धनतेरस के दिन लोगों के लिए बन रहा शुभकारी योग

Shahdol online

Publish: Oct, 13 2017 01:52:24 (IST)

Shahdol
धनतेरस के दिन लोगों के लिए बन रहा शुभकारी योग

जानिए पूजा करने का शुभ मुहूर्त

शहडोल- दीपावली, धनतेरस को लेकर शहर का बाजार तो गुलजार है ही। साथ ही इस बार धनतेरस में शुभकारी संयोग भी बनने जा रहा है। जिसे लेकर संभाग के लोग भी खासा उत्साहित हैं। कुछ लोग तो इस बार मुहूर्त देखकर खरीदारी करने के मूड में हैं।
कार्तिक कृष्ण पक्ष त्रयोदशी 17 अक्टूबर को धनतेरस है। जिसे लेकर जिले भर में उत्साह है। इस धन तेरस के दिन उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र का संयोग बन रहा है। जो बहुत ही शुभकारी माना जा रहा है।
मंगलवार को त्रयोदशी रात्रि 11:37 बजे तक रहेगी। जिसमें सुबह ०7:०5 बजे से उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र लग जाएगा जो 18 अक्टूबर को सुबह 7 बजकर 1 मिनट तक रहेगा। धन त्रयोदशी यानी धनतेरस मंगलवार को धूमधाम से मनाई जाएगी। इस दिन आदि वेद्य भगवान धनवंतरि की पूजा-अर्चना का विशेष महत्व है। फाल्गुनी नक्षत्र में भूमि,भवन, आभूषण पुस्तकें, वस्त्र खरीदना मंगलकारी होगा।
वैसे तो खरीदारी के लिए सुबह से शाम तक कई उत्तम मुहूर्त हैं, लेकिन किसी भी चीज की खरीद निर्धारित मुहूर्त में की जाए तो सबसे श्रेष्ठ माना जाता है। धनतरेस पर लक्ष्मी पूजा के साथ खरीददारी करना शुभ माना जाता है। इस दिन प्रदोष काल 2 घंटे 24 मिनट का रहेगा। जो शाम 5 बजकर 45 मिनट से 8 बजकर 17 मिनट तक रहेगा। धनतेरस के दिन खरीदारी करने का शुभ मुहूर्त शाम शाम 7 बजकर 19 मिनट से 8 बजकर 17 मिनट तक रहेगा। हालांकि पूरा दिन खरीदारी के लिए शुभ रहेगा।

पूजा का शुभ मुहूर्त
धनतेरस के दिन पूजा का शुभ मुहूर्त शाम 7 बजे से शुरू हो जाएगा। घरों और प्रतिष्ठानों में शाम 7:03 बजे से वृष लग्न में धनतेरस की पूजा का उत्तम मुहूर्त है, जो रात 9 बजे तक रहेगा। पं. दीनबंधु मिश्रा ने बताया कि 16 अक्टूबर सोमवार देर रात 12:17 बजे से त्रयोदशी लग जाएगी, जो 17 अक्टूबर की रात 11:37 बजे तक रहेगी। धन त्रयोदशी पर गोधूलि बेला पूजन के लिए सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त हैं। उन्होंने बताया कि इस बार की धनतेरस में ऋण मोच? योग ?? होने के कारण लंबे समय से कर्ज ना चुका पाने वाले लोग ऋण चुकाने में सक्षम होंगे।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned