एआईसीटीई ने दी स्वीकृति, संभाग के इस इकलौते संस्थान में कम फीस में होगी एमबीए की पढ़ाई

एमबीए के लिए होगी 120 सीटें, जून में काउंसिल ने किया था ऑनलाइन विजिट

By: Ramashankar mishra

Published: 15 Jul 2020, 12:34 PM IST

शहडोल. संभाग के छात्रों को अब एमबीए की पढ़ाई के लिए दूसरे शहरों की ओर रुख नहीं करना पड़ेगा। पं. शंभूनाथ शुक्ल विश्वविद्यालय में इसी सत्र से एमबीए की पढ़ाई शुरु होगी। जिसके लिए सभी औपचारिकताएं पूरी हो गई है। साथ ही विश्वविद्यालय को ऑल इंडिया काउंसिल ऑफ टेक्निकल एजूकेशन नई दिल्ली से पाठ्यक्रम प्रारंभ करने स्वीकृति प्राप्त हो गई है। जिसके बाद प्रबंधन पाठ्यक्रम प्रांरभ करने की आवश्यक तैयारियों में जुट गया है। विवि प्रबंधन ने एमबीए पाठ्यक्रम की स्वीकृति की पूरी प्रक्रिया लॉकडाउन की अवधि में पूरी कर ली गई थी। इस दौरान एवं काउंसिल की टीम द्वारा ऑनलाइन बैठकें आयोजित की गई एवं जून माह में ऑनलाइन विजिट भी किया। पं. शंभूनाथ शुक्ल विवि के कुलपति प्रो. मुकेश द्वारा काउंसिल को सभी आवश्यक जानकारी समय पर उपलब्ध कराई गई। 4 जुलाई को आयोजित कार्य परिषद् की बैठक में भी प्राप्त हो गई है। पाठ्यक्रम का प्रस्ताव व पूरी तैयारी में प्रो. आशीष तिवारी, अरुण उपाध्याय एवं डॉ. अभिषेक त्रिपाठी का विशेष योगदान रहा।
प्रत्येक प्रभाग के लिए 20-20 सीटें
एमबीए पाठ्यक्रम के लिए कुल 120 सीटों की स्वीकृति प्राप्त हुई है। जिसमें फाईनेन्स, मार्केटिंग, ह्यूमन रिसोर्स, प्रोडक्शन एवं ऑपरेशन मैनेजमेंट प्रारम्भ किया जाना है। प्रत्येक प्रभाग के लिए अधिकतम 20-20 सीटें निर्धारित की गई है। एआईसीटीई से स्वीकृति मिलने के बाद विवि प्रबंधन फैकल्टी चयन, कक्षों की स्थापना एवं अन्य आवश्यक तैयारियां प्रारंभ कर दी है।
संभाग में पहला संस्थान, कम फीस में एमबीए
पं. शंभूनाथ शुक्ल विश्वविद्यालय संभाग का पहला संस्थान है जहां एमबीए पाठ्यक्रम प्रारंभ किया जा रहा है। जिसका यहां के छात्रों को पूरा लाभ मिलेगा। विश्वविद्यालय द्वारा इस पाठ्यक्रम में बाहर के विषय विशेषज्ञों से अध्यापन कराए जाने की तैयारी की जा रही है जिससे कि छात्रों को इसका पूरा लाभ मिल सके। इस पाठ्यक्रम के प्रारंभ होने से छात्रों को महानगरों में नहीं जाना पड़ेगा। साथ ही शैक्षणिक सत्र 2020-21 से स्नातक स्तर पर विद्यार्थी मनोविज्ञान, दर्शनशास्त्र, बी.एस-सी. ऑनर्स, सांख्यिकी, भूगर्भशास्त्र में भी प्रवेश ले सकते हैं।

Show More
Ramashankar mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned