सामूहिक बलात्कार में शामिल आरोपी की जमानत निरस्त

जबरदस्ती उठाकर जंगल में ले गया

By: amaresh singh

Published: 21 Jul 2021, 11:32 AM IST

शहडोल. बालिका के साथ सामूहिक बलात्कार के मामले में न्यायालय ने आरोपियों की जमानत याचिका निरस्त की है। 19 जुलाई को शहडोल न्यायालय के प्रथम जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने थाना जैसिंहनगर के मामले में जमानत निरस्त की है। प्रकरण में जमानत याचिका का सशक्त विरोध विश्वजीत पटेल जिला लोक अभियोजन अधिकारी ने किया। संभागीय जनसंपर्क अधिकारी नवीन कुमार वर्मा के अनुसार, पीडि़ता ने अपने माता-पिता के साथ थाना में रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि 22 मई को दोपहर 12 बजे आरोपी शुभम यादव ने फोन करके घर के बाहर बरा के पेड़ के पास मिलने के लिए बुलाया था। जब अकेली बरा के पेड़ के पास गई तो वहां पर पहले से मौजूद आरोपी शुभम यादव, बुद्धसेन अहिरवार एवं शिवकुमार रैदास मुझे जबरदस्ती उठाकर चकरदहा के जंगल ले गए। यहां पर शुभम यादव व बुद्धसेन अहिरवार ने मेरे साथ गलत काम किया। इसके बाद मुझे वहीं पास में बने छोटे इंदारा में धकेल दिया। कार्यवाही करते हुए पुलिस द्वारा अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया और आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया। आरोपी बुद्धसेन अहिरवार द्वारा प्रथम जिला एवं सत्र न्यायाधीश के समक्ष जमानत आवेदन प्रस्तुत किया था। प्रस्तुत जमानत आवेदन पर सुनवाई करते हुए, अपराध की गंभीरता को देखते हुए एवं अभियोजन तर्कोंं से सहमत होकर न्यायालय द्वारा जमानत निरस्त कर दी है।

amaresh singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned