पेंच टाइगर रिजर्व के बाघ का जीआई तार से गला घोंटकर शिकार, अपराधियों को तलाश रहा अमला

घाटकोहका बफर परिक्षेत्र के बीट टिकाड़ी के कक्ष क्रमांक ३७८ में गश्ती दल का दिखा था शव

By: akhilesh thakur

Updated: 24 Apr 2021, 08:23 AM IST

सिवनी. पेंच टाइगर रिजर्व के घाटकोहका बफर परिक्षेत्र में शुक्रवार को एक बाघ का शिकार किए जाने का मामला सामने आया है। बाघ का शव बीट टिकाड़ी के कक्ष क्रमांक 378 में गश्ती दल को गश्त के दौरान दिखा। नर बाघ मृत अवस्था में मिलने की बात बताई जा रही है। गश्ती दल ने मौके से इसकी सूचना वरिष्ठ अधिकारियों को दी। सूचना के बाद बड़ी संख्या में अधिकारियों का दल मौके पर पहुंच गया।
पेंच के घाटकोहका बफर परिक्षेत्र में मिले बाघ का शिकार तार का फंदा लगाकर किए जाने की पुष्टि पोस्टमार्टम के बाद प्रथम दृष्टया हुई है। बाघ के गले में जीआई तार लिपटा हुआ मिला है। मौके पर पहुंचे मुख्य वन संरक्षक एवं क्षेत्र संचालक पेंच टाइगर रिजर्व विक्रम सिंह परिहार, अधीक्षक आशीष कुमार पांडेय, वन्यप्राणी चिकित्सक डॉ. अखिलेश मिश्रा, परिक्षेत्र अधिकारी विवेक नाग, एनटीसीए प्रतिनिधि के रूप में एसके जौहरी उपवनमण्डल अधिकारी कुरई सामान्य की उपस्थिति में डॉग स्क्वॉयड से पूरे क्षेत्र की तलाशी कराई गई है। वन्य प्राणी चिकित्सक डॉ. मिश्रा ने शव परीक्षण किया। इस दौरान मृत बाघ के गले में जीआई तार लिपटा मिला। बाघ को तार का फंदा लगाकर मारा जाना प्रतीत हो रहा है। बाघ के शरीर के समस्त अव्यव बाल, नाखून, दांत आदि सुरक्षित अवस्था में मिले हैं। वन्यप्राणी चिकित्सक द्वारा शव परीक्षण उपरांत एनटीसीए की समस्त एसओपी का पालन करते हुए अधिकारियों की उपस्थिति में शव दाह किया गया। पेंच प्रबंधन की टीम अपराधियों की तलाश कर रही है।

akhilesh thakur Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned