पिछले वर्ष किए गए पौध रोपण की गेप फिलिंग भरेगा जिला पंचायत, लगाए गए थे तीन लाख पौधे

कुछ सूख गए तो कुछ खा गए मवेशी

By: shivmangal singh

Published: 24 Jul 2018, 01:42 PM IST

पिछले वर्ष किए गए पौध रोपण की गेप फिलिंग भरेगा जिला पंचायत, लगाए गए थे तीन लाख पौधे

शहडोल. जिला पंचायत इस बरसात में नए जगहों पर पौधरोपण नहीं कराएंगा। इसके लिए सभी जनपदों और पंचायतों में आदेश जारी किए जा चुके है। जिला पंचायत द्वारा इस वर्ष पिछले साल किए गए पैाधरोपण की गेप फिलिंग भरी जाएंगी। इसके तहत दस हजार पौधे लगाए जाएंगे।
जिला पंचायत द्वारा पिछले वर्ष तीन लाख पौधे लगाए गए थे। जिसमें स्कूल परिसर, तालाब मेंड़, सरकारी कार्यालय और जिले के हर पंचायत परिसर शामिल रहे। जिसमे जो पौधे सूख गए है उन स्थानों में फिर से पौधे रोपे जाएंगे। जिसकी तैयारी कर ली गई है। जिला पंचायत के पौध रोपण प्रभारी अशोक शुक्ला ने बताया कि गेप फिलिंग के तहत 50 यूनिट पोधे का इंतजात किया गया है। जिसे रोपने के लिए जिला स्तर से लेकर पंचायत स्तर के कर्मचारियों का सहयोग लिया जाएगा। गेप फिलिंग भरने के पहले पोधों के सुरक्षा का पूरा इंतजाम किया जाएंगा।
कुछ सूख गए तो कुछ खा गए मवेशी
पिछले वर्ष लगाएं गए पौधे में कुछ सूख गए तो कुछ को मवेशी खा गए है। लगाए गए पौधों में 50 फीसदी से भी कम जीवित है। जबकि ग्राम पंचायत स्तर पर पोधे के रखवाली के लिए लाखों की राशि भी खर्च की जा चुकी है। गांव गावं में पौध रक्षक तैयार किए गए थे। जिनके लिए मजदूरी के साथ रखवाली सामग्री के उपलबध कराने का प्रावधान रखा गया था। इसके बाद भी रोपे गए जगहों पर हरियाली नजर नहीं आती। अधिकांश जगहों पर पौध रक्षकों का भी कोई पता नहीं रह गया है। संभागीय मुख्यालय के समीपी एक दर्जन पंचायतों में किए गए पोधरोपण का स्थल ही पहचान खो चुका है। इजना ही नहीं जिले के अधिकांश पंचायतों और स्कूल परिसर में लगाए गए पोधे नदारत है।
तरंग ग्राम में 5100 रोपे गये पौधे
धनपुरी . बुढार से 30 कि.मी. दूरी सोहागपुर जनपद के अंतिम छोर में बसे तरंग गांव में विगत दिवस वृक्षारोपण में आयोजित कार्यक्रम को लेकर उद्योगपति सरदार केसर सिंह छाबडा , सुभाष गुप्ता, वरिष्ठ समाजसेवी चन्दू अग्रवाल (भारती प्रेस) राजेश बडेरिया, पवन अरोडा (छोटू) , आतमजीत सिंह छाबडा (टिंकू) उद्योगपतियो ने गांव के सरपंच के साथ दर्जनों ग्रामवासियों एवं विकास शुक्ला , संतोष कचेर , बत्तू सिंह दादा ने 5100 वृक्षारोपण किये जिसमें आम , जामुन , नीम , पीपल , बरगद , लीची, अनार, यूके लिपटिस के साथ कई फलदार पौधे लगाकर शुद्ध हवा एवं जल के लिये भरसक प्रयास किये गये है इस वृक्षारोपण से क्षेत्र में खुशहाली का माहौल देखा गया ।

shivmangal singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned