घर में रहकर अपनाई सुरक्षा, सर्दी-खांसी व बुखार से रहे दूर

एंटीबायोटिक की घटी बिक्री

By: shubham singh

Updated: 22 Jun 2020, 01:04 PM IST

शहडोल। कोरोना के लॉकडाउन का कई जगहों में सकारात्मक असर भी पड़ा है। लॉकडाउन में लोग ज्यादा घरों से बाहर नहीं निकले और सुरक्षा अपनाई तो वायरल से दूर रहे। स्थिति यह हुई थी सर्दी खासी बुखार के मरीज ही घट गए। इधर जिले में लॉकडाउन के दौरान शुगर, बीपी और हार्ट की दवाइयों की मांग काफी बढ़ गई थी। अभी भी यह सिलसिला बना हुआ है। संक्रामक बीमारियों के उपचार से जुड़ी दवाइयों की बिक्री में काफी गिरावट आई है। शहर की बड़ी फार्मेसी चेन के संचालक ने बताया कि अप्रैल से लेकर मई तक में डायबिटीज, बीपी और हार्ट संबंधित दवाइयों के मांग में २० प्रतिशत तक इजाफा हुआ है। इसका कारण इन मरीजों का दवाइयों का नहीं मिलने का भय है। डायबिटीज, बीपी और हार्ट से संबंधित दवाइंयों की बिक्री बढ़ी है। वहीं संक्रामक रोगों से संबंधित एंटीबायोटिक दवाइयों की बिक्री में बड़ी गिरावट आई है। डायबिटीज, बीपी और हार्ट से संबंधित दवाइंयों की बिक्री बढऩे की वजह इन मरीजों का एक साथ तीन से चार माह की दवाइयां लेना है। मेडिसिन कॉर्नर के विक्रेता उमर फारूख ने कहा कि कोरोना संक्रमण के चलते लोग इस समय अपने घरों में रह रहे हैं तथा मास्क का उपयोग कर रहे हैं। इससे लोग वायरल इंफे.शन से बच रहे हैं। इसके चलते संक्रामक बीमारियों से जुड़ी दवाइयों की बिक्री घट गई है।


घर में रहने के चलते लोग कम हो रहे बीमार
वहीं जिले में संक्रामक बीमारियों के उपचार से जुड़ी दवाइयों की बिक्री में बड़ी गिरावट आई है। सर्दी,खांसी सहित अन्य एंटीबायोटिक दवाइयां जिनकी बड़ी संख्या में बिक्री होती थी। मेडिकल स्टोर में पड़ी हुई हैं। इन दवाइयों की बिक्री जिले में ३० प्रतिशत तक कम हो गई है। डॉ इसका कारण लोगों का घर में रहना बता रहे हैं। डॉ धर्मेद्र द्विवेदी ने कहा कि कोरोना और लॉकडाउन के चलते लोग अपने घरों में रह रहे हैं। लोगों के दिनचर्या में भी बदलाव हुआ है। लोग मास्क का उपयोग कर रहे हैं। इस कारण लोग वायरल इंफे.शन से बच रहे हैं। चूंकि अभी प्राइवेट डॉक्टर नहीं बैठ रहे हैं इसलिए किसी को हल्का सर्दी-जुकाम हो रहा है तो उसके लिए दवाइयां नहीं ले रहे हैं।

shubham singh Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned