किसान मंडी में उपज बेचने खुद बदल सकते हैं तारीख

किसान मंडी में उपज बेचने खुद बदल सकते हैं तारीख

Sunil Vandewar | Publish: Apr, 26 2018 11:59:07 AM (IST) Seoni, Madhya Pradesh, India

एसएमएस भेजने की व्यवस्था से किसानों को मिलेगी सुविधा

सिवनी. इस वर्ष जिले में फसल उत्पादन देरी से हुआ है, ऐसे में मंडी से किसानों को मिल रहे एसएमएस के तुरंत बाद विक्रय के लिए उपज लेकर पहुंचना मुश्किल हो रहा है। इसी समस्या को देखते हुए शासन स्तर से किसानों के लिए सुविधा अनुसार स्वयं ही उपज बेचने की तिथि के निर्धारण की सुविधा दी है।
प्रदेश सरकार ने रबी उपार्जन 2018-19 में गेहूं, चना, मसूर एवं सरसों क्रय करने के लिए किसानों को एसएमएस प्रेषित किए जाने संबंधी नए निर्देश दिए गए हैं। एसएमएस भेजने एवं विक्रय की तिथि 3 दिवस से बढ़ाकर 5 दिवस की जाएगी। यदि कोई कृषक अपनी उपज विक्रय के लिए दिनांक परिवर्तन कराना चाहता है, स्वयं निर्धारण करना चाहता है या अपना मोबाइल नम्बर परिवर्तित कराना चाहता है तो वह इस सुविधा का लाभ उपार्जन केन्द्र के लॉगिन के माध्यम से प्राप्त कर सकता है।
इस सुविधा का उपयोग किसान केवल एक बार ही कर सकेगा। इसी प्रकार उपार्जन समिति से संबद्ध एक ही ग्राम के किसानों को समूह के रूप में एसएमएस भेजे जाएंगे, जिससे वे एक साथ वाहन की व्यवस्था कर अपनी उपज बिक्री के लिए ला सकेंगे।
उपार्जन केन्द्र के लॉगिन में प्रत्येक किसान की एक बार में अधिकतम विक्रय मात्रा प्रदर्शित है। इसमें अधिकतम विक्रय की मात्रा प्रदर्शित करने के साथ-साथ किसान सत्यापन तथा संशोधन की अंतिम तिथि भी प्रदर्शित की जा रही है। वर्तमान में मुख्यालय स्तर से 70 एसएमएस प्रति उपार्जन केन्द्र प्रति दिवस किए जा रहे हैं, इस एसएमएस संख्या को बढ़ाकर 100 एसएमएस प्रतिदिन किया जा रहा है। जिन किसानों द्वारा उपज विक्रय की तिथि में विक्रय नहीं की जा सकी है, उन किसानों को एसएमएस शेड्यूलिंग का एक राउंड पूर्ण होने के पश्चात पुन: एसएमएस प्रेषित किया जाएगा।
इनका कहना है -
इस वर्ष देरी से फसल उत्पादन हुआ है, इसलिए किसान एसएमएस मिलने के तुरंत बाद नहीं आ पा रहे हैं, इसलिए बाद में आने वाले किसानों से भी उपज खरीदी जा रही है। किसानों की सुविधा के लिए यह व्यवस्था की गई है।
एसके परते, सचिव, कृषि उपज मंडी सिमरिया


आम आदमी का होगा ५ लाख का स्वास्थ्य बीमा
आयुष्मान भारत योजना के अन्तर्गत 2 योजनाएं स्वास्थ्य एवं आरोग्य केन्द्र तथा राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा योजना 15 अगस्त से लागू की जाएगी।
आयुष्मान भारत योजना के अन्तर्गत पहली योजना स्वास्थ्य एवं आरोग्य केन्द्र में लोगों के घरों के नजदीक स्वास्थ्य एवं आरोग्य केन्द्र खोले जाएंगे। जहां संक्रामक रोगों, मातृ स्वास्थ्य एवं बाल स्वास्थ्य सेवाओं के साथ-साथ व्यापक स्वास्थ्य देखभाल की सुविधाएं दी जाएंगी। इन केन्द्रों पर आवश्यक दवाएं व जांच की सुविधाएं मुफ्त में मिलेंगी।
दूसरी योजना राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा योजना है। इसमें निर्धन और असुरक्षित परिवार आएंगे। इस योजना के तहत प्रत्येक परिवार को 5 लाख रुपए तक का अस्पताल का खर्चा दिया जाएगा। नेशनल हेल्थ इंश्योरेंस योजना के तहत लोगों को 5 लाख रुपए तक का स्वास्थ्य बीमा दिया जाएगा।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned