scriptTermites are also beneficial, everyone was surprised to know that | दीमक भी है फायदेमंद, यह जानकर हैरान रह गए सब | Patrika News

दीमक भी है फायदेमंद, यह जानकर हैरान रह गए सब

जंगल पहुंचकर पशु, पक्षी व जीवों को देख पाई रोचक जानकारी

सिवनी

Published: December 29, 2021 09:27:49 pm

सिवनी. मध्यप्रदेश अपने प्राकृतिक संसाधनो की प्रचुरता के लिए जाना जाता है। मध्यप्रदेश को देश के सर्वाधिक वनक्षेत्र एवं सर्वाधिक बाघ संख्या 526 बाघ वाला राज्य होने का गौरव भी प्राप्त हुआ है। देश में भावी पीढ़ी को वनों, वन्यप्राणी एवं पर्यावरण के महत्व और वनों के प्रति जागरूकता के लिए प्रदेश शासन वन विभाग एवं मध्यप्रदेष ईको पर्यटन बोर्ड का अभिनव प्रयास अनुभूमि कार्यक्रम के अंतर्गत स्कूली विद्यार्थियों को एक दिवसीय प्रशिक्षण सह जागरूकता अभियान को उत्तर सिवनी वनमण्डल सिवनी द्वारा 12 कैम्पों के माध्यम से संचालित किया जा रहा है।
कैम्प में क्रमशङ वन परिक्षेत्र घंसौर के बिनौरी एवं वन परिक्षेत्र धूमा के बंजारी में अनूभूमि कार्यक्रम में मध्यप्रदेश के मास्टर ट्रेनर आरबी सिंग, शिवानी बघेल एवं अनुराधा ठाकुर के द्वारा वन विभाग के द्वारा बनाए गए नेचरल ट्रेक पर विद्यार्थियों को ले जाकर ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों से चिन्हित छात्र-छात्राओं को यह एक दिवसीय अनुभूमि कैम्प में प्रशिक्षित किया गया।
मास्टर ट्रेनर सिंग द्वारा बताया गया कि पेड़ पौधे किस तरह प्रकाश संष्लेषण के द्वारा अपना भोजन तैयार करते है और इस प्रक्रिया के दौरान यह ऑक्सीजन लेने एवं छोडऩे का काम करते है। वही दूसरी ओर उन्होंने दीमक जिसे मानव अपना दुश्मन समझता है वही दीमक वनों में वृक्षों की मरी हुई छाल को खाकर मिट्टी का निर्माण करती है जिसे ह्यूमस फॉरमेशन कहा जाता है। दीमक वनों को खाद्य आपूर्ति में सहायक होकर पर्यावरण चक्र को बनाये रखने में अपनी अहम भूमिका निभाती है। दीमक को लेकर मिली जानकारी से विद्यार्थी खासे अचंभित हुए।
मास्टर ट्रेनर अनुराधा ठाकुर ने वनौषधि वाले वृक्ष सर्पगंधा, अश्वगंधा, कालमेघ, सफेद मसली, चिरायता, तुलसी, गिलोय के महत्व को विस्तार पूर्वक छात्र छात्राओं को बताया गया और कहा कि यह वनौषधि हमारे वनक्षेत्रों में प्रचुर मात्रा में उपलब्ध है जिसका उपयोग कर आप स्वास्थ्य लाभ ले सकते हैं।
मास्टर ट्रेनर शिवानी बघेल द्वारा जैव विविधता के अंतर्गत पारिस्थितिकीय, अनुवांशकीय एवं प्रजातीय तंत्र को विस्तार पूर्वक बताया गया एवं सूक्ष्मजीव किस तरह हमें हानि पहुंचाते है उसका सटीक उदाहरण गिद्धों का संकटापन के कारण मरे हुए जीव जंतुओं का सडऩे गलने के कारण उत्पन्न जीव की दुर्गंध हमें हानि पहुॅचाती है, यदि गिद्ध संकटापन प्रजाति में नही आते तो वे इन मरे हुये जीवों को अपना भोजन बनाते।
मास्टर ट्रेनर अनुराधा ठाकुर ने कहा कि प्रकृति ने हमें विभिन्न रंगों की छटा एवं पखों की सुंदर कलाकृतियॉ उडऩशील तितलियों को बहुत ही आकर्षक जीव बनाया है। तितलियों में मौजूद प्रोबोसिस फूलो के पराग एवं अन्य द्रव पदार्थो को चूसने का काम आता है। तितलियों की औसत आयु 4 से 8 सप्ताह तक होती है। तितलियॉ पारिस्थितिकीय तंत्र में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करती है वे फूलों के परागण में सहायक होती है। इस एक दिवसीय अनुभूति कार्यक्रम में छात्र छात्राओं को मनोरंजन के साथ वनों का भ्रमण स्वछंद रूप से कराया जाता है।
मास्टर ट्रेनरों एवं वन परिक्षेत्र अधिकारियों के द्वारा छात्र-छात्राओं को वनों में विचरण के दौरान वन, वन्यजीव एवं पर्यावरण के प्रति प्रषिक्षित किया जाता है। यह प्रषिक्षण छात्र छात्राओं के जीवन में अत्यंत महत्वपूर्ण एवं अविस्मरणीय क्षण अनुभूति के रूप में होता है। वन विभाग के उच्च अधिकारी भी प्रशिक्षण के दौरान छात्र-छात्राओं से रूबरू होते है। इसी तारतम्य में गोपाल सिंह, उपवनमण्डल अधिकारी लखनादौन ने कहा कि सभी विद्यार्थी पर्यावरण के सच्चे साथी बनें, साथ ही वन अपराधों को रोकने में सहायक है। वनों में अपराध घटित न हो इस के लिए वन अधिकारियों के फोन नम्बर बच्चों को नोट कराया और कहा कि आप वन अपराधों की सूचना देकर गोपनीय एवं सुरक्षित रहेंगे। बताया कि वन विभाग में प्रशासनिक स्तर पर वनो की सुरक्षा के लिए प्रथम स्तर पर वनरक्षक, द्वितीय स्तर पर वनपाल (एक स्टार), तृतीय स्तर पर उपवनक्षेत्रपाल (दो स्टार), चतुर्थ स्तर पर वनक्षेत्रपाल या परिक्षेत्र अधिकारी (तीन स्टार) होते हैं। इनके ऊपर वन विभाग में सभी अधिकारी न्यायालयीन पद पर आसीन होते हंै। जबकि पुलिस विभाग में सम्पूर्ण स्तर तक सभी गणवेशधारी होते है।
मुख्य वनसंरक्षक सिवनी वृत्त अशोक मिश्रा ने बच्चों से कहा कि भविष्य में आप ही इस देश एवं पर्यावरण के सच्चे रक्षक है। उन्होंने संकटापन्न पक्षी में शामिल गिद्ध की जानकारी देते हुए कहा कि यह पक्षी मृत पशुओं की देह को अपने भोजन के रूप में उपयोग कर उसके सडऩे एवं बीमारी फैलाने से रोकता है। गिद्धों की विश्व में 30, भारत में 09 एवं मध्यप्रदेश में 07 प्रजातियॉ पाई जाती है। वनमण्डल अधिकारी उत्तर सिवनी एसकेएस तिवारी द्वारा पर्यावरण के संरक्षण के साथ-साथ वन एवं वन्यप्राणी जीवों की सुरक्षा बाबत् छात्र-छात्राओं को विस्तार से बताया गया। प्रशिक्षण रोचक एवं ज्ञानवर्धक रहा जो एक दिवसीय है फिर भी उच्च अधिकारियो ने अपनी अपनी अहम भूमिका अदा की।
इस श्रृंखला में वन परिक्षेत्र अधिकारी घंसौर मंजू उइके ने विषैले सर्पो के संबंध में कहा कि इनकी छवि समाज में भय उत्पन्न करने वाले जीवों के रूप में होती है जबकि सर्प हानिकारक चूहों, कीड़े मकोड़ों का भक्षण कर खाद्यान्न सुरक्षा में योगदान देकर मानव जीवन के लिये अत्यंत उपयोगी है। वन परिक्षेत्र अधिकारी धूमा सिद्धार्थ तिवारी द्वारा पक्षी विशेष को देखने का समय के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि अधिकतर पक्षी प्रात:काल एवं सायंकाल में ही क्रियाशील रहते है अत: पक्षियों का अध्ययन करने के लिए सबसे अनुकूल समय सूर्योदय एवं सूर्यास्त का होता है। सभी प्राणी जिसमें स्तरपायी, पक्षी रेंगने वाले, उभयचर, जलीय प्राणी, कीट पतंगे, बच्चें एवं अण्डे को किसी भी व्यक्ति के द्वारा नुकसान पहुंचाये जाने एवं जान से मारने का अपराध दण्डनीय है। अनुभूति कार्यक्रम में छात्र छात्राओं को पर्यावरण दर्षन हेतु नि:षुल्क आवागमन के साथ-साथ अनूभूति पाठ्य पुस्तिका, पेन, कैप, नाष्ता, भोजन प्रदाय किया जाकर कार्यक्रम समापन से पूर्व प्रष्नोत्तरी कार्यक्रम एवं रंगोली प्रतियोगिता उपरांत पारितोषिक प्रमाण पत्र प्रदान किया गया।
दीमक भी है फायदेमंद, यह जानकर हैरान रह गए सब
दीमक भी है फायदेमंद, यह जानकर हैरान रह गए सब

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022 LIVE updates: राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री की मौजूदगी में शौर्य का प्रदर्शनरेलवे का बड़ा फैसला: NTPC और लेवल-1 परीक्षा पर रोक, रिजल्‍ट पर पुर्नविचार के लिए कमेटी गठितRepublic Day 2022: गणतंत्र दिवस पर दिल्ली की किलेबंदी, जमीन से आसमान तक करीब 50 हजार सुरक्षाबल मुस्तैदरायबरेली में जहरीली शराब पीने से 6 की मौत, कई गंभीर, जांच के आदेशBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयरेलवे ट्रेक पर प्रदर्शन किया तो कभी नहीं मिलेगी नौकरी, पढ़े पूरी खबरUP Election 2022: “यहां वोट मांगने मत आइये” सियासी दलों के नेताओं को चेतावनी, जानिए कहाँ का है मामलाLucknow Super Giants : यूपी की पहली आईपीएल टीम का नाम है लखनऊ सुपर जाइंट्स
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.