पुलिस ने किया लाठीचार्ज, कलेक्टर ने बैठाई जांच 10 दिन में देनी होगी रिपोर्ट

पुलिस ने किया लाठीचार्ज, कलेक्टर ने बैठाई जांच 10 दिन में देनी होगी रिपोर्ट

Shiv Mangal Singh | Publish: Sep, 07 2018 03:24:34 PM (IST) Shahdol, Madhya Pradesh, India

पुलिस के लाठी चलाने से बिफर गए थे कांग्रेसी, कलेक्टर कार्यालय पर किया था जंगी प्रदर्शन, गांधी चौक पर प्रदर्शन के दौरान पुलिस की लाठी से एक व्यक्ति हो गया था घायल, एसपी के खिलाफ की नारेबाजी, तुरंत हटाने की मांग

शहडोल. शांतिपूर्ण चल रहे प्रदर्शन के दौरान ही किसने लाठीचार्ज करवाया, इसकी जरूरत क्यों पड़ गई। इसको लेकर कलेक्टर ने मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए हैं। जांच रिपोर्ट 10 दिन में देनी होगी। गुरुवार को गांधी चौक पर शांतिपूर्ण प्रदर्शन चल रहा था, उसी दौरान पुलिस ने लाठियां भांजनी शुरू करनी दीं, वहां पर अफरातफरी मच गई। पुलिस की लाठियों से एक व्यक्ति का सिर फट गया। कई अन्य को भी मामूली चोट आई। कलेक्टर ने दिए जांच के आदेश
कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी अनुभा श्रीवास्तव ने 6 सितम्बर को प्रस्तावित भारत बंद के समय शहर के गांधी चौक में शेखर मिश्रा उर्फ डब्बू महाराज को गंभीर चोट एवं अन्य लोगों को लाठी लगने के मामले में जांच के आदेश दिए हैं। कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी अनुभा श्रीवास्तव द्वारा डिप्टी कलेक्टर एवं अनुविभागीय दण्डाधिकारी जयसिंहनगर को जांच के लिए प्राधिकृत अधिकारी नियुक्त किया हैं। कलेक्टर द्वारा जांच अधिकारी को जांच प्रतिवेदन 10 दिवस के अंदर पूरा कर प्रस्तुत करने के आदेश दिए हैं।

shahdol

इन बिंदुओं पर होगी मजिस्ट्रियल जांच
भारत बंद के दौरान लोगों पर पुलिस बल द्वारा लाठी चार्ज किया गया?
यदि लाठी चार्ज की घटना हुई तो किन परिस्थितियों में कब और कहां हुई तथा किसके आदेश से हुई?
लाठी चार्ज की घटना के लिए कौन उत्तरदायी है ?
किन परिस्थितियों में आम लोगों पर पुलिस बल द्वारा लाठी चार्ज किया गया?
लाठीचार्ज से कौन - कौन प्रभावित हुए, उसके लिये कौन-कौन उत्तरदायी हैं?
क्या इस घटना को रोका जा सकता था ? ऐसी घटना को रोकने के लिए कौन से उपाय कर सकते हैं ?
जांच के दौरान अन्य महत्वपूर्ण तथ्य जो सामने आएं, उनको भी जांच प्रतिवेदन में सम्मिलित किया जाए।

shahdol

मुकम्मल बंद रहा
एससी- एसटी एक्ट में संशोधन के विरोध में शहडोल शहर में व्यापक असर रहा। सुबह स्थिति सामान्य थी लेकिन दोपहर १२ बजते ही स्थिति तनावपूर्ण हो गई। शहर के गांधी चौक में प्रदर्शन कर रही आक्रोशित भीड़ को पुलिस ने खदेड़ लिया। देखते ही देखते पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर लाठियां बरसाना शुरू कर दिया। इस दौरान एक युवक का सिर फूट गया। दो अन्य लोगों को भी हल्की चोट आई है। पुलिस के लाठी चलाने से प्रदर्शनकारी बिफर गए और कलेक्ट्रेट की तरफ कूच कर दिया। पुलिस ने आक्रोशित लोगों को गांधी चौक पर नियंत्रित करने का प्रयास किया लेकिन बैरिकेड्स तोड़ते हुए सभी कलेक्ट्रेट पहुंच गए। कलेक्ट्रेट परिसर में प्रदर्शनकारी लगभग पांच घंटे जमे रहे। एसपी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई। प्रदर्शनकारी एसपी को तुरंत हटाने पर अड़े हुए थे। इस दौरान दो बार प्रदर्शनकारियों ने जयस्तंभ में चकाजाम का प्रयास किया। कमिश्नर, आईजी और कलेक्टर लगातार संगठन पदाधिकारियों से समन्वय कर प्रदर्शन समाप्त करने की बात कर रहे थे। शाम 4 बजे प्रदर्शनकारी शांत हुए। लाठी चलाने की घटना के मजिस्ट्रेटी जांच के आदेश दे दिए गए हैं। इसकी 10 दिन में रिपोर्ट देनी होगी। उधर बंद के असर बस स्टैण्ड और पेट्रोल पंप में भी देखने को मिला। बस स्टैण्ड में यात्री बस का इंतजार करते रहे लेकिन बसें नहीं पहुंचाई। पेट्रोल पंप भी दोपहर तक बंद थे।
व्हीलचेयर पर कलेक्ट्रेट पहुंचा घायल
लाठीचार्ज की घटना में घायल शेखर मिश्रा को लेकर प्रदर्शनकारी कलेक्टे्रट पहुंच गए। खून से लथपथ प्रदर्शकारी को देख लोग और आक्रोशित हो गए और दोबारा प्रदर्शन शुरू कर दिया। कलेक्ट्रेट में चार घंटे तक प्रदर्शन चलता रहा। अधिकारियों के सामने पुलिस और एसपी के खिलाफ नारेबाजी होती रही।
चार जगहों के तोड़े बैरिकेट्स
प्रदर्शनकारी गांधी चौक में लाठीचार्ज की घटना के बाद आक्रोशित हो गए। पुलिस ने गांधी चौक, पोस्ट आफिस, जिला जेल, राजेन्द्र टाकीज के नजदीक बैरिकेट्स लगाकर भीड़ को रोकने का प्रयास किया लेकिन प्रदर्शनकारी बैरिकेट्स गिराते हुए कलेक्ट्रेट पहुंच गए। चकाजाम के प्रयास से यातायात भी बाधित रहा।

भीड़ में घुसे एसपी, धकेला और फिर पुलिस ने बरसाई लाठियां
गांधी चौक में प्रदर्शन के दौरान एसपी कुमार सौरभ भीड़ में जा घुसे। प्रदर्शन बढ़ता देख एसपी ने भीड़ को धुक्कामुक्की की। हालात बेकाबू होते देख एसपी के साथ मौजूद पुलिस जवानों ने लाठियां बरसानी शुरू कर दी। पुलिस प्रदर्शनकारियों को खदेड़ते हुए लाठीचार्ज किया। इस दौरान प्रदर्शन कर रहे शेखर मिश्रा डब्बू के सिर फूट गया। उधर दो अन्य लोगों को भी चोट आई है। शेखर मिश्रा को अस्पताल में भर्ती कराया है। लोगों का आरोप था कि एसपी भीड़ में नहीं आते तो मामला नहीं बढ़ता।
प्रदर्शनकारियों का आरोप : एसपी ने देखते ही कहा, लाठी चलाओ
प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि एसपी कुमार सौरभ के निर्देश पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया है। प्रदर्शनकारियों ने आरोप लगाया है कि घायल शेखर मिश्रा को देखते ही एसपी ने पूछा यही है मिश्रा और मौजूद पुलिस को लाठीचार्ज के निर्देश दे दिए। प्रदर्शनकारी एसपी को तत्काल हटाने की मांग पर अड़े रहे। बाद में अधिकारियों ने कार्रवाई का आश्वासन दिया।
जांच के दिए हैं निर्देश
घटना के संबंध में जांच के निर्देश दिए हैं। जांच अधिकारी नियुक्त किए गए हैं। जांच के लिए बिंदु निर्धारित किए गए हैं। रिपोर्ट आते ही दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी।
अनुभा श्रीवास्तव, कलेक्टर।

जांच कराई जा रही है, कार्रवाई होगी
प्रदर्शन के दौरान पुलिस द्वारा लाठी चार्ज की शिकायत सामने आई है। मामले की जांच कराई जा रही है। लाठीचार्ज की घटना मिलने पर जांच के बाद दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
आईपी कुलश्रेष्ठ, आईजी पुलिस रेंज शहडोल।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned