केचुआ खाद व उत्पादन तकनीक का छात्र-छात्राओं को दिया गया प्रशिक्षण

कृषि उद्यमिता से होंगे आत्मनिर्भर

By: akhilesh thakur

Published: 25 Feb 2021, 10:45 AM IST

सिवनी. कृषि विज्ञान केंद्र सिवनी के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रमुख डॉ. एनके सिंह के मार्गदर्शन में धारनाकला उच्चतर माध्यमिक शाला के कक्षा नवमीं एवं १०वीं के छात्र-छात्राओं के भ्रमण दल के समक्ष जीके राणा द्वारा कृषि की उन्नत तकनीक, कृषि उद्यमिता कौशल उन्नयन, विभिन्न फसलों की उन्नतशील प्रजातियों, फसलों में लगने वाली कीट व्याधियां एवं उनके उपचार, पोषण वाटिका एवं इसके महत्व, मशरूम उत्पादन, फल एवं सब्जियों के परीक्षण के बारे में बताया गया। डॉ. केपीएस सैनी ने पशुपालन में उपयुक्त वर्षभर हरे चारे की उपलब्धता हेतु संकर नेपियर घास, अजोला उत्पादन तथा संतुलित आहार प्रदाय करने के लिए छात्र एवं छात्राओं को विस्तार से बताया।
दुग्ध उत्पादन हेतु उन्नत नस्लों के पशुओं का चयन एवं केंचुआ खाद उत्पादन तकनीक, विषयों पर प्रशिक्षित किया गया। भ्रमण दल में आए हुए छात्र-छात्राओं द्वारा सक्रियता से भाग लेकर विभिन्न सवाल जबाव किया गया, जिनका सटीकता एवं सही ढंग से केंद्र के वैज्ञानिकों द्वारा जबाव दिया गया। केंद्र में मुख्य रूप से तकनीकी पार्क, अमरूद उद्यान एवं विभिन्न इकाईयों से सीख लेकर नए स्टार्टअप शुरू करने तथा इसे उद्यमिता विकास से जोड़कर आत्मनिर्भर बनने हेतु सुझाव दिए गए।

akhilesh thakur Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned