पुलवामा के शहीद अश्विनी के गांव पहुंचीं मातृशक्ति, लाईं आंगन की मिट्टी

अमर शहीद के आंगन की मिट्टी को सहेजकर लाईं मातृशक्तियां

By: sunil vanderwar

Published: 16 Feb 2020, 11:57 AM IST

सिवनी. एक साल पहले पुलवामा में हुए आतंकी हमले ने पूरे देश को झंझोर कर रख दिया था। 14 फरवरी पुलवामा हमले में शहीद हुए 46 जवानों में एक नाम शहीद अश्विनी काछी का भी है जो कि मध्यप्रदेश के जबलपुर जिले से ४० किमी दूर खुडावल से रहे हैं। शहीद अश्विनी काछी ने देश के लिए अपना सर्वोच्च बलिदान दिया है, पुलवामा हमले में हुए वीर शहीदों के परिजनों द्वारा शहादत के दिन विभिन्न राज्यों से संगठन को आमंत्रित किया गया था। इसमें मातृशक्ति संगठन अपनी यूथ विंग समर्पण युवा संगठन के साथ ग्राम खुडावाल पहुंचा, जहां शहीद अश्विनी कुमार काछी की प्रतिमा अनावरण में शामिल हुआ और साथ ही संगठन द्वारा शहीद अश्विनी एवं पुलवामा में शहीद हुए 46 जवानों को श्रद्धा सुमन अर्पित किए गए व शहीद के परिजनों से मुलाकात कर आशीर्वाद प्राप्त किया।
पूर्व से ही जब भी संगठन शहीदों के परिजनों से मुलाकात करने जाता है तो शहीद के आंगन की मिट्टी अपने साथ लेकर आता है। इसी श्रंृखला में शहीद अश्विनी के आंगन की मिट्टी को मातृशक्तियों द्वारा अपने आंचल में संजोकर लाया गया है। इस आयोजन में उपस्थित मध्यप्रदेश विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति, विधानसभा उपाध्यक्ष हिना कावरे, राज्य मंत्री लखन घनघोरिया, कलेक्टर भरत यादव के साथ प्रशासनिक अधिकारियों की उपस्तिथि रही। जब मंच से मातृशक्ति संगठन अध्यक्ष सीमा चौहान को उद्बोधन के लिए बुलाया गया तब सभा को संबोधित करते हुए चौहान द्वारा उपस्थित अतिथियों व प्रशासनिक अधिकारियों को शहीदों के प्रति हो रहे व्यवहार से अवगत कराया गया। जिसपर आयोजन में शामिल देशभक्तों ने इस विषय को तालियों की गडग़ड़ाहट से सहमति व्यक्त की। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में नागरिक पहुंचे।
गांव में पहुंचने पर संगठन को यह भी जानकारी मिली कि इस गांव के 80 प्रतिशत जवान भारतीय सेना में अपनी सेवाएं दे रहे हैं, जिनमें से 3 जवानों ने देश के लिए अपने प्राणों की आहुति दी है, जिनकी स्मृति में खुड़ावल में अशोक स्तंभ का भी अनावरण किया गया।

Show More
sunil vanderwar Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned