स्कूल में पढ़ाने के समय, सम्मान के लिए कतार में लग रहे शिक्षक

जिले के बाद विकासखण्ड स्तर पर हो रहे शिक्षक सम्मान कार्यक्रम

By: sunil vanderwar

Published: 23 Feb 2020, 12:16 PM IST

सिवनी. जब शिक्षकों को स्कूल में पढ़ाना चाहिए, उस समय में सम्मान पाने की उम्मीद से शिक्षक कतार में खड़े दिखाई दे रहे हैं। ये हालात सिवनी जिले में देखने को मिल रहे हैं। शिक्षा के प्रति समर्पित माने जाने वाले शिक्षक सम्मान समारोह में खुद को आगे दिखाना चाह रहे हैं। परीक्षाओं के दौर में भी विकासखण्ड स्तर पर शिक्षकों को एकत्रित कर सम्मानित किए जाने का क्रम जारी है। अहम सवाल ये है कि जिला स्तर के बाद अलग-अलग विकासखण्ड में शिक्षकों का सम्मान समारोह होना, वह भी शिक्षण सत्र के महत्वपूर्ण समय में। ऐसे आयोजनों की आवश्यकता वर्तमान में कितनी महत्वपूर्ण है, यह विचारणीय है। शनिवार को मेरी शाला मेरी जिम्मेदारी के तहत शिक्षक संगोष्ठी एवं सम्मान समारोह छपारा विकासखण्ड के जन शिक्षा केंद्र गोरखपुर के अंतर्गत हाई स्कूल गोरखपुर में रखा गया।
छपारा बीआरसीसी गोविंद प्रसाद उइके ने बताया कि इस कार्यक्रम में बतौर अतिथि राज्य शिक्षा केन्द्र भोपाल से आए डॉ. दामोदर जैन एवं डॉ प्रवीण अरुण भोपे, कलेक्टर प्रवीण सिंह अढ़ायच, जिला शिक्षा अधिकारी जीएस बघेल, जिला परियोजना समन्वयक जेके इड़पाचे, पुलिस अधीक्षक कुमार प्रतीक, एपीसी महेश बघेल, चुनेंद्र बिसेन, बरघाट बीआरसी प्रभू दयाल नाग, सिवनी बीआरसी राहुल प्रताप सिंह एवं तहसीलदार नितिन गौड़, सीईओ जनपद लोकेश नारनोरे, छपारा टीआई नीलेश परतेती, बीएसी राकेश तिवारी, रविशंकर ठाकुर, मंजूलाल इनवाती, घनश्याम सनोडिया एवं विकासखंड के समस्त जन शिक्षक, शिक्षक-शिक्षिकाएं, छात्र-छात्राएं और नागरिकों की उपस्थिति रही।
परीक्षा नजदीक, फिर भी ये हाल -
जब पांचवीं, आठवीं परीक्षाएं बोर्ड पैटर्न पर होनी हैं और शिक्षकों के पास पढ़ाने के लिए अब कम समय रह गया है। ऐसे में जरूरी हो जाता है कि ज्यादा से ज्यादा समय शिक्षक क्लास रूम में विद्यार्थियों को पढ़ाएं, तब भी शिक्षकों को सिर्फ स्मार्ट क्लास बनाने में ध्यान है। शिक्षकों का ऐसे समारोह में बार-बार पहुंचना या बुलाया जाना चिंता का विषय है। प्रयास तो तब सफल हों, जब क्लास ही नहीं विद्यार्थी भी स्मार्ट हों, यह तभी सम्भव हो सकेगा, जब पूरे मन से शिक्षक शिक्षण कार्य कराएं।
रविवार को भी हो सकते हैं आयोजन -
सिवनी में जिला स्तरीय शिक्षक सम्मान एवं संगोष्ठी के उपरांत विकासखण्ड कुरई, विकासखण्ड बरघाट और इसी क्रम में शनिवार को विकासखण्ड छपारा के शिक्षकों को एकत्रित कर सम्मानित किया गया। विभाग में ही यह चर्चा जोर पकड़ रही है, कि ऐसे आयोजन रविवार को भी हो सकते हैं। माना जा रहा है कि जब तक स्वयं प्रशासनिक व विभागीय अधिकारी इस ओर गंभीर नहीं होंगे, स्थिति बेहतर नहीं हो सकती।
शिक्षक जुटा रहे हैं सामग्री -
छपारा बीआरसीसी ने बताया कि इस मुहिम के साथ विकासखंड में कुल 276 शालाओं में से 201 शालाओं में स्मार्ट क्लास संचालित हो चुकी हैं और शिक्षक एवं जन सहयोग के द्वारा पूरे विकासखंड में फर्नीचर, स्वेटर और गद्दे, प्रोजेक्टर, स्कूल बैग, अलमारी लगभग 45 लाख रुपए की सामग्री शिक्षकों के द्वारा एवं जनसहयोग द्वारा प्रदान की गई है। मेरी शाला मेरी जिम्मेदारी में सहयोगी बने शिक्षक-शिक्षिकाओं को अधिकारियों द्वारा प्रशस्ति पत्र प्रदान किए गए।

Show More
sunil vanderwar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned