दक्षिण कोरिया का एजूकेशन सिस्टम मप्र में हो सकता है लागू, ये है वजह

02 से 06 जून तक बेहतर शिक्षा की बारीकियों से होंगे वाकिफ

By: sunil vanderwar

Published: 30 May 2019, 12:43 PM IST

सिवनी. विश्व की सबसे बेहतर स्कूल शिक्षा प्रणाली को जानने, समझने मध्य प्रदेश के स्कूल शिक्षा विभाग का एक दल दक्षिण कोरिया जा रहा है। इनमें 4 आइएएस ऑफीसर, 13 अधिकारी एवं 13 प्राचार्य हैं। इनमें सिवनी जिले के दो शासकीय हायर सेकेण्डरी स्कूल के प्राचार्य भी शामिल हैं।
दक्षिण कोरिया जा रहे सिवनी के शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय प्राचार्य आरपी बोरकर ने पत्रिका से चर्चा में बताया कि स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा दक्षता संवर्धन कार्यक्रम के तहत ०2 जून से ०6 जून तक सियोल दक्षिण कोरिया में प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित होगा। जिसमें मध्य प्रदेश के प्रतिनिधि मण्डल में कुल ३० प्रतिभागी सम्मिलित होंगे। इनमें सिवनी जिले से दो प्राचार्य आरपी बोरकर उत्कृष्ट विद्यालय सिवनी एवं एलआर बछलिया शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मेहरापिपरिया दक्षिण कोरिया के उक्त प्रशिक्षण कार्यक्रम में शामिल रहेंगे। 31 मई को सिवनी से दिल्ली एवं दिल्ली से प्रतिनिधि मण्डल के साथ दक्षिण कोरिया के लिए रवाना होंगे।
इसलिए खास है यह दौरा कार्यक्रम -
प्राचार्य एलआर बछलिया ने बताया कि दक्षिण कोरिया का स्कूल प्रबंधन विश्व स्तरीय है। दक्षिण कोरिया में नर्सरी से कक्षा बारहवीं तक का स्कूल प्रबंधन श्रेष्ठ माना गया है, इसलिए मध्यप्रदेश स्कूल एजुकेशन ने प्रदेश के 17 अधिकारियों को एवं 13 प्राचार्य को उनके कार्यों एवं कार्य प्रदर्शन के आधार पर उक्त प्रशिक्षण पर भेजने का निर्णय लिया है, जो कि दक्षिण कोरिया से प्रशिक्षण प्राप्त कर आएंगे एवं वहां के स्कूलों का भी भ्रमण करेंगे एवं मध्य प्रदेश में इसको किस तरह से लागू करें, इस पर काम होगा व प्रचार-प्रसार किया जाएगा। ताकि कि मध्य प्रदेश की स्कूल प्रबंधन की गुणवत्ता एवं परीक्षा परिणाम में वृद्धि हो सके और विद्यार्थियों को उच्चस्तरीय शिक्षा उपलब्ध करा सकें।
विदेश मंत्रालय से मिली हरी झंडी -
विभिन्न मापदण्ड के आधार पर जिले के दोनों प्राचार्यों का कार्य बेहतर पाए जाने पर दक्षिण कोरिया जाने वाले प्रतिनिधि मण्डल में शामिल किया गया। अब इन्हें विदेश मंत्रालय से हरी झंडी मिल गई है। कागजी कार्यवाही के बाद बीजा, पासपोर्ट क्लीयर हो चुके हैं। दिल्ली से हवाई यात्रा कर दक्षिण कोरिया की पांच दिवसीय यात्रा पर जाएंगे।
प्रतिनिधि मण्डल में ये रहेंगे शामिल -
दक्षिण कोरिया जाने वाले ३० सदस्यीय प्रतिनिधि मण्डल में जयश्री कियावत आइएएस(आयुक्त), अनिल सुचारी आइएएस (प्रबंध संचालक), अनुभा श्रीवास्तव आइएएस (उप सचिव शिक्षा), गौतम सिंह (आइएएस) अतिरिक्त कार्य संचालक आरएमएसए के अलावा वित्तीय सलाहकार राजीव सक्सेना, अतिरिक्त संचालक आरएसके कृष्णकांत द्विवेदी, डीपीआइ के अति. संचालक दिनेश सिंह कुशवाहा, प्रमोद कुमार सिंह एसइएस, डॉ. कामना आचार्य एसइएस, ओंकारलाल मंडलोई एसइएस, धीरेन्द्र चतुर्वेदी एसइएस, चंद्रमोहन उपाध्याय एसइएस, सईद अख्तर हसनीन रिज्वी एसइएस, अशोक कुमार पारिक एसइएस, कृष्णपाल सिंह तोमर एसइएस, मानिक मारोति आइएसएडी, सुधाकर पाराशर प्राचार्य उत्कृष्ट भोपाल, भारतलाल व्यास प्राचार्य उज्जैन, राघवेन्द्र प्रसाद बोरकर प्राचार्य उत्कृष्ट सिवनी, वीणा वाजपेयी प्राचार्य उत्कृष्ट जबलपुर, चारू सक्सेना प्राचार्य उत्कृष्ट विदिशा, पूरन सिंह चौहान प्राचार्य उत्कृष्ट भिण्ड, मांडवी विदुआ प्राचार्य उमावि विदिशा, संजय कुमार शुक्ला प्राचार्य उमावि धार, लेखराम बछलिया प्राचार्य उमावि मेहरापिपरिया सिवनी, गोपाल सिंह परमार प्राचार्य उत्कृष्ट मुरैना, राकेश दीक्षित प्राचार्य उत्कृष्ट बैतूल, विभा श्रीवास्तव प्राचार्य उत्कृष्ट कटनी, साधना बिलथरिया प्राचार्य उत्कृष्ट होशंगाबाद को शामिल किया गया है।
दक्षता संवर्धन के हो रहे प्रयास -
दक्षता संवर्धन कार्यक्रम अति-महत्वाकांक्षी हंै। स्कूल शिक्षा विभाग के समस्त अधिकारी-कर्मचारी, शिक्षकों व प्राचार्य की दक्षता में वृद्धि करने के लिए यह कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। इसमें विभिन्न स्तरों पर प्राचार्य एवं शिक्षक प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं। अभी हाल ही में प्राचार्य आरपी बोरकर दिल्ली से प्रशिक्षण प्राप्त करके एवं दिल्ली के विकसित विद्यालयों का भ्रमण करके आ चुके हैं। जिले से उक्त दोनों प्राचार्य के दक्षिण कोरिया के लिए हुए चयन पर जिले के शिक्षक कल्याण समिति अध्यक्ष दुर्गा शंकर श्रीवास्तव, राज्य शिक्षक कांग्रेस के अध्यक्ष सुरेश दुबे, विजय शुक्ला, राज्य अध्यापक संघ के अध्यक्ष विपनेश जैन व अन्य ने हर्ष व्यक्त करते शुभकामना दी है।

Show More
sunil vanderwar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned