विवि में ABVP और GDC में NSUI का दबदबा

बुढ़ार कॉलेज में एनएसयूआई के सभी पदाधिकारियों का इस्तीफा, अध्यक्ष का आवेदन रिजेक्ट को लेकर उपजा विवाद

By: Shahdol online

Published: 31 Oct 2017, 02:28 PM IST

शहडोल- छात्रसंघ चुनाव सोमवार को विश्वविद्यालय के साथ सभी महाविद्यालयों में शांति पूर्वक संपन्न हुआ। सीआर पद के लिये मतदान व मतगणना की प्रक्रिया पूरी की गई। इसके उपरांत पदाधिकारियों के लिये नामांकन, नामांकनों की जांच,दावा आपत्ति के बाद नामांकन की अंतिम सूची प्रकाशित करने की प्रक्रिया पूरी की गई। जिसमें कुछ महाविद्यालयो में कई पदों पर पदाधिकारियों का निर्विरोध चयन हो गया। जिन पदो के लिये मतदान होने थे वह प्रक्रिया पूरी कर 5 बजे के बाद पदाधिकारियों की घोषणा की गई। इसके साथ ही सभी जगह जीते हुये पदाधिकारियों को महाविद्यालय प्रबंधन द्वारा शपथ दिलाई गई।

विश्वविद्यालय में पहली बार हुये छात्रसंघ चुनाव में भगवा लहराया। जिसके बाद अभाविप पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं की खुशियों का ठिकाना नही रहा। सैकड़ो की तादाद में अभाविप कार्यकर्ता विश्वविद्यालय पहुंच गये। जहां से जीते हुये पदाधिकारियों के साथ शहीद स्मारक पहुंचे। जहां आतिशबाजी के साथ पदाधिकारियों का स्वागत किया गया। साथ ही उन्हे साफा पहनाया गया। जिसके बाद आतिशबाजी व डीजे के साथ नगर में भव्य जुलस निकाला गया। इस जुलूस में संभागीय संयोजक प्रांत संयोजक अंकिता तिवारी, भूपेन्द्र नामदेव, सूर्यकांत मिश्रा, आशीष तिवारी के साथ अन्य कार्यकर्ता मौजूद रहे। वहीं कन्या महाविद्यालय में एनएसयुआई की जीत पर जश्न मनाया गया। साथ ही एनएसयुआई अध्यक्ष विक्रम सिंह व नगर कांग्रेस अध्यक्ष पीयूष शुक्ला, कांग्रेस नेता प्रमोद जैन पम्मू, सोनू मिहानी, एनएसयुआई पदाधिकारी आशीष तिवारी व अन्य कार्यकर्ताओं के साथ जीते हुये पदाधिकारी जय स्तंभ पहुंचे। वहां भी पदाधिकारियों का भब्य स्वागत किया गया।

जीत के जश्न में पदाधिकारियों ने शहर के भीतर जुलस निकालकर अपनी खुशियां बांटी। इस अवसर पर जमकर आतिशबाजी की गई। बाजे गाजे के साथ यह जुलूस पूरे शहर में निकला गया।

सीआर के लिए मतदान
जिले के आठो महाविद्यालयों में सोमवार की सुबह सबसे पहले सीआर पद के लिये निर्वाचन हुआ। जिसमें विवि में २४, कन्या महाविद्यालय में 01, गोहपारू में 1, जयसिंहनगर में 05, बुढ़ार 05, ब्यौहारी 03 व जैतपुर में 01 पद के लिये मतदान प्रक्रिया संपन्न हुई। जिसमें कहीं भी किसी भी प्रकार की विवादास्पद स्थिति निर्मित नही हुई।

दिलाई गई शपथ
विश्वविद्यालय परिसर में पदाधिकारियों के लिये नामांकन प्रक्रिया संपन्न होने के उपरांत पदाधिकारियों को शपथ दिलाई गई। जिसमें विश्वविद्यालय कुलपति डा. मुकेश तिवारी ने विवि के पदाधिकारियों के साथ ही सीआर को शपथ दिलाई। वहीं कन्या महाविद्यालय के साथ ही अन्य महाविद्यालयों में भी पदाधिकारियों की घोषणा के बाद शपथ दिलाई गई।

पदाधिकारी और सीआर ने दिया इस्तीफा
शासकीय महाविद्यालय बुढ़ार में पदाधिकारियों के मतदान के बाद विवादास्पद स्थिति निर्मित हो गई। दरासल बुढ़ार में अध्यक्ष पद के निर्वाचन को लेकर एनएसयुआई ने आपत्ति दर्ज कराते हुये एनएसयुआई समर्थित पदाधिकारी व सीआर ने महाविद्यालय प्रबंधन को त्याग पत्र दे दिया है। एनएसयुआई पदाधिकारियों का आरोप है कि महाविद्यालय में एनएसयुआई समर्थित प्रत्याशी की जीत हुई थी। चुनाव परिणाम आने के बाद महाविद्यालय प्रबंधन ने अध्यक्ष का आवेदन निरस्त कर दिया और अभाविप के प्रत्याशी को अध्यक्ष घोषित कर दिया। एनएसयुआई द्वारा मामले में आपत्ति दर्ज कराते हुये निर्वाचन प्रक्रिया पर सवालिया निशान खड़ा किया है। एनएसयुआई का आरोप है कि जब उनके अध्यक्ष पद के दावेदार ने सीआर पद के लिये नामांकन किया था उस समय आवेदन रिजेक्ट नही किया गया। ऐसे में अध्यक्ष पद के लिये नामांकन करने पर जीत के बाद आवेदन कैसे निरस्त कर दिया गया। एनएसयुआई ने कालेज प्रबंधन पर पक्षपात का आरोप लगाते हुये जमकर नारेबाजी की। वहीं महाविद्यालय से जीते हुये एनएसयुआई समर्थिक पदाधिकारी उपाध्यक्ष, सचिव, सह सचिव के साथ ही सीआर ने शपथ ग्रहण के पहले ही महाविद्यालय प्रबंधन को स्तीफा दे दिया।

Shahdol online
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned