जीवनरक्षा के लिए शिक्षकों ने सरकारी अस्पताल में दी पांच लाख की मशीनें

अस्पताल में इंतजामों में कमी, लगातार हो रही मौत देख की पहल

By: sunil vanderwar

Published: 04 Jun 2021, 09:13 PM IST

सिवनी. जिले में कोरोनाकाल के बीच शिक्षकों और आमजनों की असमय हो रही मौत व चिकित्सा सुविधाओं की कमी के कारण रैफर किए जा रहे मरीजों को देखते हुए शिक्षकों ने पहल करते हुए ५ लाख रुपए की राशि जुटाई और जरूरी उपकरण अस्पतालों में मुहैया कराए। शिक्षकों ने कोरोनाकाल में जीवन रक्षक मानी जाने वाली दो मशीनें सहायक कलेक्टर अक्षत जैन को सौंपी हैं। इन मशीनों सेे शासकीय चिकित्सालय घंसौर में मरीजों के बेहतर उपचार में चिकित्सकों को मदद मिल रही है।
जनपद शिक्षा केंद्र घंसौर के शिक्षकों द्वारा कोविड काल में मरीजों की समस्याओं को देखते हुए स्वप्रेरणा से पहल की और आपस में राशि एकत्रित कर सीबीसी, एनालाइजर व अन्य उपकरण जिनकी कीमत करीब 5 लाख रुपए है। इन मशीनों को खरीदी की गई।
जनसुविधा के लिए खरीदी गई मशीनों को अपर कलेक्टर के सुपुर्द करते शिक्षकों के साथ उपस्थित घंसौर बीआरसीसी मनीष मिश्रा ने बताया कि घंसौर विकासखंड में 100 बिस्तर का अस्पताल बनाया गया था लेकिन डॉक्टरों एवं संसाधनों की कमी के कारण से इस अस्पताल को 30 बेड का कर दिया गया था्र जिस कारण आदिवासी बाहुल्य विकासखंड घंसौर के गरीब आदिवासी व अन्य वर्ग के निर्धन लोगों को कोरोनाकाल में स्वास्थ जांच कराने के लिए अधिक पैसों की व्यवस्था कर बड़े शहरों की ओर जाना पड़ रहा था।
शिक्षकों की इस मुहिम से ऐसे लोगों को यह सुविधा अब स्थानीय शासकीय अस्पताल में उपलब्ध हो रही है। बीआरसीसी मिश्रा ने बताया है कि इन दोनों मशीनों के माध्यम से 50 से ज्यादा प्रकार की जांच की जा सकेगी, जिसमें रक्त सम्बंधी सभी जांच, हृदय रोग से संबंधी जांच, हारमोंस की जांच, कोलेस्ट्रॉल की जांच, शुगर की जांच, कोवीड प्रोफाइल, लिपिड प्रोफाइल की जांच, इस तरह से और भी अन्य जांच हो पाएंगी। इससे स्थानीय चिकित्सालय में आम जनता को निश्चित रूप से कम खर्च और कम समय में यह सुविधा मिलेगी।
अस्पताल में मशीनें आरम्भ करने के अवसर पर सहायक कलेक्टर अक्षत जैन, तहसीलदार रविंद्र पारधी, बीएमओ डॉ. भारती, मेडिकल ऑफिसर डॉ. गोल्हानी, शिक्षक सुरेंद्र शर्मा, माधव प्रसाद गुमास्ता, बीएसी देवी प्रसाद, बीएसी दशरथ करराम, बीएसी भगवानदास बंजारे, सीएसी राजाराम कोसले, चंद्रपाल आरमोती, तीरथ लखेरा, प्रीत लाल यादव, उमाकांत यादव, उमाशंकर तिवारी, शैलेंद्र दीक्षित, प्रेम लाल यादव, भुनेश्वर मरावी, लेखापाल धर्मक, छोटेलाल यादव, लखन लखेरा, विमल प्रजापति आदि उपस्थित रहे।
घर पर दीप जलाकर दिवंगत शिक्षकों को दी श्रद्धांजलि
कोरोनाकाल के दौरान जिले में शिक्षा विभाग से जुड़े शिक्षक, प्राचार्य, लिपिक व अन्य कार्यालयीन कार्यों को करने वाले कई कर्मियों की मृत्यु हो गई। कोरोना महामारी के दौरान अंतिम संस्कार होने से अधिक संख्या में लोग अंतिम संस्कार में भी शामिल नहीं हो सके। ऐसी स्थिति में राज्य शिक्षक संघ जिला इकाई ने कोरोना में दिवंगत शिक्षकों उनके परिजनो एवं देश के समस्त दिवंगत नागरिकों को दीप जलाकर श्रद्धांजलि अर्पित की है।

Show More
sunil vanderwar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned