खरीदी के बचे दो दिन, 14 हजार से अधिक किसान अभी नहीं बेच पाएं हैं धान

अव्यवस्था और यूपी के धान को केन्द्र पर बेचने की शिकायत ने बढ़ाई मुश्किल

By: akhilesh thakur

Published: 14 Jan 2021, 09:53 PM IST

सिवनी. धान उपार्जन की अंतिम तिथि 15 जनवरी है। खरीदी के अब केवल दो दिन बने हैं। आकड़ों पर गौर करें तो 61 हजार से अधिक पंजीकृत किसान हैं। इसमें से 46102 किसानों ने सोमवार तक धान बेच दिया है। वर्तमान में 14 हजार से अधिक किसान अभी धान नहीं बेच पाए हैं। नागरिक आपूर्ति निगम के जिला प्रबंधक विवेक रंगारे ने इसकी पुष्टि की है।
उधर धरातल पर गौर करें तो जिलेभर में धान बेचने वालों किसानों से प्रभारी केन्द्र प्रभारी अधिक धान की तौलाई ले रहे हैं। धान तौलाई के लिए प्रति कट्टी छह रुपए की वसूली की जा रही है। समय से केन्द्र पर धान बेचने के लिए किसान प्रति कट्टी पैसे देने और अधिक धान की तौलाई होने के बाद भी विरोध नहीं कर रहे हैं। इन सबके बीच जिला प्रशासन द्वारा केन्द्रों के निरीक्षण के लिए बनाई गई टीम की कार्यशैली पर सवाल खड़े हो रहे हैं। कलेक्टर प्रतिदिन संबंधित अधिकारियों की बैठक लेकर समीक्षा करते हैं, लेकिन किसानों की परेशानी पर कोई चर्चा नहीं होती है। संबंधित अधिकारियों को केन्द्र प्रभारियों को मौन स्वीकृति मिल रही है, जिसका खमियाजा किसान भुगत रहे हैं। इसके अलावा केन्द्रों पर सबसे बड़ी समस्या धान परिवहन की है। किसी भी केन्द्र पर धान परिवहन की स्थिति अच्छी नहीं है। इसकी वजह से भी किसानों की धान खरीदी प्रभावित हो रही है। जिले के कुछ केन्द्रों पर यूपी का धान लाकर व्यापारियों द्वारा बेचे जाने की मिल रही शिकायत भी किसानों की मुश्किल खड़ी कर रही है। विगत दिनों नान के जिला प्रबंधक ने भी छपारा में एक ट्रक यूपी का धान पकड़ा था।

वर्जन -
जिले के 101उपार्जन केंद्रों में पंजीकृत किसानों से धान उपार्जन किया जा रहा है। शासन स्तर से उपार्जन की अंतिम तिथि 15 जनवरी निर्धारित है। सभी पंजीकृत किसानों से अनुरोध है कि वे 14 व 15 जनवरी को ही अपने उपार्जन केंद्र पहुंचकर धान का उपार्जन करवा लें। 15 जनवरी को शाम 5.00 बजे के बाद केंद्रों में उपार्जन कार्य नहीं किया जाएगा।
- एसके मिश्रा, जिला आपूर्ति अधिकारी सिवनी

akhilesh thakur Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned