पौधों से गांव की पहाडिय़ां होंगी हरी-भरी

बारिश का पानी भी उन पहाडिय़ों में ही रोका जाएगा।

By: mantosh singh

Published: 01 Jul 2019, 11:44 AM IST

सिवनी. जनपद पंचायत सिवनी की ग्राम पंचायत झीलपिपरिया की पहाडिय़ा हरी भरी होगी। वहीं बारिश का पानी भी उन पहाडिय़ों में ही रोका जाएगा। ताकि जल स्तर बना रहे। इसके लिए ग्राम पंचायत झीलपिपरिया पंचायत की सभी पहाडिय़ों में पौधारोपण व पानी रोको पानी सोखों के लिए ट्रंच खुदाई का काम सतत रूप से चल रहा है। 80 से 90 मजदूर सतत इस काम में जुटे हुए हैं। शुक्रवार को 82 मजदूर ट्रंच खुदाई का कार्य करने में जुटे हुए थे।
झीलपिपरिया ग्राम पंचायत के अंतर्गत 72 हेक्टेयर की पहाडिय़ों में पानी रोकने व पानी सोखने की कवायद चल रही है। अप्रैल माह से पहाडिय़ों में ट्रेंच खुदाई का कार्य नियमित रूप से चल रहा है। तकनीकी अधिकारी विजय वर्मा के निर्देशन में ट्रंच खुदाई का काम चल रहा है। इसमें बारिश का पानी का व्यर्थ बहना मुश्किल है। पहाडिय़ों में ट्रंच इस तरह बनाया जा रहा है कि अगर एक ट्रंच में पानी भर जाता है तो बाकी पानी बहकर दूसरे ट्रंच में चला जाएगा। यानी बूंद भर पानी भी कहीं बहकर नहीं जाएगा। ट्रंच में ही पानी भरा रहेगा या फिर उसी में सूख जाएगा। हरियाली भी आएगी, रोजगार भी मिलेगा। दरअसल ट्रंच में जहां पानी भरेगा या सोखा जाएगा। ट्रंच खुदाई के दौरान निकाली गई मिट्टी गड्ढे के दोनों सिरों पर एकत्र कर इसमें बीज डाले गए हैं। जो बारिश के दौरान अंकुरित हो जाएंगे। गांव के गरीब मजदूरों को इस कार्य से वर्तमान में रोजगार तो मिल रहा है। वहीं आने वाले समय में भी रोजगार मिलेगा। इन पहाडिय़ों में मुनगा, आम व आंवला लगाया जा रहा है। जो भविष्य में गांव के लोगों के लिए फायदेमंद होगा।

mantosh singh Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned