंजर संतोष उइके व अन्य तीन चौकीदारों ने रूपचंद को पकड़ कर उसे फारेस्ट की चौकी कोडिय़ा लेकर आए। पूछतांछ के दौरान रूपचंद को डिप्टी रेंजर और चौकीदारों ने निर्ममतापूर्वक पिटाई की जिससे उसके प्राण पखेरू उड़ गए। रूपचंद की मृत्यु हो जाने से घबड़ाए वन कर्मी ने शव को ठिकाने लगाने के लिए उडऩदस्ता के वाहन में शव को बोतलकसा के जंगल ले गए। वहां उन्होंने शव को आग के हवाले कर वापस लौट आए। वहीं शाम को जब परिजनों ने डिप्टी रेंजर व चौकीदारों से पूछा कि रूपचंद कहा है तब उन्होंने कहा कि उसे तो काफी समय पहले छोड़ दिए हैं पता नहीं वह कहां है। परिजनों व ग्रामवासियों ने जैसे ही पुलिस थाने जाने की बात कही तो डिप्टी रेंजर इस पर घबड़ा गया। वहीं बुधवार को सुबह डिप्टी रेंजर बरघाट थाना पहुंचा और आत्मसमर्पण करते हुए घटना की पूरी जानकारी पुलिस को बता दी।
रूपलाल की हत्या और शव को जलाने से नाराज परिजन व ग्रामवासियों ने ग्राम कौडिय़ा चौकी के पास जाम लगा दिया। बालाघाट-सिवनी मार्ग लगभग एक घण्टे तक जाम रहा। यहां से गुजरने वाले वाहन चालकों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। मौके पर बड़ी संख्या में पुलिस बल पहुंचा तथा पुलिस अधीक्षक विवेक राज सिंह भी पहुंचकर ग्रामीणों को आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई किए जाने की समझाइश दी। तब कहीं जाकर ग्रामीण शांत हुए। वहीं जंगल में मृतक के जले हुए अवशेष व हड्डियां पुलिस ने बरामद कर लिया है।
पुलिस ने बताया कि डिप्टी रेंजर संतोष उइके, चौकीदार शिकेन्द्र हरिनखेड़े, सुरेन्द्र हरिनखेड़े को गिरफ्तार कर लिया गया है। एक अन्य फरार आरोपी भी शीघ्र गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

सड़ी गली अवस्था में मिला शव
छपारा. थाना मुख्यालय से 30 किलोमीटर दूरी में बसे गांव लकवा में खेत के करीब अज्ञात व्यक्ति का शव सड़ी गली अवस्था में मिला है। शव मिलने से क्षेत्र में सनसनी फैल गई है। हालांकि लाश की शिनाख्त नहीं हो पाई है।
स्थानीय ग्रामीणों ने हत्या की आशंका जताई है। पुलिस ने शाव को मौके से कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। वही थाना प्रभारी राजन उइके का कहना है पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। मर्ग कायम कर विवेचना में लिया है।

सिम नहीं लौटाने पर की थी हत्या
सिवनी. वैनगंगा नदी पुलघाट सुनवारा पर 45 वर्षीय बलराम पिता श्रीराम कुशवाहा का शव मिलने पर इस हत्याकांड की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है। गांव के आरोपी ने मोबाइल की सिम की लेन-देन की बात पर बलराम की हत्या करना स्वीकारा।
पुलिस अधीक्षक विवेकराज सिंह, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक गोपाल खाण्डेल के दिशा निर्देश व एसडीओपी भावना मरावी के नेतृत्व में उप निरीक्षक सौरभ पटेल ने सुनवारा निवासी राकेश उर्फ गबरू गुहा काछी (33) व जंतु को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने बताया कि मृतक बलराम कुशवाहा का झगड़ा राकेश उर्फ गबरू गुहा काछी से सिम की लेनदेन की बात पर से हुआ था। गबरू और जंतु ने पूछताछ पर बताया कि दो माह पहले आरोपी गबरू ने बलराम को सिम दिया था। उसी सिम को वह 30 मई की रात वापस मांग रहा था। बलराम ने सिम नहीं दिया तो गबरू एवं जंतु उर्फ जितेन्द्र यादव 42 ने बलराम को मौत के घाट उतार दिया और लाश को वैनगंगा नदी के पुलघाट पर फेंक दिया। पुलिस टीम में सउनि राजेश दुबे, सुरेश दीक्षित, प्रआर रामकिशोर, रविन्द्र प्रताप सिंह, शफीउल्ला, चंद्रभान बघेल, जतिन दुबे, प्रतीक, गणेश, बिजेश चौधरी, बालचंद, सुनील तिवारी आदि का सहयोग रहा।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned