scriptउर्वरक, बीज व कीटनाशक विक्रय में अनियमितता, छह संस्थानों के लायसेंस निलंबित | Regularity in the sale of fertilizers, seeds and pesticides, licenses of six institutions suspended | Patrika News
सिवनी

उर्वरक, बीज व कीटनाशक विक्रय में अनियमितता, छह संस्थानों के लायसेंस निलंबित

– पांच को जारी हुआ नोटिस

सिवनीJun 27, 2024 / 06:34 pm

akhilesh thakur

निरीक्षण।

निरीक्षण।

सिवनी. जिले में उर्वरक, बीज व कीटनाशक का विक्रय करने वाले अनियमितता कर रहे हैं। कृषि विभाग के दल के निरीक्षण के दौरान इसका खुलासा हुआ है। निरीक्षण दल के नोडल अधिकारी/सहायक संचालक प्रफुल्ल घोड़ेसवार ने इसकी पुष्टि की है।

उनकी माने तो जिले में अमानक खाद-बीज विक्रय के रोकथाम के लिए लगातार निरीक्षण की कार्रवाई जारी है। उसी क्रम में बीज भण्डारण केन्द्रों का निरीक्षण किया गया है। निरीक्षण के दौरान छह संस्थान हिन्द कृषि सेवा केन्द्र केवलारी, आशीष कृषि केन्द्र मोहगांव सडक़, केशव कृषि सेवा केन्द्र उगली, वेद आर्गेनिक फर्टिलाईजर गोपालगंज, अम्बे ट्रेडर्स कान्हीवाड़ा एवं पारस ट्रेडर्स कान्हीवाड़ा का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान स्कंध पंजी संधारण न करना, बिल फाईल, बिल बुक, स्कंध व दर प्रदर्शित करने वाला बोर्ड नहीं पाए जाने के कारण उक्त संस्थानों के लायसेंस निलंबन की कार्रवाई की गई है।

इसी तरह तीन बीज विक्रेता संस्थान ललिताम्बर ट्रेडर्स पलारी, सांई ट्रेडर्स कान्हीवाड़ा, शिव कृषि केन्द्र पलारी, कीटनाशक विक्रेता संस्थान शुक्ला कृषि केन्द्र सिवनी एवं एग्रो सीडस छपारा को निरीक्षण के दौरान अनियमितता पाए जाने पर उर्वरक नियंत्रण आदेश 1985 के प्रावधानों के तहत नोटिस जारी किया गया है। नोटिस का जबाव संतोषप्रद नहीं होने की स्थिति में बीज नियंत्रण आदेश 1983 एव उर्वरक गुण नियंत्रण आदेश 1985 तथा कीटनाशी अधिनियम के प्रावधानों के तहत लाइसेंस निलम्बन की कार्रवाई की जाएगी।
रिश्वत लेते पकड़े जा चुके हैं सहायक संचालक व यंत्री-
किसान कल्याण व कृषि विभाग के एक सहायक संचालक को लोकायुक्त की टीम ने बीते कुछ वर्ष पूर्व रिश्वत लेते हुए पकड़ा था। उस पर आरोप था कि वह निरीक्षण के समय सील किए गए खाद-बीज की एक दुकान को खोलने के लिए संचालक से 10 हजार रुपए रिश्वत मांगा था। सहायक संचालक को आठ हजार रुपए रिश्वत लेते हुए लोकायुक्त ने पकड़ा था। उसी वर्ष कृषि अभियांत्रिकी विभाग के सहायक यंत्री को लोकायुक्त ने हार्वेस्टर की सब्सिडी राशि स्वीकृत करने के लिए एक किसान से 50 हजार रुपए की रिश्वत मांगा था। 10 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए लोकायुक्त ने उसे दबोचा था।

Hindi News/ Seoni / उर्वरक, बीज व कीटनाशक विक्रय में अनियमितता, छह संस्थानों के लायसेंस निलंबित

ट्रेंडिंग वीडियो