किसानों का था सम्मेलन, आखिर ऐसा क्या हुआ जो किसान संघ ही नाराज हो गया

Akhilesh Shukla

Publish: Apr, 17 2018 04:55:31 PM (IST)

Shahdol, Madhya Pradesh, India
किसानों का था सम्मेलन, आखिर ऐसा क्या हुआ जो किसान संघ ही नाराज हो गया

पढि़ए पूरी खबर...

शहडोल- सोमवार को मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना के अंतर्गत किसान सम्मलेन का आयोजन किया गया, जहां कई लोग शामिल हुए। जिला पंचायत अध्यक्ष नरेंद्र मरावी ने कहा है कि खेती को लाभ का धंधा बनाने के लिये किसानों तक खेती की आधुनिक तकनीकी पहुंचाएं। उन्होने कहा है कि शासन द्वारा किसानों के लिये कल्याणकारी योजनाएं संचालित की जा रही हैं, इन योजनाओं की जानकारी किसानों तक पहुंचाने के लिये जनपद पंचायत स्तर पर किसान संगोष्ठियां आयोजित करना आवश्यक है।

इस दिशा में जिला प्रशासन कार्यवाही सुनिश्चित करे। उन्होने कहा है कि आज बिगड़ते पर्यावरण के कारण अवर्षा की स्थिति उत्पन्न हो रही है। जिला पंचायत अध्यक्ष नरेंद्र मरावी सोमवार को मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना के अंतर्गत आयोजित
किसान सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।

किसान सम्मेलन का शुभारंभ अतिथियों ने भगवान बलराम के छायाचित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलित कर किया। विधायक जयसिंहनगर प्रमिला सिंह ने कहा कि किसानों के अथक प्रयासों से मध्यप्रदेश को लगातार पांचवी बार कृषि कर्मण्य पुरस्कार प्राप्त हुआ है। अध्यक्ष बैगा विकास प्राधिकरण रामलाल बैगा ने कहा कि भारत को कृषि प्रधान देश कहा जाता है। कृषि हमारा प्रमुख उद्यम रहा है, उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश के किसानों के परिश्रम से प्रदेश को लगातार पांचवी बार कृषि कर्मण्य अवार्ड प्राप्त हुआ है।

इंद्रजीत छाबड़ा ने कहा कि किसानों की खुशहाली में सभी की खुशहाली है, उन्होने कहा कि मध्यप्रदश शासन द्वारा किसानों के हित में कई अहम फैसले किये गये हैं तथा कल्याणकारी योजनाएं संचालित की जा रही है। रविकांत त्रिपाठी ने कहा कि किसानों को कंदमूल जैसे सतावर, सफेद मूसली जैसे औषधीय पौधों की खेती के भी संबंध में जानकारी देना चाहिए जिससे कि जिले के किसानों को फायदा हो। किसान सम्मेलन को अध्यक्ष नगर पालिका शहडोल उर्मिला कटारे, उप संचालक कृषि जेएस पेन्द्राम ने भी संबोधित किया। किसान सम्मेलन में कलेक्टर नरेश पाल, सीईओ एसकृष्ण चैतन्य, अध्यक्ष जनपद पंचायत सोहागपुर मीरा
कोल, जिला पंचायत सदस्य तेजप्रताप सिंह उइके, जिला पंचायत सदस्य रामप्रताप सिंह कुशवाहा, भानू प्रताप सिंह आदि किसान थे।

किसान संघ अध्यक्ष की नहीं सुनी बात
सोमवार को मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना के अंतर्गत आयोजित किसान सम्मेलन में जिले के किसान संघ के अध्यक्ष भानूप्रताप सिंह की बात मौजूद जनप्रतिनिधियों ने नहीं सुनी। किसान संघ के अध्यक्ष भानू प्रताप सिंह ने आरोप लगाया कि जब वे अपनी बात रख रहे थे तो उनका माइक बंद करवा दिया गया। मंचासीन जन प्रतिनिधि जिला पंचायत अध्यक्ष नरेन्द्र मरावी, भाजपा अध्यक्ष इंद्रजीत छाबड़ा सहित प्रशासनिक अधिकारी उठ कर चल दिए। जिस पर किसान संघ ने गहरी नाराजगी जताई है। किसान संघ किसानों को दी जा रही कम प्रोत्साहन राशि पर मंच से नाराजगी जता रहे था। उनका कहना है कि किसानों को कम बोनस मिला है।

Ad Block is Banned