इधर शिक्षक सस्पेंड, उधर वेतन न मिलने पर गुस्सा

डीईओ ने शिक्षा विभाग से जुड़े सभी अधिकारियों, कर्मचारियों को निर्देशित किया है कि पूर्ण निष्ठा एवं समर्पण के साथ अपने कर्तव्यों का निर्वहन करें।

By: akhilesh thakur

Published: 18 Aug 2017, 11:48 AM IST

 

सिवनी. नियमित शाला में न पहुंचने वाले उच्च श्रेणी शिक्षक पर डीईओ ने निलंबन की कार्रवाई की है। इसके साथ ही उन्होंने दूसरों को भी कार्य के प्रति गंभीरता बरतने की हिदायत दी है। जबकि दूसरी तरफ वेतन न मिलने के कारण शिक्षक ही व्यवस्था पर गुस्सा जाहिर कर रहे हैं।
डीईओ गोपाल सिंह बघेल ने बताया कि शासकीय उन्नयन माध्यमिक शाला जमुनिया में पदस्थ उच्च श्रेणी शिक्षक देवेन्द्र तिवारी के विरूद्ध लगातार गैरहाजिर रहने की शिकायतें प्राप्त हो रही थीं। शिकायत के सम्बंध में जांच कराई गई, कई बार चेतावनी देकर सुधरने का अवसर भी दिया गया। लेकिन कार्यप्रणाली में सुधार नहीं आया।
उन्होंने बताया कि मूल पदस्थ शाला से बिना सूचना अनुपस्थित रहने तथा उपस्थित दिवसों में भी शाला समय का पालन नहीं करने के कारण उच्च श्रेणी शिक्षक संकुल केन्द्र शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय पीपरडाही को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया है।
डीईओ ने सबको दी हिदायत -
डीईओ ने शिक्षा विभाग से जुड़े सभी अधिकारियों, कर्मचारियों को निर्देशित किया है कि पूर्ण निष्ठा एवं समर्पण के साथ अपने कर्तव्यों का निर्वहन करें। उन्होंने बताया कि प्रतिदिन जिला शिक्षा अधिकारी तथा उनके प्रतिनिधियों द्वारा शालाओं का औचक निरीक्षण किया जा रहा है। निर्देशों के विपरीत आचरण पाए जाने पर किसी भी प्रकार की दण्डात्मक कार्रवाई के लिए संबंधित स्वयं उत्तरदायी होंगे।
नहीं मिला वेतन, संघ में नाराजगी
राज्य अध्यापक संघ जिला अध्यक्ष विपनेश जैन ने बताया कि ब्लॉक अध्यक्षों से जानकारी मिली है कि अध्यापकों को विगत माह का वेतन प्रदान नहीं किया गया है। जिससे उन्हें आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। अधिकारी भी समय-सीमा में वेतन देने में असमर्थ हैं। वेतन न मिलने से अध्यापक वर्ग में असंतोष व्याप्त है। संघ के जिला अध्यक्ष ने तत्संदर्भ में दूरभाष पर विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी को अध्यापकों को वेतन न मिलने के समस्या से अवगत कराया, उन्होंने शीघ्र ही वेतन दिलाने के लिए आश्वस्त किया है। वहीं अध्यक्ष ने कहा है कि यदि शीघ्र वेतन नहीं दिया जाता है तो मजबूरन जिले के अध्यापकों को आंदोलन के लिए बाध्य होना पड़ेगा।
उन्होंने बताया कि कि कलेक्टर गोपाल चंद डांड द्वारा सभी आहरण संवितरण अधिकारियों को प्रतिमाह 5 तारीख तक सभी कर्मचारियों को वेतन देने के लिए आदेशित किया गया है। किन्तु जिला प्रशासन के आदेश पर आहरण संवितरण अधिकारी ध्यान नहीं दे रहे हैं। अध्यापकों, संविदा शाला शिक्षकों को शीघ्र वेतन देने के संबंध में कार्रवाई करने की मांग राज्य अध्यापक संघ के कार्यकारी जिलाध्यक्ष महफूज खान, राकेश दुबे, चित्तौड सिंह कुशराम, विरेन्द्र डोंगरे, पंकज तिवारी, शमसुन्निशा खान, आरती पांडेय, रंजना चौहान, शिखा कार्तिकेय, संगीता ठाकरे, कीर्ति डेहरिया, फारूख खान, मुकेश नेमा, हरीश तिवारी, गुमान सिंह बघेल, संतोष सिरसाम, सुनील राय, रतन राय, सुनील तिवारी, गजेन्द्र बघेल सहित अन्य ने की है।

akhilesh thakur Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned