एफआइआर क्यों नहीं कराई, फिर से जाओ थाना...

एफआइआर क्यों नहीं कराई, फिर से जाओ थाना...

Sunil Vandewar | Updated: 15 Jun 2018, 11:35:20 AM (IST) Seoni, Madhya Pradesh, India

कबाड़ में किताब बेचे जाने के मामले में डीइओ हुए सख्त

सिवनी. कबाड़े में पाठ्यपुस्तक निगम की किताबों के २३ बंडल बेचे जाने के मामले में संलिप्त लोगों के विरुद्ध एफआइआर कराने के निर्देश डीइओ एसपी लाल ने सिवनी प्रभारी बीइओ को दिए हैं। इस सम्बंध में बुधवार को प्रभारी बीइओ आरपी बोरकर बंडोल थाना पहुंचे थे। अब पुन: डीइओ ने उन्हें निर्देशित कर एफआइआर कायम कराने भेजने की बात कही है।
डीइओ एसपी लाल ने बताया कि बंडोल के शासकीय हायर सेकेण्डरी स्कूल की नि:शुल्क वितरण के लिए उपलब्ध किताबों को स्थानीय नेमा कबाड़ी के माध्यम से सिवनी के साहू कबाड़ी को बेचा गया था। इस मामले में जांच कराते हुए प्रभारी शिक्षक चंद्रशेखर तिवारी को निलंबित किया जा चुका है। चौकीदार को हटाकर, प्राचार्य रमा अर्जुनवार को नोटिस देकर जवाब मांगा गया था। इस प्रकरण में संलिप्त अन्य आरोपियों के विरुद्ध कार्रवाई के लिए बंडोल थाना में एफआइआर कराने प्रभारी बीइओ एवं शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय सिवनी के प्राचार्य आरपी बोरकर को निर्देशित किया था। उन्होंने थाना में लिखित आवेदन मात्र दिया है।
डीइओ ने प्रभारी बीइओ से पूछा है कि उनके द्वारा आवेदन की हस्ताक्षर, सील युक्त दूसरी प्रति क्यों नहीं ली गई है। इसलिए पुन: डीइओ के द्वारा प्रभारी बीइओ को बंडोल थाना जाकर एफआइआर के लिए निर्देशित करने की बात कही गई है। ताकि प्रकरण में शामिल दोषी को उचित दण्ड दिया जा सके। इस मामले में डीइओ एसपी लाल ने कहा कि हमने पत्र लिखने के लिए नहीं कहा था, उन्हें कबाड़ में किताब बेचने के प्रकरण के आरोपियों पर एफआइआर दर्ज करानी थी। इस सम्बंध में प्रभारी बीइओ को निर्देश देंगे कि सील-साइन के साथ एफआइआर की प्रति लाएं। इधर प्रभारी बीइओ सिवनी आरपी बोरकर ने कहा कि आवेदन देकर रिसीविंग लिए जाने की बात पर फिलहाल डीइओ सर से निर्देश प्राप्त नहीं हुए हैं। उनके द्वारा कहा जाएगा तो पुन: बंडोल थाना जाकर निर्देश का पालन किया जाएगा।

कलेक्टर ने कहा किराया वसूलो या खाली कराओ दुकानें

रोगी कल्याण समिति की बैठक में कलेक्टर गोपालचंद्र डाड का रुख कुछ सख्त नजर आया। उन्होंने अस्पताल काम्प्लेक्स की दुकानों से प्राप्त हो रहे किराए की समीक्षा करते हुए सम्बंधितों पर सख्त नाराजगी जाहिर की। कलेक्टर ने दो टूक कह दिया है कि कड़ाई से दुकानों का बकाया किराया वसूल करो या फिर दुकानें खाली कराओ। अब रोगी कल्याण समिति के सदस्य अधिकारी इसको लेकर तैयारी में जुट गए हैं।
कलेक्टर गोपालचंद डाड की अध्यक्षता में गुरुवार को जिला चिकित्सालय में रोगी कल्याण समिति बैठक का आयोजन किया गया। इसमें कलेक्टर द्वारा रोगी कल्याण समिति द्वारा विगत माह के क्रियाकलापों व खर्चो कि समीक्षा कर आवश्यक दिशा निर्देश संबंधितों को दिए गए हैं।
कलेक्टर डाड द्वारा रोगी कल्याण समिति की दुकानों के लंबित किराया की समीक्षा करते हुए 4 लाख 92 हजार 225 रुपए बकाया पाया गया। उन्होंने निर्देशित किया कि दुकानदारों से 31 मार्च 2018 तक की अवधि का संपूर्ण बकाया किराया वसूल किया जाए अन्यथा दुकानों को खाली कराया जाए। इसी तारतम्य में उन्होंने जिला चिकित्सालय सफाई व्यवस्था के लिए वरिष्ठ स्तर से आदेश पर्यन्त तक आउटसोर्स एजेन्सी द्वारा सफाई कर्मचारी रखे जाने के निर्देश दिए। इसी तरह जिला चिकित्सालय की सुव्यवस्थाओं के लिए एम्बुलेंस चालक के रिक्त पद पर मानदेय पर चालक नियुक्त करने के निर्देश दिए हैं।
बैठक में सीएमएचओ डॉ. केसी मेश्राम, सिविल सर्जन डॉ आरके श्रीवास्तव, जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. एचपी पटेरिया, आरएमओ डॉ. पी. सूर्या सहित सम्बंधित अधिकारी कर्मचारियों की उपस्थिति रही।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned