यहां विकास तो हुआ, पर उम्मीद से कम, जानिए पूरा मामला

akhilesh thakur | Publish: Sep, 03 2018 04:54:22 PM (IST) | Updated: Sep, 03 2018 04:56:19 PM (IST) Seoni, Madhya Pradesh, India

विधायकों ने विकास कराया लेकिन उम्मीद से कम, जिले में भाजपा व कांग्रेस को सबसे अधिक वोट मिले बरघाट विस में

सिवनी. जिले के मतदाताओं ने वर्ष 2013 के चुनाव में चार विधानसभा सीट में दो पर कांग्रेस का, एक पर भाजपा और एक पर निर्दल विधायक बनाया। चारों विधानसभा क्षेत्रों में विकास तो हुए, पर जनता ने जितनी उम्मीदें लगाई थी उससे कम। ग्रामीण क्षेत्रों में पक्की सड़कों का जाल तो बिछाया गया, लेकिन स्थानीय समस्याओं का समाधान आजतक नहीं हो पाया है।
जिले के पांच सबसे अधिक बूथ पर जहां भाजपा को वोट मिले वे बरघाट के हैं। यहां भाजपा के विधायक हैं। यह क्षेत्र कृषि बाहुल्य है, यहां सिंचाई को लेकर कोई भी स्थाई कार्य नहीं हुए हैं, जिससे किसान की सबसे बड़ी समस्या का समाधान हो सके। जनता का कृषि महाविद्यालय का सपना भी साकार नहीं हो पाया है। पानी की समस्या अभी भी बरकरार है।
पिछले पांच साल में भाजपा विधायक के प्रयास से कुरई में कॉलेज का संचालन हो रहा। बिजली और सड़क की समस्या का काफी हद तक समाधान हो गया है। कांग्रेस को सबसे अधिक बूथवार मिले वोट पर नजर डाले तो चार बूथ बरघाट विस के हैं।
इसके अलावा दो बूथ केवलारी विस के हैं। केवलारी विस की सबसे बड़ी समस्या पीने के पानी की है, जिसका समाधान नहीं हुआ। पलारी क्षेत्र उन्नत खेती के लिए जाना जाता है, लेकिन यहां उपज को रखने और बेचने के इंतजाम बेहतर नहीं होने से किसानों को लाभ नहीं मिल पा
रहा है। हालांकि विधायक ने छपारा को नगर पंचायत का दर्जा दिलाने में कामयाब रहे हैं। सड़क व स्कूलों के निर्माण कराने में विधायक सक्रिय रहे हैं। लखनादौन विस में पीने के पानी के अलावा लखनादौन को जिला बनाए जाने की उम्मीद पूरी नहीं हुई। उक्त विस के डूब क्षेत्र में सबसे अधिक मूलभूत सुविधाओं का अभाव अब भी बना हुआ है। घंसौर को नगर पंचायत बनाने की मांग अधूरी है। हालांकि इस विधानसभा से लगे जबलपुर एनएच मार्ग को फोरलेन बनने से विकास की संभावनाएं प्रबल होने की उम्मीद बढ़ गई है। पानी को लेकर एक बड़ी योजना की स्वीकृति मिली है। सिवनी विस के अव्यवस्थित बस स्टैण्ड से जनता को निजात
नहीं मिली।
मॉडल सड़क, कृषि मंडी की शिफ्टिंग, रेलवे के चल रहे कार्य की गति में तेजी अब तक नहीं आई है।
नतीजा उद्योग धंधे पूरी तरह चौपट हैं। जिला अस्पताल में चिकित्सकों की कमी से उपचार के लिए नागपुर जाने से यहां के लोगों को सबसे अधिक आर्थिक समस्या का सामना करना पड़ रहा है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के विगत माह मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा के बाद लोगों को स्वास्थ्य के क्षेत्र में सहयोग की उम्मीद बढ़ी है। सिवनी विधायक ने ग्रामीण क्षेत्रों में मंच व सड़क बनवाने रुचि दिखाई है। लोगों की मदद करने में भी विधायक आगे रहे हैं।

जिले के पांच टॉप बूथ जहां भाजपा व कांग्रेस को मिले अधिक वोट
बूथ क्रं. - भाजपा - कांग्रेस बूथ क्रं.
189 - 784 (विस बरघाट ) - 693 - 128 (विस बरघाट)
239 - 698 (विस बरघाट ) - 683 - 198 (विस बरघाट)
232 - 693 (विस बरघाट ) - 681 - 292 (विस केवलारी)
77 - 682 (विस बरघाट ) - 610 - 196 (विस बरघाट)
202 - 666 (विस बरघाट ) - 610 - 192 (विस केवलारी)

कुरई में खुलवाया महाविद्यालय
आदिवासी बाहुल्य विकासखंड कुरई में महाविद्यालय खुलवाया। काचना मंडी डैम का काम हो चुका है नहर का निर्माण जारी है। इससे करीब 10 हजार एकड़ भूमि सिंचित होगी। एरमा जलाशय की स्वीकृति मिल चुकी है। इससे 5 हजार एकड़ भूमि सिंचित होगी। 100 करोड़ की लागत से कान्हीवाड़ा-बरघाट धर्मकुआं की 10 मीटर चौड़ी सड़क का निर्माण कराया। माचागोरा का पानी लाने के लिए सर्वे कराने का आश् वासन सीएम ने दिया है। बरघाट अस्पताल का उन्नयन कर 50 बेड का किया गया है। बिल्डिंग के लिए 5 करोड़ की स्वीकृति हुई है।
- कमल मर्सकोले, विधायक बरघाट

विकास की मुख्यधारा से जोडऩे का काम कर रही भाजपा
केन्द्र व प्रदेश सरकार की विभिन्न योजनाओं के माध्यम से समाज के सबसे निचले तबके को विकास की मुख्यधारा में जोडऩे का कार्य किया जा रहा है। बरघाट विस की जनता ने भाजपा के पक्ष में मतदान कर प्रदेश सरकार में भरोसा जताया था। इस बार उससे भी अधिक भाजपा के पक्ष में लोगों का रूझान है। इसमें स्थानीय विधयाक के विकास कार्यों के साथ केन्द्र व प्रदेश सरकार की योजनाओं का विशेष योगदान रहेगा।
- राकेश पाल सिंह, जिलाध्यक्ष भाजपा

जनता की लड़ाई रखूंगा जारी
मुझे जनता का जो सहयोग मिला है। वह किसी विधायक से कम नहीं हैं। मैं लगातार जनता के बीच में रह रहा हूं। सिंचाई सहित विभिन्न समस्याओं को लेकर जनता की लड़ाई जारी है। किसानों के मुआवजे की बात हो या शिक्षा, खेल मैंने हर जगह आवाज बुंलद किया है। जनता का रूझान कांग्रेस के पक्ष में बढ़ रहा है।
- अर्जुन सिंह काकोडिय़ा, पूर्व कांग्रेस प्रत्याशी विस बरघाट

Ad Block is Banned