किसानों के हक पर डाका, बिचौलिए बेंच रहे धान

580 बोरी धान जब्त, बुढ़ार क्षेत्र का मामला

By: Ramashankar mishra

Published: 07 Jan 2019, 09:00 AM IST

किसानों के हक पर डाका, बिचौलिए बेंच रहे धान
580 बोरी धान जब्त, बुढ़ार क्षेत्र का मामला
बुढ़ार क्षेत्र के सिधली धान खरीदी केन्द्र का मामला
फोटो-१२
शहडोल. खाद्य विभाग की टीम ने रविवार की दोपहर बुढ़ार क्षेत्र के सिधली धान खरीदी केन्द्र में छापेमार कार्रवाई करते हुए 580 बोरी अवैध तरीके से बेंचने की फिराक में रखी गई धान जब्त की है। धान खरीदी केन्द्र प्रभारी सुनील कुमार ने खाद्य विभाग की टीम को बताया कि उक्त धान हथगला निवासी सूरज द्विवेदी द्वारा जबरिया खरीदी के लिए केन्द्र में लाई गई थी और उनके द्वारा खरीदी के लिए दबाव बनाया जा रहा था। वहीं सूरज द्विवेदी ने मौके पर अधिकारियों से अपनी धान नहीं होना बताया जा रहा है। इस संम्बन्ध में खाद्य अधिकारी ने मौके पर पाई गई संदिग्ध धान की खरीदी और तौल नहीं करने के निर्देश दिए गए हैं। खाद्य अधिकारी ने धान का तौल कराकर खरीदी केन्द्र में धान रखने के निर्देश दिए हैं। खाद्य अधिकारी एमएनएच खान ने बताया कि धान खरीदी केन्द्र सिधली में बिचौलियों द्वारा अवैध तरीके से बिक्री के लिए लगभग ५८० बोरी धान रखाई गई थी निरीक्षण के दौरान उक्त धान को जब्त कर मामले की जांच की जा रही है। इस मामले में बिचौलिये के विरुद्ध खाद्य अधिनियम के तहत कार्रवाई की जाएगी।
-----
बिना अनुमति कटवा दिए हरे भरे पेड़
मामला संभागीय उपायुक्त जनजातीय सरकारी आवास का
शहडोल. नगर के पाण्डवनगर वार्ड नंबर 9 स्थित संभागीय उपायुक्त जनजाति एवं अनुसूचित जाति विकास के शासकीय आवास ई-टाइप परियोजना के आवास में लगे हरे वृक्षों का कत्लेआम कर दिया गया और जब मामला लोगों के संज्ञान में आया तब आनन फानन उपायुक्त ने नपा और एसडीएम, पीडब्लूडी एसडीओ, एसडीओ वन विभाग सहित पार्षद को पत्र लिखकर वृक्ष काटने की अनुमति मांगी। इस तरह जहां शासन द्वारा पर्यावरण और प्रदूषण को बचाने का सतत प्रयास किया जा रहा है, वहीं जवाबदार अधिकारी ठंड से बचने और धूप लेने के लिए हरे भरे वृक्षों का कत्लेआम करा रहे हैं। संभागीय उपायुक्त जेपी सरवटे ने 2जनवरी को लिखे पत्र में अनुमति चाही है, जिसमें उल्लेख किया गया है कि आवास में 20 कुल पेड़ हैं, जिसमें 11 पेंड़ जीर्ण शीर्ण और घने होने के कारण सूर्य की रोशनी नहीं मिलने से परिवार के लोग अस्वस्थ हो रहे हैं। इस मामले में जहां नपा सीएमओ एके तिवारी ने बताया कि इस मामले की जानकारी मेरे समक्ष अभी नहीं आई है। वहीं संभागीय उपायुक्त जनजातिय विभाग जेपी सरवटे ने कहा कि हमने पत्र लिखा है, हमने पेड़ नहीं कटवाया बल्कि नपा के कर्मचारियों ने ही पेड़ कटवाए और छटवाए हैं।

Ramashankar mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned