किसानों के खेतों में समन्वित प्रयासों से लग रहे सोलर पम्प

प्रदेश सरकार चला रही योजना

सिवनी. नवीन और नवकरणीय ऊर्जा विभाग ने किसानों के खेत पर सोलर पम्प लगवाने योजना संचालित की है। इस दिशा में प्रयास प्रारंभ कर दिए गए हैं। सोलर पम्पों की स्थापना पर किसानों को तीन एचपी क्षमता तक 90 प्रतिशत और 3 से 5 एचपी क्षमता तक 85 प्रतिशत अनुदान देने का प्रावधान है। सोलर पम्प को लोकप्रिय बनाने में वन, कृषि, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी और आदिम जाति कल्याण विभाग द्वारा सक्रिय सहयोग दिया जा रहा है। सोलर पम्प से कृषि के क्षेत्र में बिजली की बचत के साथ वित्तीय भार भी कम हो जाता है। इससे प्रदूषण कम करने में मदद मिलती है।
ऊर्जा विकास निगम ने वन विभाग की नर्सरियों तथा कृषि विभाग के फार्म हाऊसेस में सिंचाई के लिए तथा लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग ने सामुदायिक पेयजल व्यवस्था के लिए प्रदेश में लगभग 2800 सोलर पंप की स्थापना की है। इसी कड़ी मे प्रदेश सरकार एवं केन्द्र सरकार की अनुदानित सोलर पंप योजना के अंतर्गत 3 एचपी से 5 एचपी तक के 14 हजार सोलर पंप प्रदेश के विभिन्न किसानों की कृषि भूमि पर स्थापित किये हैं। आदिम जाति कल्याण विभाग के अंतर्गत आदिवासी जिलों के कृषकों की कृषि भूमि पर वन एवं लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के सहयोग से विभिन्न ग्राम में सोलर पंप की स्थापना की जा रही है।
योजना के माध्यम से किसान, कृषि उत्पादन में वृद्धि और व्यवसायिक एवं अन्य फायदे की फसलों का उत्पादन कर कृषि को लाभ का व्यवसाय बना सकेंगे। इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिये कृषक के पास स्वयं का जल स्रोत जैसे बोरवेल, कुआँ, नदी, स्टॉप डेम इत्यादि होना आवश्यक है। योजना के अंतर्गत स्थापित सोलर पम्प संयंत्र में पाँच वर्ष की वारंटी के साथ 5 वर्ष का रख-रखाव भी सम्मिलित हैं।
सोलर पम्पों के सोलर पैनलों से वर्ष के लगभग 330 दिन व औसतन 8 घंटे प्रतिदिन ऊर्जा का उत्पादन होता है, जबकि कृषि पम्पिंग के लिए आवश्यकता लगभग 100-120 दिन ही होती है। शेष ऊर्जा का उपयोग विभिन्न वैकल्पिक उपयोगों जैसे लाईंटिंग, बैटरी चार्जिंग, सूक्ष्म ग्रिड आदि के लिए किया जा सकता है।
जिले के किसानों द्वारा इस योजना का लाभ लेते हुये सोलर पंप की स्थापना से उनकी कृषि भूमि में कृषि की पैदावार में परिवर्तन देखने में आया है। योजना से पूर्व किसानों को डीजल, पाईपों की सुरक्षा, लेबर न मिलने की दिक्कतों, डीजल जनरेटर से उत्पन्न होने वाले प्रदूषण एवं जनरेटर की आवाज से उन्हें मुक्ति मिली। किसानों को सोलर पंप से नियमित सिंचाई के लिए भरपूर पानी प्राप्त हो रहा है, उनके पास प्रदूषण मुक्त बिजली है जो कि पूर्णत: निशुल्क हैं। सुबह सूरज उगते ही सोलर पम्प चालू हो जाते हैं। शाम तक किसान खेतों में बिना रोक टोक के सिंचाई करने लगे हैं तथा पूर्णरूप से तनाव मुक्त हैं।
राज्य सरकार द्वारा किसानों की पैदावार एवं उनकी आय को बढाऩे की दृष्टि से आगामी पाँच वर्षो में प्रदेश के किसानों के लिये खेती के दो लाख सोलर पंप स्थापित किए जाने की पहल से आगामी वर्षो में प्रदेश के किसान कृषि के क्षेत्र में अधिक समृद्ध और आत्मनिर्भर हो सकेंगे।

Show More
sunil vanderwar
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned