चोरी की शिकायत करने वाले फरियादियों की पुलिस ने रात्रि 11 से तीन बजे तक की पिटाई

पीडि़त बिहार राज्य के निवासी, कान्हीवाड़ा शराब दुकान के हैं कर्मचारी

By: akhilesh thakur

Updated: 06 Oct 2021, 08:37 AM IST

सिवनी/कान्हीवाड़ा. कान्हीवाड़ा पुलिस ने शराब की दुकान में चोरी की शिकायत करने वाले कर्मचारियों की तीन अक्टूबर की रात 11 से तीन बजे तक थाने में पिटाई की। इसके बाद घर भेज दिया। दोनों पीडि़त बिहार राज्य के निवासी हैं। वे शराब के दुकान के कर्मचारी हैं। २९ सितंबर की रात उक्त दुकान में करीब तीन लाख रुपए की चोरी हुई थी। चोरी की शिकायत दुकान के कर्मचारियों ने थाने में की थी। कर्मचारियों ने चोरी का संदेह जिस पर किया था। पुलिस ने उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है। पुलिस पर आरोप है कि उसने शराब दुकान के कर्मचारियों के मोबाइल को भी जब्त किया है। मोबाइल दो दिन अपने पास रखने के बाद किसी दूसरे के हाथ लौटा दिया है। इस मामले की शिकायत पीडि़त ने पुलिस अधीक्षक कुमार प्रतीक से किया है।
पीडि़त विशाल गुप्ता और बजरंगी (दोनों निवासी बिहार) ने बताया कि वे अंग्रेजी शराब दुकान कान्हीवाड़ा में नौकरी करते हैं। २९ सितंबर की रात दुकान में करीब तीन लाख रुपए की चोरी हुई। चोरी की शिकायत कर्मचारी राम सिंह व अन्य लोगों ने थाने में की। शिकायकर्ता ने पुलिस को कुछ संदेहियों के नाम बताए। पुलिस तीन अक्टूबर की रात करीब १० बजे शराब दुकान पर पहुंची और कुछ कर्मचारियों के मोबाइल को जब्त कर लिया। पुलिस ने कहा कि मोबाइल को सायबर सेल भेजकर चोरी की जानकारी ली जाएगी। साथ ही दो कर्मचारियों को चोरी के मामले में पूछताछ करने के नाम पर थाने लेकर चली आई। थाने का गेट बंदकर रात ११ से तीन बजे तक चार पुलिसकर्मियों ने अलग-अलग समय पर दोनों कर्मचारियों की पिटाई की। इसके बाद उनको घर जाने के लिए कहकर थाने से बाहर कर दिया। शराब दुकान का कर्मचारी झारखंड निवासी बुद्धन ने बताया कि मैं भी दोनों के साथ थाने गया था। मेरे सामने पुलिसकर्मियों ने पिटाई की। वे उनसे चोरी की बात को स्वीकार करने का दबाव बना रहे थे। बताया कि हमलोगों ने चोरी के मामले में जिन पर संदेह किया और पुलिस को बताया था। पुलिस ने उनसे कोई पूछताछ नहीं की। बताया कि इस मामले की शिकायत लिखित में पुलिस अधीक्षक से की गई है। पुलिस अधीक्षक कार्यालय में नहीं मिले। आवेदन जमाकर कर दिया गया है। उधर इस मामले में कान्हीवाड़ा टीआई व एसडीओपी केवलारी के नंबर पर काल किया गया, लेकिन रिंग जाने के बाद भी दोनों ने कॉल रिसीव नहीं किया। एएसपी एसके मरावी ने बताया कि वे अवकाश पर है। पुलिस अधीक्षक के मोबाइल नंबर पर बात नहीं हो सकी।
डीआइजी छिंदवाड़ा ने बताया कि पुलिस जनता को प्रताडि़त करने के लिए नहीं उनकी सेवा के लिए हैं। चोरी के मामले में भी पुलिस को पिटाई करने का अधिकार नहीं है। कान्हीवाड़ा पुलिस ने यदि ऐसा किया है तो पूरे मामले की जांच कराई जाएगी। दोषी पाए जाने पर संबंधित पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

akhilesh thakur Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned