शिक्षकों ने कहा गर्मी में स्कूलों का बदला जाए समय, बच्चे हैं परेशान

शिक्षकों ने कहा गर्मी में स्कूलों का बदला जाए समय, बच्चे हैं परेशान

Sunil Vandewar | Updated: 05 Apr 2018, 12:58:06 PM (IST) Seoni, Madhya Pradesh, India

आजाद अध्यापक संघ ने डीईओ को सौंपा ज्ञापन

सिवनी. लगातार बढ़ रहे तापमान से गर्मी आमजनों को परेशान कर रही है। ऐसे में स्कूली बच्चों को दोपहर में स्कूल में पढऩे के लिए आने में परेशानी हो रही है। इस स्थिति को देखते हुए शाला समय में परिवर्तन किया जाना चाहिए। यह मांग आजाद अध्यापक संघ ने डीईओ एसपी लाल को पत्र सौंपकर की है।
संघ के जिला अध्यक्ष कपिल बघेल व सदस्यों ने बताया कि नए शिक्षा सत्र की शुरुआत के साथ ही शालाओं में रौनक तो लौटी है, किंतु गर्मी के इन दिनों में बढ़ते तापमान, लू की घटनाओं के कारण बच्चों सहित शिक्षकों को शैक्षणिक कार्यों में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है और स्वास्थ्य पर विपरीत असर हो रहा है।
अध्यापकों की मांग पर डीईओ ने अपने स्तर से प्रयास करने की सहमति देते हुए कहा कि इस सम्बंध में कलेक्टर के समक्ष प्रस्ताव रखेंगे। ज्ञापन सौंपने पहुंचे अध्यापकों में जिला अध्यक्ष सहित ब्लॉक अध्यक्ष छपारा राजकुमार डहेरिया, गनपत भलावी, कपिल ठाकुर, टेलसिंह चौधरी, अनिल धुर्वे, भीकम पारधी, जौहर सिंह भलावी, जयदीप बघेल, अनिल गढ़ेवाल, अनिता साहू, आरती धुर्वे, विजयाराजे दीक्षित, सबाना खान सहित अन्य उपस्थित रहे।
उपसचिव के आदेश का दिया हवाला -
स्कूल शिखा विभाग भोपाल के उप सचिव प्रमोद सिंह द्वारा मंगलवार को कलेक्टर को जारी पत्र का हवाला देते अध्यापकों ने स्कूल समय परिवर्तन के लिए कहा है। उपसचिव के पत्र अनुसार इस वर्ष शैक्षणिक सत्र १ अपै्रल से प्रारंभ हो चुका है। माह अपै्रल में भी गर्मी और लू की संभावनाओं को देखते हुुए राज्य शासन द्वारा निर्णय लिया गया है। उन्होंने कलेक्टर को कहा कि स्थानीय परिस्थितियों एवं आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए शासकीय शाला के लिए डीईओ के प्रस्ताव पर कलेक्टर द्वारा शाला संचालन के लिए समय निर्धारित किया जा सकता है। कलेक्टर द्वारा निर्धारित समय पूरे जिले के लिए प्रभावशील होगा। जो विद्यालय दो पाली में संचालित हैं, उन विद्यालयों के संचालन के लिए यह ध्यान रखा जाए कि कक्षा १ से ८ तक के लिए विद्यालय का संचालन प्रथम पाली में तथा कक्षा ९ से १२ तक की कक्षाओं के लिए विद्यालय का संचालन द्वितीय पाली में किया जाए। किसी अन्य आकस्मिक स्थिति पर विद्यालय संचालन के लिए कलेक्टर द्वारा निर्णय लिया जा सकता है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned