प्राणवायु का संकट: सुबह तक के लिए एलएमओ, नहीं पहुंचा वाहन, सिलेंडर के भरोसे मरीज

व्यवस्था में जुटा मेडिकल कॉलेज प्रबंधन, सिलेंडर से मरीजों को प्राणवायु देने का प्रयास, प्रशासन भी अलर्ट
मेडिकल कॉलेज प्रबंधन ने किया पत्राचार

By: Ramashankar mishra

Published: 26 Apr 2021, 12:34 PM IST

शहडोल. मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन को लेकर समस्या लगातार बनी हुई है। अस्पताल में भर्ती लगभग 360 से अधिक मरीजों के इलाज में ऑक्सीजन की कमी बाधा न बने इसके लिए मेडिकल कॉलेज प्रबंधन व्यवस्थाओं में जुटा हुआ है। फिलहाल मेडिकल कॉलेज प्रबंधन के पास सोमवार सुबह तक के लिए ही एलएमओ उपलब्ध है। ऑक्सीजन वाहन टैंक जो आना था वह भी नहीं आ पा रहा है। ऐसे में प्रबंधन डी टाइप सिलेण्डर से मरीजों को प्राणवायु देने की व्यवस्था में जुटा हुआ है। साथ ही प्रबंधन ने एलमएओ टैंक के लिए पत्राचार भी किया है। ऑक्सीजन वाहन न आने की वजह से लगातार मरीजों के इलाज को लेकर संकट बना हुआ है। ये अव्यवस्था प्रबंधन के सामने बड़ी चुनौती बन रही है।
मेडिकल कॉलेज प्रबंधन ने किया वाहन के लिए पत्राचार
ऑक्सीजन टैंक उपलब्ध कराने में लगातार लेट-लतीफी हो रही है। जिसे देखते हुए मेडिकल कॉलेज प्रबंधन द्वारा ऑक्सीजन टैंक उपलब्ध कराने के लिए पत्राचार किया गया है। जिससे कि समय पर उन्हे ऑक्सीजन टैंक उपलब्ध हो सके। पूर्व में भी प्रबंधन ने पत्राचार किया था। इसके बाद 25 से 26 अप्रेल के बीच ऑक्सीजन वाहन पहुंचना था लेकिन अब इसका आना टल गया है।
रविवार शाम तक आना था टैंक, फिर टला
मेडिकल कॉलेज में स्थापित 10 हजार लीटर का ऑक्सीजन टैंक शनिवार को खाली हो गया था। जिसे देखते आनन - फानन रीवा से पांच हजार मीट्रिक टन ऑक्सीजन उपलब्ध कराई गई थी। जिससे टैंक आधा ही भर पाया था। वहीं रविवार शाम तक बोकारा (झारखंड) से आना था। बताया जा रहा है कि शहडोल के लिए निकला यह टैंक यहां तक नहीं पहुंच पाया और अभी सोमवार को भी यहां पहुंचने की संभावना नहीं है। रविवार को आने वाले ऑक्सीजन वाहन भी अभी नहीं पहुंचेगा।
360 मरीज भर्ती, 526 ऑक्सीजन सिलेंडर
मेडिकल कॉलेज में रविवार शाम तक लगभग 360 मरीज भर्ती थी। जिनके लिए सतत प्राणवायु सप्लाई होती रहे इसके लिए प्रबंधन द्वारा ऑक्सीजन सिलेण्डर से उपलब्धता के प्रयास किए जा रहे हैं। मेडिकल कॉलेज के पास मौजूदा स्थिति में 526 ऑक्सीजन सिलेण्डर उपलब्ध है। जिन्हे वैकल्पिक व्यवस्था बनाते हुए रिफलिंग कराकर आवश्यक व्यवस्था करने के प्रयास किए जा रहे हैं।
इनका कहना है

सोमवार सुबह तक एलएमओ उपलब्ध है। ऑक्सीजन टैंक उपलब्ध कराने पत्राचार किया गया है। जब तक टैंक नहीं आता तब तक ऑक्सीजन सिलेण्डर की मदद से लगातार ऑक्सीजन सप्लाई की व्यवस्था बनाई गई है। जिससे कि किसी भी प्रकार की अप्रिय स्थिति निर्मित न होने पाए।
डॉ. मिलिन्द शिरालकर, डीन मेडिकल कॉलेज शहडोल।

Show More
Ramashankar mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned