कोरोना का साया, 18 बंदियों की घर में मनेगी दीपावाली

साधारण अपराधों के छोड़े गए हैं बंदी

By: amaresh singh

Published: 13 Nov 2020, 09:26 PM IST

शहडोल। कोरोना के चलते बंदियों की बल्ले-बल्ले हो गई है। कोरोना के चलते जिला जेल से बंदियों को छोड़ा जा रहा है। इसके इन बंदियों की दीपावली अपने घर में ही मनेगी। जिला जेल से 15 बंदियों को छोड़ा जा चुका है। इन बंदियों को न्यायालय के आदेश पर तीन माह के लिए छोड़ा गया है। जिला जेल प्रबंधन ने 37 बंदियों का आवेदन भेजा था। इसमें से न्यायालय ने साधारण अपराध वाले 15 बंदियों को जमानत पर छोड़ दिया है। जिन बंदियों को छोड़ा है, उनको अधिकतम सजा पाचं साल की हो सकती है।
कलेक्टर एवं महानिदेशक जेल के आदेश पर तीन बंदी छूटे
कलेक्टर के आदेश पर जिला जेल से दो बंदी तथा महानिदेशक जेल के आदेश पर एक बंदी को छोड़ा गया है। तीनो बंदियों को 240 दिन के लिए छोड़ा गया है। इस तरह जिला जेल से कुल 18 बंदियों को छोड़ा गया है। 15 बंदियों की जब तीन माह का समय पूरा हो जाएगा। तब इन्हें फिर न्यायालय में पेश किया जाएगा। इसके बाद इनकी समय अवधि छोडऩे का फैसला न्यायालय करेगा।
जिला जेल में बंद हैं 417 बंदी
जिला जेल में वर्तमान में 417 बंदी बंद है जबकि जिला जेल की क्षमता 220 बंदियों की है। जेल में 13 पुरूष वार्ड हैं जबकि दो महिला वार्ड है। कोरोना के संक्रमण काल में जो नए बंदी जिला जेल में आते हैं। उनके पहले आइसोलेशन वार्ड में रखकर सैंपल लेकर जांच कराई जाती है। रिपोर्ट निगेटिव आने पर उन्हें 14 दिन के लिए क्वारंटीन वार्ड में रखा जाता है। इसके बाद जब उनमें कोई लक्षण नहीं दिखता है तब उन्हें सामान्य वार्ड में रखा जाता है।
इनका कहना है
जेल प्रबंधन ने 37 बंदियों को छोडऩे आवेदन भेजा था। इसमें से न्यायालय ने 15 बंदियों को तीन माह के लिए छोड़ा है। दो बंदी कलेक्टर एवं एक बंदी जेल महानिदेशक के आदेश पर छोड़े गए हैं।
हरपाल सिंह राठौर, प्रभारी उपजेल अधीक्षक

coronavirus What is Coronavirus?
amaresh singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned