संवरने से पहले ही उजड़ गए शहर के पार्क

नागरिकों ने कहा नगरीय प्रशासन को करना चाहिए सौंदर्यीकरण

By: sunil vanderwar

Published: 09 Apr 2019, 11:13 AM IST

सिवनी. नगर पालिका परिषद सिवनी में कई ऐसे काम हैं, जिन पर लाखों रूपए खर्च तो हुए लेकिन यह सिर्फ फिजूलखर्ची ही साबित हुए। गर्मी में इत्मिनान से कुछ पल बिताने के लिए लोग पार्क, बच्चों के खेलने के स्थान पार्क तलाशते हैं। लेकिन पार्क की जगहों पर जाकर मायूसी ही होती है।
नगर पालिका द्वारा पार्क के लिए शहर में जिन जगहों का चयन कर काम कराए गए हैं, वहां अब कबाड़, झाडिय़ां और सूनापन ही दिखाई दे रहा है। चाहे शहर से सटे बबरिया तालाब के पास निर्माणाधीन शंकराचार्य पार्क की बात करें या डीइओ कार्यालय के समीप अपना पार्क की। इन दोनों ही जगह लाखों रुपए खर्च हुए, लेकिन अब यहां सिर्फ मवेशियों का डेरा ही रहता है। झूले, स्टेच्यू, पौधे, बैठक व्यवस्था सब टूट-फूट कर झाडिय़ों के पीछे गुम हो रहे हैं। अब यहां गंदगी, शराब की बोतलें पड़ी हैं, जो हालात को खुद बयान कर रहे हैं।
नागरिकों ने कहा प्रशासन करे पहल -
जागरुक नागरिक शंकर माखीजा, पंकज गिरी, मोनू श्रीवास, अंकुश कुल्हाड़े ने कहा कि शहर में ऐसी जगह की कमी हैं, जहां बच्चों, परिवार के लोगों के साथ जाया जा सके। जो जगह हैं, वो भी नगर पालिका के ध्यान न दिए जाने से नष्ट हो गए हैं। नगर पालिका को पार्क के लिए चिन्हित जगहों का सौंदर्यीकरण करने ध्यान देना चाहिए।

Show More
sunil vanderwar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned