पिता के दुव्र्यहार से तंग मां बचपन में छोड़कर चली गई, पालने वाली दादी का 10 वर्ष में छूटा साथ

पिता नहीं कर पा रहा पालन-पोषण, महिला थाना पहुंची मासूम को प्रभारी ने किया समिति को सुपुर्द

By: akhilesh thakur

Updated: 18 Sep 2021, 09:57 AM IST

सिवनी. शहर के मंगलीपेठ निवासी 10 वर्ष की एक मासूम की मां पिता के दुव्र्यवहार से बचपन में छोड़कर चली गई। दादी ने उसका पालन-पोषण शुरू किया, लेकिन भगवान को कुछ और ही मंजूर था। बीते कुछ दिनों पूर्व उसकी दादी की मौत हो गई। इसके बाद मासूम का पिता उसका सही ढंग से पालन-पोषण नहीं कर पा रहा था। मासूम बीते गुरुवार को महिला थाना पहुंची और प्रभारी को आपबीती बताई। इस पर थाना प्रभारी ने जिला महिला कार्यक्रम अधिकारी अभिजीत पचौरी को पूरे मामले से अवगत कराकर बालिका को जबलपुर बाल संरक्षण गृह में सुरक्षित भेजने की पहल की है।
बतौर थाना प्रभारी प्रदीप वाल्मीकि ने बताया कि गुरुवार की शाम करीब पांच बजे मंगलीपेठ निवासी 10 वर्षीय एक मासूम थाने में आई और यहां-वहां मासूमियत से देखने लगी। इस पर उस मासूम बालिका के चेहरे के पीछे छिपे दर्द के अहसास को भांपकर पास बिठाया। नजदीक के रेस्तरां से मासूम बालिका के पसंद का खाना खिलाया। बताया कि पुलिस थाने में बाल मित्र वातावरण देखकर बच्ची ने मासूम जुबान से अपनी पीड़ा बताई। कहा कि उसकी मां उसके पिता के दुव्र्यवहार से परेशान थी। इसी कारण बचपन में छोड़कर चली गई। जैसे-तैसे दादी ने पाल पोसकर बड़ा किया तो अभी कुछ समय पूर्व दादी मां भी चल बसी। बच्ची के पिता द्वारा उसकी देखरेख में लापरवाही बरती जा रही है। उसकी पढ़ाई-लिखाई पर ध्यान नहीं दिया जाता है। उसे बच्चों के साथ खेलने नहीं दिया जाता है। ठीक से खाने-पीने नहीं दिया जाता है। मासूम ने कहा कि वह पढ़ लिखकर पुलिस बनना चाहती है। मासूम बालिका के सुनहरे स्वपनों को गम्भीरता से लेते हुए। उसके सुनहरे भविष्य को ध्यान में रखकर महिला थाना प्रभारी ने संवेदनशीलता प्रदर्शित करते हुए तत्काल जिला महिला कार्यक्रम अधिकारी अभिजीत पचौरी को इसकी जानकारी दी। मासूम बालिका के उचित बाल संरक्षण हेतु गम्भीर चर्चा किया।
बाल कल्याण समिति के सदस्य सुनील साहू, हितेश बालभड़े, अध्यक्ष विनोद शुक्ला, शशिबाला डेहरिया तुरन्त महिला थाने आए, मासूम बालिका को अपने सुपुर्द लिया और प्राथमिक तौर पर उसे वन स्टेप सेंटर सिवनी ले गए, जहां उसका बेहतर कौन्सिलिंग करने के उपरांत महिला बाल विकास विभाग बाल कल्याण समिति द्वारा बालिका को जबलपुर बाल संरक्षण गृह में सुरक्षित रखा जाएगा, जहां शासन की देखरेख में मासूम बालिका की उचित पढ़ाई लिखाई होगी। भरण-पोषण, संरक्षण किया जाएगा, महिला थाना प्रभारी प्रदीप वाल्मीकि की इस मानवीय पहल की सराहना हो रही है।

akhilesh thakur Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned