scriptWho would take the responsibility of death | जीर्ण-शीर्ण नहीं होता शौचालय तो जीवित होते दोनों लाल, कौन लेगा मौत की जिम्मेदारी | Patrika News

जीर्ण-शीर्ण नहीं होता शौचालय तो जीवित होते दोनों लाल, कौन लेगा मौत की जिम्मेदारी

- रोते हुए मृतक छात्रों की माताएं बोली, क्यों भेज दिया बच्चों को स्कूल

सिवनी

Published: July 01, 2022 03:49:31 pm

अखिलेश ठाकुर सिवनी. प्राथमिक शाला झिरिया टोला के दो छात्रों की मौत ने शिक्षा महकमे पर सवाल खड़ा कर दिया है। कुरई विकासखंड के 23 जीर्ण-शीर्ण शालाओं में बच्चों को पढ़ाया जा रहा है। शौचालय ऐसे हैं कि उसमें कोई जा नहीं सकता। अब दो छात्रों की मौत सिर्फ इसलिए हो गई कि वे जिस शाला में पढ़ते थे। उसका शौचालय जीर्ण-शीर्ण था। उनको दोपहर १२ बजे शाला से शौच के लिए बाहर जाना पड़ा और तालाब में डूबने से जान निकल गई। दोनों मृतक छात्रों की माताएं रोते हुए बार-बार कह रही थी कि यदि शाला का शौचालय जीर्ण-शीर्ण नहीं होता तो मेरे लाल जीवित होते। क्यों भेज दिए मैंने उनको स्कूल?
जीर्ण-शीर्ण नहीं होता शौचालय तो जीवित होते दोनों लाल, कौन लेगा मौत की जिम्मेदारी
जीर्ण-शीर्ण नहीं होता शौचालय तो जीवित होते दोनों लाल, कौन लेगा मौत की जिम्मेदारी

अब जिस मां का बेटा इस दुनिया से चला गया वह तो लौटकर नहीं आएगा, लेकिन इसकी जिम्मेदारी कौन लेगा? सवाल यह है कि शौचालय जीर्ण-शीर्ण होने से छात्रों को शौच के लिए बाहर जाना पड़ा। शौचालय बनाने और मरम्मत की जिम्मेदारी शिक्षा महकमे की है। ऐसे में मौत के लिए जिम्मेदार कौन हैं? क्या शिक्षा विभाग के आला अधिकारी आगे आकर जिम्मेदारी लेंगे या फिर पुलिस की जांच की औपचारिकता पूरी होने और शासन से मिलने वाली आर्थिक मदद के बाद सबकुछ पहले जैसा हो जाएगा। बेटे को खोने के बाद परिवार पर क्या बीत रही होगी? इसका अंदाजा सहज लगाया जा सकता है। परिवार जीवनभर पुत्र की मौत से नहीं उबर पाएगा। परिजनों को बार-बार यह बात सताएगी कि वह क्यों अपने बेटे को उस शाला में भेज रहा थे, जहां का शौचालय जीर्ण-शीर्ण था। उनकी बातों से भी ऐसा लग रहा है।
शिक्षा महकमे की बात करें तो चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी से लेकर अधिकारी तक को हर माह मोटा वेतन मिलता है। एक माह वेतन में विलंब हुआ तो वे शासन के नाक में दम कर देते हैं। लेकिन जिन नौनिहलों को पढ़ाने और उनको उचित सुविधा प्रदान करने की जिम्मेदारी उनके कंधे पर है, उस तरफ शासन-प्रशासन ध्यान नहीं देता है तो वे पत्राचार करने और रिमाइंडर भेजने की बात कहकर क्यों पल्ला झाड़ लेते हैं। क्यों नहीं शिक्षक संगठन और अधिकारियों का संगठन इसके लिए मुखर होता है। उनको एक बार यह सोचना होगा कि क्या ऐसा कर वे अपने कत्र्तव्यों का सही निर्वाहन कर रहे हैं? क्या वे लोगों केवल अपने निजी हित के लिए ही शासन से मुखर होकर सवाल-जवाब और प्रदर्शन करेंगे? बच्चों की सुविधाओ को लेकर उनकी कोई जिम्मेदारी नहीं है? यदि परिजनों ने अपने छात्र-छात्राओं को स्कूल भेजना बंद कर दिया तो वे किसके लिए नौकरी करेंगे? शासन उनको किसलिए वेतन देगा? यदि संगठन इन बातों को लेकर गंभीरता से विचार नहीं किया तो कुरई विकासखंड में 23 जर्जर विद्यालय और शौचालय है? फिर किसी प्रियांशु व यश को अपने प्राण देने पड़ सकते हैं। ऐसे में समय रहते उनको इस तरफ ध्यान देना होगा।

(डीपीसी व प्रभारी जिला शिक्षा अधिकारी जीएस बघेल से घटना को लेकर ‘पत्रिका’ के सवाल और उनके जवाब।)

सवाल - जीर्ण-शीर्ण शौचालय होने से दो बच्चे शौच के लिए बाहर गए। तालाब में डूबने से मौत हो गई। इसके लिए कौन जिम्मेदार हैं?
जवाब - बीआरसी को मौके भेजकर प्रतिवेदत मंगाया हूं। प्रतिवेदन आने के बाद यदि कोई दोषी होगा तो उसके खिलाफ कार्रवाई करेंगे।
सवाल - शिक्षक संगठन और अधिकारियों का संगठन अपनी निजी मांगों को लेकर शासन से मुखर होकर सवाल-जवाब करता है। प्रदर्शन करता है। क्या कभी जर्जर भवन को लेकर किया है?
जवाब - नहीं। इसको लेकर कभी किसी संगठन ने अपनी बात नहीं रखी है।
सवाल - जर्जर भवन व शौचालय मरम्मत को लेकर क्या केवल पत्राचार तक ही विभाग सिमित है?
जवाब - नहीं। प्रतिवर्ष योजना बनाकर भेजा जाता है। शासन से बजट आता है। मरम्मत कार्य कराया जाता है।
सवाल - प्राथमिक शाला झिरिया टोला के जीर्ण-शीर्ण शौचालय का मरम्मत क्यों नहीं हुआ? क्या वहां बजट का हिस्सा नहीं गया था?
जवाब - बजट बहुत ज्यादा नहीं होता है। शाला निधि से भी मरम्मत के कार्य कराए जाते हैं। 10 से 25 तक दर्ज संख्या जिस शाला की होती है। वहां 12 हजार पांच सौ रुपए निधि में मिलते हैं। प्रतिवेदन आने के बाद देखा जाएगा कि वहां मरम्मत क्यों नहीं कराया गया।
सवाल - मौत के लिए कौन दोषी है, इसकी जिम्मेदारी कब तक तय की जाएगी?
जवाब - यह गंभीर मामला है। प्रतिवेदन रिपोर्ट के आने के बाद इस दिशा में कार्रवाई की जाएगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

बिहार कैबिनेट पर दिल्ली में मंथन, आज शाम सोनिया गांधी से मिलेंगे तेजस्वी यादव, 2024 के PM कैंडिडेट पर बोले नीतीश कुमारCoronavirus News Live Updates in India : 24 घंटे में कोरोना के 16,561 नए केसडिप्टी सीएम बनने के बाद आज पहली बार लालू यादव से मिलेंगे तेजस्वी यादव, मंत्रालयों के बंटवारे पर होगी चर्चाRajasthan BSP : 6 विधायकों के 'झटके' से उबरने की कवायद, सुप्रीमो Mayawati की 'हिदायत' पर हो रहा कामJammu Kashmir: कश्मीर में एक और बिहारी मजदूर की हत्या, बांदीपोरा में आतंकियों ने मोहम्मद अमरेज को मारी गोलीबिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार 'बिहार वृक्ष सुरक्षा दिवस' कार्यक्रम में हुए शामिल, पेड़ को बांधी राखी, कहा - वृक्ष की भी होनी चाहिए रक्षाअमरीका: गर्भपात के मामले में फेसबुक ने पुलिस से शेयर की माँ-बेटी की चैट हिस्ट्री, अमरीका से लेकर भारत तक रोष, निजता के अधिकार पर उठे सवालLegends league के लिए पाकिस्तानी क्रिकेटरों को वीजा देगा भारत?, BCCI अधिकारी ने कही ये बात
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.