साइकिल पर तिरंगा और 07 हजार किमी का सफर, मोदी से मिलकर कुछ कहना चाहता है ये युवक...

Sunil Vandewar

Publish: May, 21 2019 07:20:05 PM (IST) | Updated: May, 21 2019 07:20:06 PM (IST)

Seoni, Seoni, Madhya Pradesh, India

सिवनी. हरियाणा के रेवाड़ी जिले के ग्राम निगानिया वास के रहने वाले २२ वर्षीय चंद्रप्रकाश जयपाल यादव तिरंगा लेकर 07 हजार किलोमीटर के सफर पर साइकिल से आगे बढ़ते हुए ९८वें दिन सिवनी से होकर लखनादौन पहुंचे। उनका मकसद देश में एकता, शांति, भाईचारा, बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का संदेश देना है। बताया कि सफर की शुरुआत हर दिन सुबह साइकिल पर तिरंगा फहराकर, सलामी देकर होती है।
हरियाणा से ११ फरवरी को निकले चंद्रप्रकाश ने अब तक हरियाणा, राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक, केरल, तमिलनाडू, आंध्रप्रदेश, तेलंगाना, महाराष्ट्र से होते हुए मप्र में सिवनी के खवासा बार्डर की ओर से पहुंचे हैं। चंद्रप्रकाश ने शनिवार को सिवनी एवं रविवार को लखनादौन पहुंचकर लोगों को देशभक्ति, एकता का संदेश दिया। कहा कि यह यात्रा पुलवामा में शहीदों को भी समर्पित है, जिन्होंने देश की खातिर शहादत दी है।
सिवनी पहुंचने पर नागरिकों ने चंद्रप्रकाश के हौसले की सराहना करते हुए फूल भेंट कर भोजन व मार्ग के लिए आर्थिक सहयोग भी किया। पत्रिका से चर्चा करते हुए चंद्रप्रकाश ने बताया कि वह बीएससी सेकेण्ड ईयर का छात्र है। कहा कि मन में देश भ्रमण कर एकता का संदेश देने का विचार चल रहा था, लेकिन कृषक पिता जयपाल, माता नीलम देवी व परिवार के अन्य सदस्य राजी नहीं थे। इसके बावजूद ११ फरवरी २०१९ को परिवार को बिना बताए साइकिल उठाई, तिरंगा थामा और निकल पड़ा देश की यात्रा पर। करीब २०० किमी की यात्रा पूरी करने के बाद मां को फोन किया और बताया कि वह साइकिल से देश की यात्रा पर निकला है। मां ने लौटने के लिए कहा लेकिन वह नहीं माना। अब हर दिन अपने माता-पिता से बात कर यात्रा की जानकारी देता रहता है।
बताया कि प्रतिदिन ८० से १०० किमी की साइकिल का सफर हो रहा है। गर्मी के इन दिनों में सुबह ०६ बजे से दोपहर १२ बजे तक साइकिल चलाते हैं, दोपहर में ३-४ घंटे कहीं रूककर आराम करने के बाद फिर सफर पर आगे बढ़ जाते हैं। जहां शाम होती है वहीं लोगों की मदद से रात गुजार लेते हैं। यात्रा के दौरान उन्हें नागरिकों का अच्छा सहयोग मिल रहा है। अब तक करीब ६१०० किमी की यात्रा पूरी हो चुकी है, अब ९०० किमी का सफर बाकी है, जो कि अगले १५ दिन के पहले पूरी करने का जज्बा है। बताया कि मप्र से होकर उत्तरप्रदेश के बाद दिल्ली के लाल किला में जाकर यात्रा पूरी होगी। चंद्रप्रकाश की इच्छा है कि वह दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात कर अपनी यात्रा को समाप्त करे।
अड़चन के बाद भी नहीं रुका सफर -
चंद्रप्रकाश ने बताया कि इस यात्रा के दौरान रास्ते में कई तरह की अड़चन भी आ रही हैं, लेकिन उनसे वह विचलित नहीं है। केरल में यात्रा के दौरान श्वान ने काट लिया था। तिरूपति में बीमार हो गया था, सरकारी अस्पताल से दवाई ली, थोड़ा आराम किया और फिर आगे बढ़ गया। साइकल पंचर होने या बिगडऩे पर मीलों पैदल चलना, रात गुजारने सही ठिकाना न मिलने जैसे हालात के बावजूद चंद्रप्रकाश का हौसला कायम है, वह तिरंगा को सलामी देकर अपने सफर पर आगे बढ़ रहा है।

 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned