कबाड़े में किताब बेचकर मास्टरजी पड़े मुसीबत में

कबाड़े में किताब बेचकर मास्टरजी पड़े मुसीबत में

Sunil Vandewar | Publish: Jun, 02 2018 11:37:15 AM (IST) Seoni, Madhya Pradesh, India

अध्यापक सस्पेंड, प्राचार्य को नोटिस, चौकीदार को हटाया

सिवनी. सरकारी स्कूल में छात्र-छात्राओं को नि:शुल्क बांटी जाने वाली किताबों के बंडल कबाड़ में बेचे जाने के प्रकरण पर २२वें दिन कलेक्टर गोपालचंद्र डाड ने अध्यापक चंद्रशेखर तिवारी को निलंबित कर दिया है। इसके अलावा शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय की प्राचार्य रमा अर्जुनवार को कारण बताओ नोटिस देते हुए वहां के मानदेयी चौकीदार जयकिशन को संस्था से पृथक किये जाने के लिए डीइओ के द्वारा प्राचार्य को निर्देशित किया गया है।
कलेक्टर ने कार्रवाई का दिया आदेश -
कबाड़ में किताबें बेचे जाने के प्रकरण पर कलेक्टर ने सम्बंधितों की कार्यप्रणाली पर नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने कार्रवाई का आदेश जारी करते हुए कहा कि मप्र पाठ्यपुस्तक निगम की नि:शुल्क पुस्तकें दिलीप साहू कबाड़ी के यहां से विक्रय की जाने की सूचना प्राप्त होने पर साहू कबाड़ी सिवनी से मौके पर पंचनामा तैयार कर पुस्तकें जब्त की गई। इसकी जांच दो प्राचार्यों से कराई जाने पर जांच अधिकारी द्वारा प्रतिवेदन प्रस्तुत किया गया था। इसके अनुसार चंद्रशेखर तिवारी वरिष्ठ अध्यापक शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बंडोल जो ििक नि:शुल्क पाठ्यपुस्तक वितरण प्रभारी हैं। तिवारी द्वारा अपने पद का दुरुपयोग करते हुए ४७० किलो रद्दी के रुप में पुस्तकें बिना प्राचार्य, अध्यक्ष पालक शिक्षक संघ की अनुमति के बंडोल के कबाड़ी सतीश नेमा को बेच दिया था। नेमा कबाड़ी ने पुस्तकें सिवनी के साहू कबाड़ी को बेच दी थी। इससे वरिष्ठ अध्यापक तिवारी एवं मानदेयी चौकीदार जयकिशन को २८०० रुपए की आय हुई थी। जांच दल के द्वारा चौकीदार से ये राशि जब्त की गई थी। वरिष्ठ अध्यापक चंद्रशेखर तिवारी द्वारा पदीय कर्तव्यों का पालन न करने पर तत्काल प्रभाव से निलंबित किया है। निलंबन अवधि में मुख्यालय कार्यालय प्रार्चा शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय सिवनी नियत किया गया है।
ऐसे हुआ था खुलासा -
गुप्त सूचना पर ९ मई की शाम करीब ६ बजे डीइओ की टीम द्वारा गुरुनानक वार्ड में साहू कबाड़ी के ठिकाने पर औचक पहुंच करीब पांच क्विंटल किताबों को जब्त कर पंचनामा कार्रवाई की थी। उन्होंने मौके पर पाया था कि साहू कबाड़ी के ठिकाने से चारपहिया वाहन (छोटा हाथी) पर कबाड़ के बीच बोरियों में बंद किताबों के बंडल को लादकर बाहर भेजा जा रहा है। तब डीइओ एसपी लाल ेंने वाहन में लदी बोरियों और कबाडख़ाने में रखे खुले बंडलों और बोरियों की जांच की तो पाया था कि मध्यप्रदेश पाठ्यपुस्तक निगम भोपाल द्वारा वर्ष २०१६ के लिए भेजी गई १०वीं, ११वीं एवं १२वीं कक्षा के अलग-अलग विषयों की किताबें हैं। इन किताबों पर सीरियल नंबर व नि:शुल्क वितरण योजना, विक्रय हेतु नहीं, मोनों के साथ अंकित थे। विद्यार्थियों को बांटी जाने वाली किताबें कबाड़ में बिकने का मामला उजागर होते ही तुरंत डीइओ ने कलेक्टर, एसपी और अन्य अधिकारियों को इसकी जानकारी दी थी। डीइओ की टीम ने कबाड़ कारोबारी दिलीप साहू से पूछताछ की। तब बताया गया कि बोरियों में बंद किताबों के बंडल बंडोल के कबाड़ व्यापारी नेमा के द्वारा लाए गए हैं। नेमा ने बताया कि बंडोल के शासकीय हायर सेकेण्डरी स्कूल के शिक्षक ने ये किताबें कबाड़ में बेची हैं। डीइओ की सूचना पर कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंची थी। डीइओ की टीम में एपीसी महेश गौतम, एपीसी विपनेश जैन, पियूष जैन, शासकीय हायर सेकेण्डरी स्कूल मेहरा पिपरिया के प्राचार्य एलआर बछलिया सहित अन्य शामिल थे। पंचनामा कार्रवाई के बाद किताबों के बंडल को डीइओ आफिस पहुंचवाया गया था।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned