scriptपेंच टाइगर रिजर्व जाने वाले सुकतरा-कर्माझिरी सडक़ के कब बहुरेंगे दिन | Patrika News
सिवनी

पेंच टाइगर रिजर्व जाने वाले सुकतरा-कर्माझिरी सडक़ के कब बहुरेंगे दिन

– पीडब्लूडी ने कार्य की योजना तैयार कर भेजा भोपाल प्रशासकीय स्वीकृति अटकी
– सडक़ के बनने से पेंच टाइगर रिजर्व आने वाले पर्यटकों को मिलेगी सहुलियत
– ग्रामीण क्षेत्र की सडक़ों से छिंदवाड़ा पहुंचना होगा आसान, दर्जनों ग्राम को होगा फायदा

सिवनीJun 03, 2024 / 06:33 pm

akhilesh thakur

alternate road
सिवनी. पेंच टाइगर रिजर्व के कर्माझिरी व जमतरा गेट तक जाने वाले मार्गों के दिन बहुरने की संभावना है, लेकिन कब तक यह स्पष्ट नहीं हो पा रहा है। पीडब्लूडी ने इस सडक़ के निर्माण की योजना तैयार कर भोपाल भेज दिया है। कुछ माह पूर्व तक इस कार्य के लिए प्रशासकीय स्वीकृति कराने में महकमा जुटा था। लेकिन इसके आगे बात नहीं बढ़ पाई। अब सडक़ निर्माण के योजना की प्रशासकीय स्वीकृत भोपाल में अटकी है। बताया जा रहा है कि प्रशासकीय स्वीकृति दिलवाने में क्षेत्रीय विधायक व उच्चाधिकारियों को ही पहल करनी होगी। अन्यथा यह कार्य अटक सकता है। इस सडक़ के निर्माण से दर्जनों ग्राम को सीधा फायदा होगा। सडक़ निर्माण के साथ ही इससे जुड़े गांव विकास की मुख्य धारा से भी जुड़ जाएंगे।

पीडब्लूडी की तैयार योजना पर गौर करें तो सुकतरा-बादलपार-कर्माझिरी-जमतरा तक 35 किमी की सिंगल सडक़ को 96.53 करोड़ रुपए से टू-लेन बनाया जाना है। आचार संहिता लगने के पूर्व तक महकमे के अधिकारियों ने इस सडक़ को प्रशासकीय स्वीकृति दिलाने का प्रयास किया, लेकिन बात नहीं बनी। इसबीच आचार संहिता लग गई और यह ठंडे बस्ते में चला गया। अब चार जून को आचार संहिता खत्म होने वाली है। ऐसे में इस सडक़ की अटकी प्रशासकी स्वीकृति का मामला सामने आया है।
खवासा-टूरिया मार्ग का भी होगा कार्य


खवासा से टूरिया तक करीब 13 किमी सडक़ निर्माण का कार्य 20 करोड़ रुपए से होना है। इस कार्य की प्रशासकीय स्वीकृति मिल चुकी है। आचार संहिता के बाद पीडब्लूडी इसका टेंडर निकालेगी। ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है। टेंडर की प्रक्रिया पूरी होने के बाद इसके निर्माण की शुरुआत होगी।
वन विभाग भी होगा सक्रिय-


खास है कि उक्त दोनों सडक़ों का जब भी निर्माण होगा। वन विभाग भी सक्रिय हो जाएगा। इस मार्ग के निर्माण में आने वाले पेड़ों को लेकर पेंच फंसेंगे। यदि वन विभाग अनुमति नहीं देगा तो पीडब्लूडी को इसे बनवाना आसान नहीं होगा। यदि अनुमति देगा तो पेड़ों की कटाई को लेकर अन्य सामाजिक व राजनीति संगठन मैदान में आ सकते हैं। ऐसे में सडक़ किनारे लगे इन पेड़ों को आधुनिक तकनीक का सहारा लेकर किसी अन्य स्थान पर इसकी रोपाई करानी चाहिए, जिससे पेड़ नष्ट न हो। बीते दिवस कोतवाली पुलिस ने पेट्रोलपंप के निर्माण में आ रहे एक पेड़ को जड़ से उखाडक़र पुलिस लाइन में रोपा था।
इस सडक़ के कार्य की जानकारी मुझे है। आचार संहिता पार होने के बाद मैं इस सडक़ निर्माण का कार्य किस विभाग में अटका है, वहां जाकर मिलूंगा। कोशिश करुंगा जल्द से जल्द प्रशासकीय स्वीकृति दिलवाकर कार्य शुरू करा सकूं।
  • कमल मर्सकोले, भाजपा विधायक विधानसभा क्षेत्र बरघाट

Hindi News/ Seoni / पेंच टाइगर रिजर्व जाने वाले सुकतरा-कर्माझिरी सडक़ के कब बहुरेंगे दिन

ट्रेंडिंग वीडियो