कोविड 19 स्वास्थ्य कर्मियों को मिले सरकारी योजनाओं का लाभ

डॉक्टरों ने चिकित्सा शिक्षा मंत्री के सामने रखी मांगें, कोविड 19 स्वास्थ्य कर्मियों को मिले अलग से आरक्षण

By: Hitendra Sharma

Published: 09 Jan 2021, 07:57 AM IST

शहडोल. चिकित्सा शिक्षा मंत्री के दौरे पर मेडिकल टीचर्स एसोसिएशन के डॉक्टरों ने मंत्री के सामने कई मां ग रख दी। मंत्री विश्वास सारंग को ज्ञापन सौंपकर कहा कि नेशनल पेंशन स्कीम 2005 के वित्त विभाग के आदेश एवं 2013 के चिकित्सा शिक्षा विभाग के आदेश होने के बाद भी नेशनल पेंशन स्कीम का नियमानुसार क्रियान्वयन नहीं किया गया। इसलिए इसका क्रियान्वयन किया जाए।

कोरोना के गंभीर महामारी में सेवा प्रदान करने वाले डॉक्टरों का भोजना भत्ता एवं प्रोत्साहन राशि प्रदान किया जाए। आदिवासी एवं दुर्ग क्षेत्र में स्थापित मेडिकल कॉलेज में भी चिकित्सा शिक्षकों को आदिवासी क्षेत्र भत्ता प्रदान किया जाए। सातवें वेतनमान का वास्तविक लाभ राज्य के अन्य कर्मचारियों की तरह एक जनवरी 2016 से प्रदान किया जाए। प्रावेट प्रेक्टिस करने वाले चिकित्सा शिक्षकों को भी आयुष्मान योजना का लाभ दिया जाए। 300 दिन का अवकाश नगदीकरण आर्दश सेवा नियम 2018 में चिकित्सा शिक्षकों को वर्तमान नियमानुसार अधिकतम 300 दिन के अर्जित अवकाश का प्रावधान करने व अवकाश को नकदीकरण किया जाए। शासकीय कर्मचारियों के समान ग्रेजुइटी लाभ अन्य शासकीय कर्मचारियों के समान स्वशासी संस्था के अधीन नियुक्त चिकित्सा शिक्षकों के लिए भी ग्रेजुइटी का लाभ करें।

वैज्ञानिकों की मेहनत पर फेर रहे पानी
मेडिकल कॉलेज शहडोल के निरीक्षण पर पहुंचे चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कोरोना वैक्सीन को लेकर उठाए जा रहे सवालों के जवाब में विपक्ष को जमकर घेरा। मंत्री ने कहा कि कांग्रेस के नेता राजनीतिक रोटियां सेकने के लिए वैज्ञानिकों की मेहनत पर पानी फेर रहे हैं। यदि कांग्रेस के नेता वैज्ञानिकों से ज्यादा गुणवत्ता रखते हैं तो इस पर कोई टिप्पणी नहीं की जा सकती है। मंत्री सारंग ने कहा कि कांग्रेस के नेता वैज्ञानिकों की मेहनत पर सवाल उठा रहे हैं। जबकि वैज्ञानिकों ने दिन रात मेहनत करके वैक्सीन बनाई है। आईसीएमआर पर देश में आज तक कोई दाग नहीं लगा है लेकिन कांग्रेस के नेता इस पर सवाल उठाकर दिन रात मेहनत करने वाले वैज्ञानिकों पर सवाल उठा रहे हैं। इस तरह के सवालों पर कोई टिप्पणी नहीं की जाए तो ही अच्छा रहेगा।

 

Hitendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned