धोखा देकर हड़प ली जमीन-

मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत ने सुनी लोगों की समस्याएं

By: lavkush tiwari

Published: 27 Nov 2019, 10:00 AM IST

शहडोल. सीइओ जिला पंचायत पार्थ जायसवाल एवं एडीएम अशोक ओहरी ने मंगलवार को कलेक्ट्रेट सभागार में जिले के दूर-दराज से आए लोगों की जन सुनवाई में समस्याएं सुनी और उनके आवेदन लिए तथा समस्याओं के शीघ्र निराकरण के लिए संबंधित विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए।
धोखा देकर हड़प ली जमीन-
कुमारी महिमा सिंह आत्मज अजय सिंह निवासी ग्राम झगरहा वार्ड नम्बर 20 ईटा भट्टा ने शिकायत देकर बताया कि आराजी खसरा नम्बर 1292 रकबा 0.348 हेक्टेयर में हमारे पिता अजय सिंह व उनके चाचा रामधनी सिंह बराबर के हिस्सेदार हैं। रामधनी सिंह ने मोहम्मद रब्बानी से मिलकर धोखे से मेरे पिता से हस्ताक्षर करवाकर उक्त जमीन को अमराडण्डी निवासी हरदेव पाल को बिक्री कर दिया। जिसकी जानकारी मिलने से उक्त जमीन की रजिस्ट्री निरस्त करने व क्रेता के नाम नामांतरण नही करने की मांग की। उनके आवेदन को एसडीएम सोहागपुर को नामांतरण रूकवाने के निर्देश दिए।
कुल्हाडी लगने से घायल- इलाज कराने की मांग
ग्राम पिपरतरा तहसील बुढ़ार निवासी कमलेश विश्वकर्मा ने आवेदन देकर बताया कि12 जुलाई को महेन्द्र गर्ग ने मुझे कुल्हाड़ी मारकर घायल कर दिया और आर्थिक तंगी के कारण मंै उपचार कराने में असमर्थ हंू। उनके आवेदन को सीएमएचओ की ओर भेज कर आवश्यक उपचार कराए जाने के निर्देश दिए।
भारी भरकम बिल सुधार कराने मांग-
ग्राम मंझगवा तहसील सोहागपुर निवासी शिवलाल रजक ने आवेदन देकर बताया कि हमारे घर में मीटर क्रमांक 564306-72-4-1572763 विद्युत मण्डल द्वारा लगाया गया है। जिसमें कई महीनो से खपत से अधिक की राशि के देयक दिए जा रहे हैं। उसने बताया कि बिजली विभाग के अधिकारी मनमानी करते हुए इस महीने भी 4977 रुपए का बिल भेजा है, जबकि घर में इतनी विद्युत की खपत नहीं हो रही है। उनके आवेदन को कार्यपालन यंत्री एमपीईबी को आवश्यक सुधार करने व समुचित कार्रवाई करने के निर्देश दिए। इसी प्रकार ग्राम पिपरतरा तहसील बुढ़ार निवासी सूरज ढ़ीमर ने विकलांग पेंशन, शिवशंकर शर्मा ने भूमि विक्रय के लिए अनुमति संबंधी आवेदन दिया। इसी प्रकार अन्य आवेदको ने अपनी-अपनी समस्याओं से संबंधित आवेदन दिए गए।

lavkush tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned