पूरे दिन खुलना था स्कूल, घंटे भर में ही लटका ताला, देखिए

Sunil Vandewar

Publish: Apr, 02 2019 12:37:42 PM (IST) | Updated: Apr, 02 2019 12:37:43 PM (IST)

Seoni, Seoni, Madhya Pradesh, India

सिवनी. जिला मुख्यालय से महज १४ किमी दूर ग्राम ग्राम पंचायत जमुनिया के शासकीय प्राथमिक शाला में शनिवार को दोपहर करीब १२:१५ बजे ताला लटका था। जबकि विभाग व अधिकारियों के स्पष्ट निर्देश हैं, कि निर्धारित समय तक शाला संचालित होनी चाहिए। इस मामले में सिवनी बीआरसीसी से पूछा गया तो उन्होंने सम्बंधित प्रधानपाठक के प्रति खासी नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि यदि तय समय से पहले ताला लगाया गया है, तो निश्चित तौर पर कार्यवाही की जाएगी।
उक्त शाला भवन में जब ताला लटकता देख जब सम्बंधित प्रधानपाठक एमएल सनोडिया से मोबाइल पर जानकारी चाही गई तो उन्होंने कहा कि स्थानीय परीक्षा का परिणाम घोषित करने स्कूल गए थे और इसके बाद ताला लगाकर चले गए। जबकि विद्यार्थियों और अभिभावकों का कहना है कि प्रधानपाठक और शिक्षक आए थे और कुछ ही देर में यह कहकर चले गए कि ०१ अपै्रल को अंकसूची दी जाएगी।
शिक्षकों की मनमानी से शिक्षा पर असर -
इस शासकीय शाला के पूर्व पालक शिक्षक संघ अध्यक्ष हरिसिंह प्रजापति ने बताया कि यहां शिक्षकों की मनमानी का आलम हमेशा से रहा है। समय पर शाला न पहुंचना, तय समय से पहले छुट्टी देकर चले जाना और पढ़ाने के बजाए मोबाइल पर ही लगे रहने जैसी शिकायतें कलेक्टर, डीइओ, बीआरसीसी तक लिखित-मौखिक की गई हैं, लेकिन न तो कोई कार्रवाई हुई और न ही यहां की व्यवस्था में कोई सुधार आया। यहां के विद्यार्थियों की शिक्षा का स्तर भी बेहतर नहीं होने के पीछे इन्हीं शिक्षकों की मनमानी को दोषी ठहराया गया है।
आती रही हैं ऐसी शिकायतें -
उक्त शाला में पूर्व से शिक्षकों की लापरवाही सम्बंधी शिकायतें आती रही हैं। उन्हें समझाइश भी दी जाती रही है। अब इस सम्बंध में हमारे द्वारा वरिष्ठ अधिकारियों को भी अवगत कराया जाएगा।
आरके दुबे, जनशिक्षक उमावि कातलबोड़ी
पूछा जाएगा, क्यों लगाया ताला -
स्थानीय परीक्षा परिणाम की घोषणा दिवस पर भी पूरे समय शाला में उपस्थिति होनी चाहिए थी। यदि जमुनिया प्राथमिक शाला में तय समय से पहले ताला लगा दिया गया है, तो यह ठीक नहीं है। इस सम्बंध में सम्बंधित से पूछा जाएगा। लापरवाही पाए जाने पर कार्रवाई की जाएगी।
राहुल सिंह, बीआरसीसी सिवनी

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned