श्रीराम के बताए मार्ग पर चलने से होगी समाज में समानता

मंशापूर्ण हनुमानघाट में जारी श्रीराम कथा

By: santosh dubey

Published: 11 Oct 2019, 09:17 PM IST

Seoni, Seoni, Madhya Pradesh, India

मोहगांव/सिवनी. वैनगंगा के तट पर मंशापूर्ण हनुमान घाट में भक्ति ज्ञान वैराग्य की गंगा बह रही है जिसमें भक्त डुबकी लगा रहे हैं।
यहां जारी श्रीराम कथा में कथावाचक बालव्यास दिव्यांशु महाराज ने श्रद्धालुजनों से कहा कि मर्यादा पुरुषोत्तम राम के जीवन से जुड़े प्रसंग आज भी सामान्यजन के जीवन की जटिलताओं का समाधान प्रस्तुत करते हैं।
उन्होंने आगे कहा कि हमें अपने मन से दूषित विचारों को त्याग कर प्रेम व करुणा को स्थान देना चाहिए। दूषित विचारों का विस्फोट बहुत भयानक होता है। त्रेता युग में एक मंथरा ने अपने दूषित विचारों से कैकीय का भ्रमित कर श्रीराम को वनवास दिलवाया था। उस युग की एक मंथरा ही मंथरा थी अब तो हर गांव में कई मंथरा मिल जाएंगी। ऐसी नारी को अपने घर में कभी प्रवेश नहीं करने देना चाहिए। प्रेम के धरातल से राम राज्य का निर्माण किया जा सकता है। वहीं उन्होंने कहा कि जिसकी आंखों में क्रोध होता है उसके समीप होने पर भी भगवान के दर्शन नहीं होते हैं। श्रीराम कथा व्यक्ति को मर्यादापूर्वक जीवन जीने की कला सिखाती है।
भगवान श्रीराम के बताए मार्ग पर चलकर ही समाज में समानता का वातावरण पैदा होता है। श्रीरामायण में हरेक प्रसंग जीवन को नई दिशा प्रदान करता है। हमें जीवन में रिश्तों की अहमियत का ज्ञान प्राप्त होता है। हमें अपने बच्चों के भीतर ऐसी भावना पैदा करनी चाहिए ताकि वह धार्मिक प्रवृत्ति के साथ जुड़कर समाज की सेवा करें।
उन्होंने कहा कि कृष्णलीला हमारी आत्मा व राम कथा हमारे तन का श्रृंगार है। रामकथा का अनुसरण करना चाहिए। भगवान का अवतार राक्षसों का संहार करने के लिए ही नहीं हुआ था बल्कि अपने भक्तों को उनके प्रेम का फल प्रदान करने के लिए भी हुआ था। उनको दर्शना देना था। भगवान भाव के भूखे होते हैं जो प्रेम से ईश्वर को याद करता है ईश्वरी उसी के हो जाते हैं। श्रीराम का अवतार भी इस बात का घोतक है।

 

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned