scriptThe world's longest written constitution has crossed seven decades | दुनिया का सबसे लंबा लिखित संविधान पार कर चुका है सात दशक | Patrika News

दुनिया का सबसे लंबा लिखित संविधान पार कर चुका है सात दशक

सिवनी पीजी कॉलेज में संविधान दिवस पर दिलाई गई शपथ

सिवनी

Published: November 26, 2021 10:23:53 pm

सिंवनी. शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में संविधान दिवस पर कार्यक्रम आयोजित हुआ। प्राचार्य डॉ. संध्या श्रीवास्तव ने महाविद्यालय के स्टाफ छात्र-छात्राओं को संविधान की प्रस्तावना को पढ़कर सुनाया और शपथ दिलाया। इसके उपरांत उन्होंने भारतीय संविधान निर्माता डॉ. भीमराव अंबेडकर को नमन करते हुए कहा कि दुनिया का सबसे लंबा लिखित संविधान अपने सात दशक पूरे कर चुका है। यह निरंतर विस्तार और सुधार कर रहा है। वर्ष 1947 में स्वाधीन होने के बाद राज्यों के एक संघ के तौर पर भारत ने अपना नया संविधान तैयार करना शुरू किया है।
कहा कि संविधान सभा द्वारा भारतीय संविधान को 26 नवंबर 1949 को ग्रहण किया गया था। इस दिन को संविधान दिवस के तौर पर जाना जाता है। वहीं 26 जनवरी 1950 को भारत ने अपना संविधान लागू किया था। उस दिन को देश में गणतंत्र दिवस के तौर पर मनाया जाता है। राजीतिक विज्ञान विभाग की विभागाध्यक्ष डॉ. जोत्सना नावकर ने भारतीय संविधान पर प्रकाश डालते हुए कहा कि 72 वर्ष पूर्व बनकर तैयार हुए संविधान के तहत भारत संसदीय प्रणाली की सरकार वाला एक स्वतंत्र प्रभुसत्ता संपन्न समाजवादी लोकतंत्रात्मक गणराज्य है। यहां की सरकार, सेना, प्रशासनिक और न्यायिक तंत्र भारत गणराज्य के संविधान के अनुसार शासित होते हैं। केंद्रीय कार्यपालिका के संवैधानिक प्रमुख राष्ट्रपति हैं। भारत के संविधान की धारा-79 के अनुसार केंद्रीय संसद की परिषद में राष्ट्रपति तथा दो सदन है, जिन्हें राज्यों की परिषद यानी राज्यसभा तथा लोगों का सदन यानी लोकसभा के नाम से जाना जाता है। संविधान की धारा-74 (1) में यह व्यवस्था की गई है कि राष्ट्रपति की सहायता करने तथा उसे सलाह देने के लिए एक मंत्री परिषद होगी। इसके प्रमुख प्रधानमंत्री कहलाते हैं। राष्ट्रपति मंत्री परिषद सलाह के अनुसार अपने कार्यों का निष्पादन करते हैं। इस प्रकार वास्तविक कार्यकारी शक्ति केंद्रीय मंत्री परिषद में निहित है। इसके प्रमुख प्रधानमंत्री होते हैं। सहायक प्राध्यापक डॉ. मान सिंह, डॉ. सीमा भास्कर, डॉ. सविता मसीह, डॉ. सीमा मर्सकोले, डॉ. मुन्ना लाल चौरसिया, डॉ. सीएल अहिरवार व छात्र-छात्राओं की उपस्थिति रही।
दुनिया का सबसे लंबा लिखित संविधान पार कर चुका है सात दशक
दुनिया का सबसे लंबा लिखित संविधान पार कर चुका है सात दशक

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

School Holidays in February 2022: जनवरी में खुले नहीं और फरवरी में इतने दिन की है छुट्टी, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीAstro Tips : इन राशि वालों के रिश्ते ज्यादा कामयाब नहीं हो पाते, जानें ज्योतिष की नजर में क्या है इसका कारण?Sharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

दिल्ली में हटा वीकेंड कर्फ्यू, बाजारों से ऑड-ईवन भी हुआ खत्म, जानिए और किन प्रतिबंधों में दी गई छूटराहुल गांधी ने फॉलोवर्स सीमित होने पर Twitter पर लगाया सरकार के दबाव में काम करने का आरोप, जानिए क्या मिला जवाबकेरल और कर्नाटक में 50 हजार तक सामने आ रहे नए केस, जानिए अन्य राज्यों का हालटाटा ग्रुप का हो जाएगा अब एयर इंडिया, कर्मचारियों को क्या होगा फायदा और नुकसान?झारखंड में नक्सलियों ने ब्लास्ट कर उड़ाया रेलवे ट्रैक, राजधानी एक्सप्रेस सहित कई ट्रेनों का रूट बदला8 साल की बच्ची से रेप के आरोप में मस्जिद के इमाम गिरफ्तार, पढ़ने के लिए मस्जिद जाती थी लड़कीUttarakhand Assembly Elections 2022: हरीश रावत की सीट बदली, देखिए Congress की नई लिस्टCG की बेटी अंकिता ने किया लद्दाख की 6080 मीटर सबसे ऊंची बर्फीली चोटी फतह, माइनस 39 डिग्री टेम्प्रेचर में भी हौसला रहा बुलंद
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.