चलित दफ्तर में पसरा सन्नाटा

प्रचार-प्रसार की कमी, नहीं पहुंचे ग्रामवासी, अनेक योजनाओं का दिया जाना है लाभ

By:

Published: 09 Dec 2017, 11:44 AM IST

सिवनी. ऐसे ग्रामीण अंचल जो जिला या विकासखण्ड मुख्यालय से दूर हैं ऐसे क्षेत्र में हितग्राही मूलक योजना का लाभ प्रदान करने के लिए चलित दफ्तर योजना का शुभारम्भ तो किया गया है, लेकिन समुचित प्रचार-प्रसार के अभाव में ग्रामीण, हितग्राही गांव में लगाए गए चलित दफ्तर में नहीं पहुंच पाए।
चलित दफ्तर में हितग्राहियों को मौके पर ही फायदा मिल सके इसके लिए शुक्रवार को ग्राम पंचायत बिनैकी में आयोजित चलित दफ्तर लगाया गया। सुबह नौ बजे अधिकारी, कर्मचारी तो पहुंच गए लेकिन प्रचार-प्रसार की कमी के चलते इन अधिकारियों को गांव के ग्रामवासी, हितग्राही नजर नहीं आए। वहीं सुबह काफी देर तक गांव के सरपंच, सचिव भी अधिकारियों को नजर नहीं आए। लगभग दो घण्टे बीतने के बाद जब ग्रामीणों ने अपने गांव में बड़ी संख्या में अधिकारियों की गाडिय़ां देखी तो वे वाहन को देख वहां पहुंचे व जनप्रतिनिधि भी पहुंचे। जिसमें ग्रामीणों की संख्या काफी कम रहने से चलित दफ्तर योजना महज औपचारिकताओं में बदल गया।
महिला मजदूर ने बताई समस्या
चलित दफ्तर योजना में अपनी समस्या बताने पहुंची ग्राम बिनैकी निवासी कम्मोबाई ने अधिकारियों से कहा कि दो साल पहले शमशान घाट का निर्माण कार्य किया था। जिसमें 43 दिन काम किए जाने की मजदूरी अभी तक नहीं मिली है। इस मामले में अधिकारी ने बैंक खाता व अन्य जो भी गड़बडिय़ां से उसे शीघ्र दुरुस्त कर महिला मजदूर को मजदूरी देने के निर्देश दिए।
इनकी रही उपस्थिति
चलित दफ्तर योजना में नायब तहसीलदार राजेश नेमा, ब्लॉक विकास अधिकारी ऊषा किरण गुप्ता व प्रधानमंत्री आवास से संबंधित कर्मचारी, स्वच्छता संबंधित कर्मी पहुंचे। इसके साथ ही सरपंच लक्ष्मी उईके, उपसरपंच प्रमोद यादव, सचिव किशोर चौकसे, सहायक सचिव मोहन यादव, पंच शिवप्रसाद यादव, ग्रामवासियों में शंकर यादव, किशन यादव, खोवाराम यादव आदि मौजूद थे।
दर्जनों योजनाओं का मिलना है लाभ
चलित दफ्तर में अनेक सेवाओं का लाभ, मौके पर ही मिल सकेगा। जिसमें मनरेगा, समस्त आवास, स्वच्छ भारत मिशन, लंबित भुगतान, मुख्यमंत्री मजदूर सुरक्षा योजना अंतर्गत हितग्राहियों का पंजीयन, पंजकृत हो तो उन्हें लाभान्वित कराना। भवन एवं सन्निर्माण कर्मकार मंडल, सामाजिक सुरक्षा, पेंशन प्रकरण, अविवादित बटवारा, नामांतरण, लाड़ली लक्ष्मी योजना के प्रकरणों की स्वीकृति, निर्माण कार्यों की सीसी, सीएम हेल्पलाइन के प्रकरण, जनसुनवाई के प्रकरण, न्यायालयीन प्रकरणों की जांच, योजनाओं की समीक्षा, जन्म मृत्य प्रमाण, मजदूर संनिर्माण कार्ड, स्वरोजगार योजना के आवेदन, मध्यान्ह भोजन, आंगनबाड़ी का निरीक्षण, मृत्यु सहायता निधि आदि सेवाओं का लाभ मौके पर ही दिया जाएगा।

इनका कहना है
चलित दफ्तर योजना लगाए जाने की के लिए पूर्व में सूचना दे दी गई थी। ग्राम पंचायत बिनैकी से मिली जानकारी के अनुसार गांव में कोटवार ने मुनादी की थी।
राजीव नेमा, नायब तहसीलदार, घंसौर

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned